Unfortunate Love - 30 in Hindi Love Stories by Veena books and stories PDF | अनफॉरट्यूनेटली इन लव - ( ब्रेकउप _३) 30

अनफॉरट्यूनेटली इन लव - ( ब्रेकउप _३) 30

गन ने शुरुवात मे काफी इन्कार किया। लेकिन जब उनके होठ १ इंच की दूरी पर थे। अब गन भी उस के साथ बहक गया था। एक प्यार भरा किस बस होने ही वाला था....... के तभी नियान फिर से उसकी बाहों मे सो गई।

गन ने चैन की सांस ली। " क्या करने जा रहा था में ?? वो नशे मे है, में नहीं।" उसने अपने सर पे हाथ लगाते हुए कहा। फिर नियान को सोफे पर रख। वो उसे घूरने लगा। "अपनी २९ साल की जिदंगी मे आज तक किसी को छुने का हक नही दिया मैने। क्यो हर बार बहका देती हो तुम मुझे? जब से जिंदगी मे आई हो में बदलने लगा हु। नही जानता क्या कर रही हो तुम मेरे साथ , पर कुछ तो खास है तुम मे। आराम करो में आता हु।"

वो पास के कमरे मे जाकर उसका सारा सामान ले आया। उसने उसका मोबाइल ढूंढ कर एक नंबर लगाया।

" हैलो मेरी जान। तो क्या चल रहा है अभी जिंदगी मे ? तुम दोनो के बीच आगे कुछ हुवा क्या ???" ब्लूबेरी ने बिना कुछ सोचे समझे अपनी बाते शुरू कर दी।

" हैलो।" नियान के फोन पर किसी मर्द की आवाज सुन वो डर गई।

" हैलो। कौन बात कर रहा है ? ये फोन तुम्हारे पास कैसे ?" ब्लू बेरी ने सवालों की बारिश शुरू कर दी।

" में हान शंग्यान बोल रहा हूं। ब्लूबेरी मुझे थोड़ी मदद चाहिए थी।" उसके बाद उसने सारी बाते उसे समझाई और आधे घंटे मे नियान के घर के बाहर मिलने का वादा लिया।

" हनी। क्या हुवा ?? इतनी डरी हुई क्यो लग रही हो ??? किसका फोन था ??" ब्लू बेरी के पति ने पूछा।

" नियान के फोन पर हान शंग्यान था।" ब्लू बेरी ने अपनी बिखरी हुई आवाज मे कहा।

" मतलब ??? हान शंग्यान उर्फ गन। मेरा आइडल ??? क्या तुमने उस से बात की ???" उसके पति ने उत्सुकता से पूछा।

" हा। उसने नियान को शराब पिला दी है। और अब वो चाहता है, में उसे घर ले जावू। उसके माता पिता को बताऊं की उसने हमारे साथ गलती से शराब पी। आ...." उसने रोते हुए कहा।

" तो चलो। मेरे हीरो को हमारी जरूरत है। हमे मदद करनी चाहिए।" उसके पति ने उसे समझाया।

" उसकी गलती की सजा में क्यो भुगतु ?? नियान की मम्मी क्या सोचेगी ?? मुझे डाटेंगी सो अलग।" ब्लू बेरी अभी भी भ्रम मे थी।

" अरे वो मेरे हीरो के बारे मे गलत सोचे उस से तो हमे थोड़ा डाट दे तो अच्छा होगा। बैठी क्या हो ??? चलो हमे उसे इंतेजार नही कराना चाहिए।" उसने कपड़े बदलते हुए कहा।

यही तो असर था, हान शंग्यान के पॉपुलैरिटी का। उसके प्रशंसक उसके लिए कुछ भी कर सकते थे। ब्लू बेरी और उसका पति रॉय ५ मिनट पहले पोहोच कर, गन का इंतेजार कर रहे थे। कुछ ही देर मे गन की गाड़ी वहा आकार रुकी।

" हेलो। में रॉय। में आपका बोहोत बड़ा प्रशंसक हूं।" उसने सीधा गन को रोते हुए गले लगा लिया। " आप बेस्ट है गन। अगर आप रिटायर नही होते, तो अभी इस पूरी दुनिया में आप जैसा महान खिलाड़ी कोई नही था।" गन ने उसे मुस्कुराते हुए शुक्रिया कहा। उसने गन से एक तस्वीर की मांग की। गन ने उसे बिलकुल मना नहीं किया।

" तो तुम्हे पता है ना क्या कहना है ??? " गन ने ब्लू बेरी और रॉय से पूछा।

" हा हमे याद है।" रॉय का जवाब तैयार था।

" मुझे तुम्हारा नंबर मिल सकता है। अगर कभी जरूरत पड़ी तो हम कॉन्टेक्ट कर सकते है।" गन ने मोबाइल निकलते हुए कहा।

" हा। हा । क्यो नही जरूर।" रॉय के लिए इस से ज्यादा बड़ी खुशी की बात कोई हो ही नही सकती।

गन ने नियान का सामान रॉय के हाथो मे दिया और नियान को खड़ा कर ब्लू बेरी को थमा दिया। फिर घर की घंटी बजा कर खुद कोने मे खड़ा हो गया। जिस से की वो नियान को घर मे जाते देख सके पर उस के घरवाले उसे ना देख पाए।

ब्लू बेरी ने सारा मामला संभाल लिया और नियान अच्छे से अपने घर पोहोच ही गई।

दूसरे दिन दोपहर जब वो उठी। पहले तो अपने आप को घर मे देख चौक गई। फिर उसने अपना मोबाइल ढूंढा। उस पर उसे एक पर्ची मिली।

" प्यारी स्क्विड,
जैसे ही उठो, सब से पहले मुझे कॉल करना।
तुम्हारी
ब्लू बेरी।"

उसने सब से पहला फोन ब्लू बेरी को लगाया। ब्लू बेरी ने उसे सारी बाते समझा दी। किस तरह गन ने उसे वहा छोड़ा, किस तरह उन्होंने झूठ बोला और किस तरह नियान को अपने परिवार से यही बाते कहनी है।

" सुनो, तुम्हारा बोहोत शुक्रिया। तुम्हारी वजह से रॉय अपने आइडल से मिल पाया। उसने तुम्हे मैसेज देने को कहा है। उसने कहा, प्लीज गन को हमेशा खुश रखना। हमेशा उस के साथ रहना। शुक्रिया नियान। " ब्लू बेरी के इतने लंबे भाषण पर भी सिर्फ हा मे सर हिलाकर उसने फ़ोन रख दिया।

नियान के दिमाग मे अभी भी कल रात की सारी बाते घूम रही थी। कहते है, शराब पीने के बाद शराबी को उसने क्या किया ये कभी याद नही रहता। पर नियान के साथ उल्टा था। उसे उसकी सारी हरकते याद थी। किस तरह उसने अपने आप को गन पर थोपने की कोशिश की। किस तरह गन ने उसे तोहफा दिया और किस तरह उसे अपने से दूर किया। रुको वो तोहफा...
उसने तुंरत अपनी बैग चेक की। उस में उसे वो बक्सा मिला। जिस मे एक हार था, लाल रूबि जड़ा हुवा प्लेटिनम का सेट। हाला की नियान के हिसाब से वो किसी बुजुर्ग महिला पर ज्यादा अच्छा लगता लेकिन क्योंकि गन ने उसे दिया है। वो जरूर पहनेगी। लेकिन अब क्या ??? क्या वो उस से नाराज होगा??? अपने दिमाग मे संदेह लाते हुए उसने अपने मोबाइल से उसे मैसेज भेजा।

"हैलो। कल के लिए में बोहोत शर्मिंदा हूं। मुझे माफ कर दो।"


" घर सही सलामत पोहचाने के लिए शुक्रिया। और अपनी हद पार करने के लिए सॉरी।"

आधे घंटे बाद भी उसके मैसेज का कोई जवाब नही आया। वो अपने पश्चाताप मे ये भी भूल गई, के जिस से वो जवाब की उम्मीद कर रही है। वो उनके देश के सबसे बड़े क्लब का मालिक और ट्रैनर दोनो है। जिसे सोने के लिए भी मुश्किल से वक्त मिलता है। अब जवाब ना मिलने की वजह से उसे रोना आ रहा था। उसने मोबाइल बाहर निकाला और फिर से एक मैसेज भेजा।

" मुझे लगता है, हमे अब इस रिश्ते को तोड़ देना चाहिए ?"

मीटिंग मे बार बार बज रहे अपने मोबाइल को गन ने आख़िर कार देखा। जिस मे से उसने सिर्फ आखरी भेजा हुवा मैसेज पढ़ा और जवाब दिया।

" क्या तुम्हे लगता है यही सही समय है???"

गन का आया मैसेज देख नियान के आसू रुकने का नाम नहीं ले रहे थे। लेकिन अपनी कल की गलती की वजह से उसे गन के सामने जाने की हिम्मत नही हो रही थी। तो उसने मर्जी ना होते हुए भी जवाब दिया

" हा। यही सही समय है।"

उसका जवाब देख अब गन को बैचैनी महसूस होने लगी थी।
" ठीक है।"

सिर्फ इन दो शब्दों से वो रिश्ता वही खत्म हो गया।

एक के आसूं थे, जो अब रुकने का नाम नहीं ले रहे थे। दूसरा समझ नही पा रहा था, की उसे अजीब सी बेचैनी क्यो महसूस हो रही है।

क्या रिश्ते सच मे इतने कमजोर होते है ??? कुछ शब्द किसी का प्यार आपके दिल से मिटा देते है। सच कहते है, शब्द भी तलवार की तरह होते है। दिल चीर देते है।


Rate & Review

Jinal Rajat Patel

Jinal Rajat Patel 10 months ago