Ahsaas pyar ka khubsurat sa - 31 in Hindi Novel Episodes by ARUANDHATEE GARG मीठी books and stories PDF | एहसास प्यार का खूबसूरत सा - 31

एहसास प्यार का खूबसूरत सा - 31


आरव ने अपनी सीट से खड़े होकर, अपने आस पास सभी जगह देखा , पर उसे आदित्य और सौम्या कही नहीं दिखे । उसे लगा , कि हो सकता है दोनों चेंज करने गए हो । यही सोच कर वह वापस अपनी सीट पर बैठ गया । और फंक्शन इंजॉय करने लगा ।

इधर आदित्य सभी से छुप कर , सौम्या को खींचकर, वहीं ऑडिटोरियम के एक रूम में लाया , और रूम में आकर उसने दरवाज़ा अंदर से लॉक कर दिया । सौम्या हैरानी और घबराहट से उसे देख कर, तेज़ आवाज़ में बोली ।

सौम्या - आदि.......। व्हाट इज दिस???? क्यों लाए हो तुम मुझे यहां ??? कोई प्रॉब्लम है क्या ????

आदित्य ने सौम्या के पास आकर , उसका मुंह अपने एक हाथ से बंद किया और फिर उसे पीछे दीवार से टिका कर , जस्ट सौम्या के सामने, उससे सट कर , उसके करीब खड़ा हो गया । सौम्या नासमझी से उसे, आंखें बड़ी - बड़ी करते हुए, उसका हाथ अपने मुंह से हटा कर बोली ।

सौम्या ( थोड़ी धीमी और घबराई हुई से आवाज़ में ) - क्या हुआ है , तुम इस तरह से मुझे शांत क्यों करा रहे हो??? हैव एनी प्रॉब्लम आदि....!!!!????

आदित्य ( अपने आंखों में सौम्य की खूबसूरती का खुमार लिए हुए , और अपने हाथ की एक उंगली को सौम्या के गालों पर चलाते हुए बोला ) - बहुत बड़ी प्रॉब्लम है , मिसेज सौम्या आदित्य सिंघानिया टू हेप्पैन ........।

सौम्या ( आदित्य के इंटेशन को समझ कर , शरारत से मुस्कुराते हुए कहती है ) - ओह......, ऐसा है ....., ( आदित्य ने मासूम सी शक्ल बना कर हामी भरी , तो सौम्या ने अपनी बाहें , उसके गले में डाल कर , बड़े ही प्यार से कहा ) तो बताइए जनाब , आप अपनी प्रॉब्लम.....।

आदित्य ( शरारत से मुस्कुराकर , सौम्या की बाहें , अपने हाथ में लेकर , सौम्या को और करीब कर कहता है ) - स्टेज पर सभी के सामने बहुत शरारत सूझ रही थी ना तुम्हें....!!! अब बताओ ......, मैं करूं तुम्हारे साथ शरारतें .....!!!???

सौम्या ( आदित्य के चेहरे के करीब आकर , उसकी आंखों में शरारत भरी मुस्कुराहट के साथ देखकर कहती है ) - करो ना , तुम अपनी शरारतें , मैंने तुम्हें कब मना किया है....😍😉 !!!???

आदित्य ( सौम्या की उंगलियों को , अपने हाथों में लेकर , सौम्या की परफ्यूम की खुशबू की मदहोशी में खोते हुए ) - अच्छा.........!!!!!

सौम्या ( आदित्य के गर्दन में , अपनी उंगलियां चलाते हुए ) - हम्ममम......।

सौम्या के इतना कहते ही , दोनों की बातें अब बंद हो जाती हैं । जबकि उनके एहसासों के साथ, दोनों की आंखें भी बोलने लगती हैं । आदित्य सौम्या को अपने बिल्कुल करीब कर , उसके गाल पर किस करता है , फिर उसके राइट इयर को , अपने लिप्स से किस करता है । सौम्या तो बस , अपनी बढ़ी हुई धड़कनों के साथ , आदित्य के द्वारा दिए गए मोहब्बत के एहसासों के इस पल को , अपने खूबसूरत लम्हों में समेट रही होती है । आदित्य सौम्या का चेहरा अपने दोनो हाथों में लेता है , और सौम्या के होठों पर अपने होंठ रखने के लिए अपना चेहरा उसके करीब करता है । सौम्या उसकी आंखों की गुस्ताखियों को समझ कर , आदित्य की बाहों की शर्ट पकड़ लेती है , और आंखें बंद कर लेती है । आदित्य धीरे - धीरे कर, सौम्या के होठों की ओर बढ़ता है , और जैसे ही वह सौम्या के होठों को , अपने होठों से छूने के लिए होता है , वैसे ही किसी के द्वारा दरवाज़ा पीटने की आवाज़ ,दोनों के कानों पर पड़ती है ।

आवाज़ को सुनकर , दोनों हड़बड़ा जाते हैं और सौम्या गुस्से से आदित्य को घूरती है , तो आदित्य कंधे उचाकर , इशारों में, "मुझे नहीं पता कौन है" कहता है । सौम्या आंखों के इशारों से ही उससे कहती है , कि "अब क्या करें ????", आदित्य उसे इशारों में कहता है , कि "रुको मैं कुछ सोचता हूं" । तभी एक बार फिर , दरवाज़ा पीटने की आवाज़ दोनों के कानों में पड़ती है । तो दोनों एक बार फिर हड़बड़ा जाते हैं , और आनन - फानन में आदित्य सौम्या को , बाथरूम में खुद को बंद करने के लिए कहता है । सौम्या उसके कहे अनुसार, बाथरूम में चली जाती है , और दरवाज़ा अंदर से लॉक कर लेती है । तभी आदित्य सौम्या को बाथरूम में , लॉक हुआ देख कर , एक लम्बी सांस लेता है और झट से दरवाजा खोलता है । दरवाज़े पर एक लड़का खड़ा होता है , जो शायद बीबीए फर्स्ट सेम का स्टूडेंट था । आदित्य उसे देख कर मुंह बनाता है और झल्लाते हुए उस लड़के से कहता है।

आदित्य - क्यों दरवाज़ा पीट रहा है भाई ??? दरवाज़ा तोड़ने की प्रैक्टिस कर रहा है क्या ???

लड़का - नहीं भैया .....!!!! मुझे अन्दर रूम से अपना बैग लेना था , इस लिए मैं दरवाज़ा खटखटा रहा था ।

आदित्य - ओके ले लो।

लड़का रूम के अंदर आता है , और अपना बैग उठा कर आदित्य से कहता है ।

लड़का - भैया....., आप तो वही हो ना , एमबीए फर्स्ट सेम के स्टूडेंट, जिन्होंने अभी थोड़ी देर पहले, एक सुंदर सी दी के साथ डांस किया था ।

आदित्य ( थोड़ा अपना रौब दिखाते हुए, अकड़ कर ) - हां ......, पर तुम क्यों पूछ रहे हो?????

लड़का - क्योंकि आप दोनों ने बहुत बढ़िया डांस किया था । ( सवालिया निगाहों से आदित्य को देखते हुए ) पर आप यहां क्या कर रहे हैं???? क्योंकि ये रूम तो , बीबीए , बीएससी , और बीकॉम के फर्स्ट सेम के बॉयज को दिया गया था , रेडी होने के लिए । पर आप तो एमबीए के स्टूडेंट हैं , फिर आप यहां .......!!!!!!????

लड़के की बात सुन आदित्य की अकड़, एक मिनट में हवा हो गई । पर तब भी उसने अपने अंदर कॉन्फिडेंस भर कर कहा ।

आदित्य ( अकड़ते हुए ) - मैं तुम्हारा सीनियर हूं ना ??? ( लड़के ने हां में सिर हिलाया, तो आदित्य ने कहा ) तो मैं चेक करने आया था , कि तुम लोग यहां पर मिलकर , मस्ती या आवारागर्दी तो नहीं कर रहे हो ।

लड़का ( आदित्य के कहने पर , सहमी हुई सी आवाज़ में कहता है ) - नहीं ....., नहीं ....., भैया !!!!! हम तो बस यहां रेडी हो रहे थे, और रेडी होने के बाद हम सभी अपने बैग्स यहां पर रख कर , बाहर फंक्शन में परफॉर्मेंस देने के लिए चले गए थे । हमने कोई मस्ती , कोई आवारागर्दी नहीं की है ।

आदित्य ( उसी तरह अकड़ कर ) - ठीक है ...., ठीक है । ले लिये अपने बैग्स???

लड़का - हां ......।

आदित्य - तो यहां खड़े क्यों हो...??? जाओ ........!!!!!

लड़के ने जब आदित्य की बात सुनी , तो सिर पर पैर रखकर, सीधे रूम से बाहर की ओर भाग गया । और आदित्य ने , मन ही मन भगवान को थैंक्यू कहा और जल्दी से दरवाजा लॉक कर , सौम्या को बाथरूम से बाहर निकाला । और जैसे ही उसे गले लगाने को हुआ , तो सौम्या ने उसे घूर कर देखा और उसे अपना दाहिना हाथ दिखा कर, खुद को गले लगाने से रोक दिया । और आदित्य से गुस्सा होने के साथ ही , उससे बिना कुछ कहे , अपना मुंह फुला कर , दरवाज़ा ओपन किया, और रूम से बाहर चली गई । सौम्या के ऐसे जाने से , आदित्य ने अपना सिर पीट लिया और खुद से रोती सी आवाज़ में कहा ।

आदित्य - कहां मैं अपनी खूबसूरत गर्लफ्रेंड से, रोमांस के पूरे मजे ले रहा था और कहां से वो लड़का , कबाब में हड्डी की तरह आ गया और मेरे पूरे कबाब को मुंह में जाने से पहले ही , बाहर निकाल दिया । अब कैसे मनाऊंगा मैं अपने कबाब को , ( खुद की जबान संभालते हुए ) मतलब कि , खुद की गर्लफ्रेंड, मेरी सौम्या डार्लिंग को .....।

इतना कह कर उसने मुंह बना लिया , साथ ही उस लड़के को खूब खरी - खोटी सुनाया और खुद भी पैर पटकते हुए रूम से बाहर आ गया ।

इधर रेहान रेडी होकर आ गया था । उसने लाइट ग्रीन कलर की शर्ट और ब्लैक कलर का जीन्स पहना हुआ था । वह उन कपड़ों में , बड़ा ही हैंडसम लग रहा था । अंशिका ने जब उसे देखा , तो उसकी आंखें चमक गई थी । रेहान सभी के पास आया , तो बाकियों के कहने से पहले ही, अंशिका अपनी चेयर से उठ कर उसके पास आयी, और उसने मुस्कुराते हुए रेहान से कहा ।

अंशिका - रेहान.......!!!!! आप बहुत हैंडसम लग रहे हैं , एकदम बॉलीवुड हीरो सिद्धार्थ मन्होत्रा की तरह ।

रेहान की , अंशिका के मुंह से, अपने लिए तारीफ सुनकर , आंखें चमक गई और होठों पर बड़ी सी मुस्कुराहट फैल गई । उसने मुस्कुराकर , अंशिका को देखते हुए थैंक्यू कहा । तभी वहां सौम्या और आदित्य भी आ गए । आदित्य ने जब रेहान को , मुस्कुराते हुए अंशिका की ओर देखते हुए पाया , तो वह उसे कुछ पल ध्यान से देखने लगा । फिर उसके पास जाकर , उसके गले में अपना एक हाथ डाल कर, उसे लगभग छेड़ते हुए कहा।

आदित्य - और मेरे रेहान भाई ....,!!!! आज तो तू एकदम, स्मार्ट हैंडसम बंदा लग रहा है । ( रेहान के कान में , धीरे से कहते हुए ) लेकिन इसका मतलब ये नहीं है , कि तू बस मेरी बहन को घूरता ही जाए , और उसके मुंह से तारीफें बटोरता जाए । वैसे भी तुझे बता दूं , इससे ज्यादा तुझे तारीफ नहीं मिलने वाली ।

इतना कह कर, वह रेहान से अलग हुआ और उसे अपनी बत्तीसी दिखाने लगा । रेहान ने जब आदित्य की बात सुनी तो , तुरंत अंशिका से नजरें हटा , हैरानी से आंखें फाड़े आदित्य को देखा । आदित्य उसे बत्तीसी दिखाते हुए ही , खाली पड़ी चेयर पर जाकर बैठ गया । रेहान आगे कुछ आदित्य से कह पाता , उससे पहले ही सारे दोस्तों ने उसकी तारीफ की और रेहान सभी को थैंक्यू बोलने लगा । अंशिका वापस अपनी चेयर पर बैठ गई और रेहान भी राहुल के बगल में बैठ गया ।

इधर शिवानी ने मीशा को रेडी होने के लिए कहा और साथ ही उसकी हेल्प करने के लिए, उसके साथ मेकअप रूम में आ गई । मिशा ने अपना चेहरा धोया और फिर चेंजिंग रूम में अपनी ड्रेस ले जाकर , चेंज किया और फिर उस रूम से बाहर निकलने लगी । तभी उसे अपनी ड्रेस के साथ कुछ अजीब सा महसूस हुआ । वह चेंजिंग रूम में ही लगे, आइने के सामने आयी और अपने आपको आइने में , गोल घूम - घूम कर देखने लगी । तभी उसकी नजर अपने लेफ्ट हैंड के साइड के, हिस्से पर गई । उसने वहीं आइने के सामने खड़े होकर उस साइड देखा , तो पाया कि उसकी ड्रेस , लेफ्ट हैंड के नीचे के हिस्से से लेकर , कमर के थोड़ी ऊपर तक के हिस्से तक खुली हुई है । उसने गौर किया , तो पाया कि उस तरफ की पूरी सिलाई ओपन है । उसे ये देख कर बहुत गुस्सा आया , और उसने गुस्से में उस ड्रेस को चेंज किया और अपनी उस ड्रेस को अपने हाथ में लेकर चेंजिंग रूम से बाहर आयी और गुस्से से भर का शिवानी से कहा ।

मिशा - शिवानी ....!!!! ( अपनी ड्रेस दिखाते हुए ) देखो ....., मेरी ड्रेस ....., इसके लेफ्ट साइड के , सारे स्टिचेस खुले हुए हैं । अब मैं क्या करूं ????? ( वहीं रूम में खाली पड़ी हुई चेयर पर बैठ कर ) मेरे पास तो नीडल और थ्रेड भी नहीं है।

शिवानी ने जब उसकी ड्रेस देखी , तो पाया कि वह ड्रेस पूरी तरह से खराब हो चुकी थी । शायद अब वह पहनने लायक बची ही नहीं थी । शिवानी ने ड्रेस को देखते हुए , मीशा से कहा ।

शिवानी - हां यार....., ये ड्रेस तो पूरी डैमेज हो चुकी है, तुम्हारे पहनने लायक भी नहीं बची है । अब तुम डांस कैसे करोगी ????

मिशा ( गुस्से से दांत पिस्ते हुए ) - वही तो समझ नहीं आ रहा , कि अब क्या करूं ??? तुम्हारे पास कोई सोल्यूशन होगा क्या ????

शिवानी ( अपना सिर, ना में हिलाते हुए ) - नो बेब्स......., मेरे पास तो इस वक्त, इस प्रॉब्लम का कोई सोल्यूशन नहीं है । ( मिशा ने जब शिवानी की बात सुनी तो अपना मुंह लटका लिया , साथ ही उसे गुस्सा भी बहुत आ रहा था , तभी शिवानी ने कहा ) पर मीशा ......., अब तो तुम सच में रेहान के साथ डांस नहीं कर पाओगी, क्योंकि अगर तुम किसी दूसरी कलर की ड्रेस पहनती भी हो , तो सीनियर्स तुम्हें स्टेज पर डांस करने की परमिशन नहीं देंगे ।

मिशा - हां शिवानी ......, तुम सही कह रही हो । पर मेरा बहुत मन था , डांस करने का । लेकिन अब इस ड्रेस के कारण , मैं डांस नहीं कर पाऊंगी ।

शिवानी - आई थिंक हमें , बाहर सारे फ्रेंड्स को बात देना चाहिए । क्योंकि रेहान अब तक तो रेडी होकर आ गया होगा और अगर हम उसे लास्ट मोमेंट पर ये सब बताएंगे , तो उसे बहुत बुरा लगेगा और फिर शायद वह गुस्सा भी हो । इससे अच्छा है , अभी ही सब को चल कर बता देते हैं , इस बारे में ।

मिशा - यू आर राइट शिवानी , ( चेयर से उठ कर , दरवाज़े की ओर अपने कदम बढ़ाते हुए ) हमें सभी को बाहर चलकर बता देना चाहिए ।

इतना कह कर वह , उस रूम के बाहर निकल गई । और शिवानी ने उसे जाते देख , फीका सा मुस्कुराकर कहा ।

शिवानी - टिट फॉर टैट........।

इतना कह कर वह भी , रूम से बाहर आ गई ।

इधर स्टेज पर कायरा और आरव को डांस परफॉर्मेंस देने के लिए बुलाया गया , तो सारे दोस्तों ने उन्हें बेस्ट ऑफ़ लक कहा। बदले में, आरव और कायरा ने सभी को थैंक्यू कहा और एक नजर एक दूसरे को देख कर , दोनों ही स्टेज की ओर बढ़ गए । जब वे स्टेज पर पहुंचे , तो तेज़ आवाज़ में शोर होने लगा , और आरव का नाम लेकर सभी हूटिंग करने लगे । साथ ही आज दोनो एक साथ इतने प्यार लग रहे थे , कि उस ऑडिटोरियम में खड़े सारे लोगों की नजरें उन दोनों पर टिक सी गई थी । उनमें से कई लोग उन दोनों को एक साथ देख कर जल रहे थे । लड़कियां आरव को देख कर अपना दिल सेंक रही थी और कायरा की खूबसूरती से जल रही थी । तो वहीं वहां उपस्थित बहुत से लड़के भी , कायरा को देख कर आहें भर रहे थे और उसके साथ आरव को देख कर , आरव की किस्मत जल रहे थे । जबकि इन सभी के दिलों के हाल से बेखबर , आरव और कायरा बस एक दूसरे को मुस्कुराकर देख रहे थे ।

तभी मिशा सभी दोस्तों के पास आयी, और उसने जैसे ही उन्हें कुछ कहना चाहा , के तभी उसने देखा, कि सभी स्टेज की ओर देख रहे हैं । तो उसने भी अपनी नजरें, स्टेज की ओर घुमा ली । यहां शिवानी भी तब तक आ चुकी थी और वह कायरा और आरव को स्टेज पर देख कर, सभी के साथ हूटिंग कर रही थी । मिशा ने जब आरव और कायरा को एक साथ स्टेज पर देखा, तो उसका खून खौलने लगा । वह जलती हुई आंखों से दोनों को देखने लगी , साथ ही वह, गुस्से से धीरे - धीरे करके , अपनी मुट्ठी भी भींचती जा रही थी।

यहां पर सभी ऑडियंस को एंकर ने शांत रहने के लिए कहा, और तभी गाना प्ले हुआ । गाने को सुन कर आरव और कायरा ने मुस्कुराकर एक दूसरे को देखा और फिर उन्होंने अपनी डांस परफार्मेंस स्टार्ट की ।

दोनों ने ही एक दूसरे का हाथ थामा , और कायरा ने अपना एक हाथ , आरव के कंधे पर तो आरव ने अपना एक हाथ कायरा के कमर पर रखा । और कायरा ने उसी मोमेंट में , आरव की आंखों में देख कर , अपनी फीलिंग्स एक्सप्रेस करते हुए कहा .....।

ज़हनसीब, ज़हनसीब
तुझे चाहूँ बेतहाशा ज़हनसीब

आरव ने डांस स्टेप चेंज कर , कायरा के एक हाथ की उंगली पकड़ कर उसे गोल घुमाया , और फिर उसे अपने करीब लाकर , पहले वाला डांस स्टेप दोहराते हुए , उसकी आंखों की गहराई में झांकते हुए कहा......,

मेरे क़रीब, मेरे हबीब
तुझे चाहूँ बेतहाशा ज़हनसीब

फिर कायरा , आरव से थोड़ा दूर हुई और उसका हाथ पकड़ कर, एक प्यारा सा डांस स्टेप किया । साथ में आरव ने भी कायरा के हाथों को पकड़ कर , उसके पीठ से ही, उसे अपनी बाहों में भर कर डांस किया । तो कायरा को उसकी छुअन से , एक बार फिर वो सब याद आ गया , जो आज मेकअप रूम में , कायरा और आरव के बीच हुआ था । उसने वहीं सब याद करते हुए , आरव के हाथों को पकड़ कर , और उसे अपनी बढ़ी हुई दिल की धड़कनों को महसूस करवाकर कहा ....,

तेरे संग बीते हर लम्हें पे हमको नाज़ है
तेरे संग जो न बीते उसपे ऐतराज़ है
इस क़दर हम दोनों का मिलना एक राज़ है

उसकी बढ़ी हुई धड़कनों को महसूस कर आरव ने , कायरा को अपनी तरफ पलटाया , और अपनी बढ़ी हुई सांसों के साथ , उसके चेहरे को पकड़ कर , एक खूबसूरत सा डांस स्टेप करते हुए कहा .....,

हुआ अमीर, दिल ग़रीब
तुझे चाहूँ बेतहाशा ज़हनसीब...

कायरा ने भी उसके डांस स्टेप के साथ ही , अपना हाथ आरव के कंधे पर रखा । तो आरव ने उसका एक हाथ पकड़ कर, उसे अपनी बाहों में कुछ पल के लिए झुलाया और फिर उसे अपने करीब किया , तो कायरा ने उसके कंधे पर दोबारा हाथ रखते हुए कहा ......,

ज़हनसीब, ज़हनसीब
तुझे चाहूँ बेतहाशा ज़हनसीब

इस वक्त कायरा आरव के साथ डांस करते हुए, वो सब भूल चुकी थी , जिसकी वजह से वह आरव से दूर रहना चाहती थी । और जिस वजह से वह , आरव के सामने , अपने प्यार से सने हुए जज्बातों को एक्सप्रेस करने से रोकती रहती थी। पर अब आरव की करीबी को महसूस कर , वह आरव को अपने डांस के द्वारा , अपनी मोहब्बत के सारे जब्बातों को , जो वह आरव के लिए महसूस करती थी, आरव के सामने बयान करती जा रही थी । क्योंकि वह आरव के चेहरे पर , उसके प्यार भरी उंगलियों से उसे स्पर्श करने पर , उसकी आंखों में और उसके हाव - भाव से बेतहाशा कायरा के लिए उमड़ रहे प्यार को महसूस कर , वह खो सी चुकी थी । और उसकी तरह आरव भी कायरा की खूबसूरती में , उसकी आंखों में और उसके चेहरे से बयां हो रहे प्यार के भावों में , खो सा गया था । उसे बस यही लग रहा था , कि कायरा गाने के शब्दों के साथ ही , अपने दिल की बातों को उसके सामने एक्सप्रेस कर रही है । दोनों को उस पल में , एक दूसरे के अलावा कोई भी नज़र नहीं आ रहा था । उन्हें लग रहा था , कि उस पूरे ऑडिटोरियम में सिर्फ और सिर्फ वही दोनों हैं ।

कायरा ने प्यार भरे स्पर्श से , आरव का हाथ अपने हाथ में कसा , और आरव की पीठ से लग कर , एक प्यारा सा डांस स्टेप करते हुए , आरव की आंखों में देखा , जिससे आरव का सिर भी कायरा की ओर घूम गया । तो कायरा ने उसी तरह डांस करते हुए आरव से कहा .....,

लेना-देना नहीं दुनिया से मेरा बस तुझसे काम है
तेरी अँखियों के शहर में यारा सब इंतज़ाम है

फिर कायरा उसके सामने आयी और आरव के चेहरे को अपने हाथों से छूकर उससे कहा .....,

ख़ुशियों का एक टुकड़ा मिले,
या मिले ग़म की खुरचने

फिर आरव का हाथ पकड़ कर, उसे अपने करीब खीच कर , उसके सीने में हाथ रख कर, बड़े ही प्यार से कहा ....,

यारा तेरे-मेरे खर्चे में दोनों का ही एक दाम है

आरव उसके चेहरे की मदहोशी में पूरी तरह खो चुका था , इस लिए वह कायरा के करीब आया और उसे कमर से पकड़ कर , अपनी बाहों में उठाकर उससे कहा .....,

होना लिखा था यूँ ही जो हुआ
या होते-होते अभी अनजाने में हो गया

फिर आरव ने उसे अपनी बाहों से नीचे उतारा, और आरव ने उसकी बाहें पकड़ कर डांस करते हुए कहा ......,

जो भी हुआ, हुआ अजीब

और फिर उसी बीच , कायरा ने उसके गालों को , अपने एक हाथ से छूकर , उसे अपनी प्यार से भरी हुई आंखों से देखकर कहा........,

तुझे चाहूँ बेतहाशा ज़हनसीब..

फिर दोनों ही एक दूसरे के करीब आए और एक दूसरे का हाथ थाम कर , साथ में गाने के शब्दों के साथ अपने जज्बातों को मिलाते हुए, एक साथ कहा .....,

ज़हनसीब, ज़हनसीब
तुझे चाहूँ बेतहाशा ज़हनसीब
हुआ अमीर, दिल ग़रीब

कायरा ने आरव की आंखों के नशे में खोए हुए कहा......,

तुझे चाहूँ बेतहाशा ज़हनसीब...

आरव भी कायरा की आंखों की मदहोशी में खोते हुए बोला.....,

ज़हनसीब, ज़हनसीब
तुझे चाहूँ बेतहाशा.......,

तो कायरा आरव के करीब आयी , और उसे अपने प्यार का यकीन दिलाते हुए बोली .......,

तुझे चाहूँ बेतहाशा ........,

आरव कायरा के इस प्यार से भरे हुए यकीन को देख कर , खुश हो गया । और उसने गाने को खत्म करते हुए , मुस्कुराकर प्यार से कायरा को संबोधित कर कहा ..........,

ज़हनसीब.........।

गाना एक प्यारे से म्यूज़िक के साथ बंद हुआ , और कायरा और आरव एक बार फिर, एक दूसरे के करीब आकर , एक दूसरे की आंखों में खो कर , बस एक दूजे को ही देखे जा रहे थे । तभी उनके कानों में एक जोर दार शोर सुनाई दिया , जो नीचे बैठी ऑडियंस का था। सभी उन दोनों के नामों को लेकर, हूटिंग कर रहे थे और उन्हें "क्यूट कपल" कह कर संबोधित कर रहे थे । मिशा का ऑडियंस के द्वारा , कायरा और आरव को क्यूट कपल कहना , उसके गुस्से में जले में नमक डालने के समान था। जबकि कायरा और आरव , अपने लिए ये संबोधन सुनकर , झेंप गए । और दोनों ही ने, एक दूसरे से अपनी नजरें हटा , एक दूसरे से थोड़ी दूरी बना कर खड़े हो गए । एंकर ने उनकी तारीफ में कुछ शब्द कहे , तो आरव और कायरा उसे और ऑडियंस को मुस्कुराकर थैंक्यू बोलकर स्टेज से नीचे , अपने सारे दोस्तों के पास आ गए । जहां उन्हें सभी ने गले लगा कर , उनके डांस की तारीफ की । तभी आरव की नज़र मिशा पर गई , वह हैरानी से उसे देख कर उससे बोला ।

आरव - मिशा .....!!!!! तुम अभी तक रेडी नहीं हुई , नेक्स्ट परफॉर्मेंस तुम्हारा और रेहान का ही है।

तो मिशा ने , उसे अपनी ड्रेस से जुड़ी सारी बातें बता दी । जिसे सुन कर सारे फ्रेंड्स टेंशन में आ गए , जबकि शिवानी और सौम्या मन ही मन इस बात से मुस्कुरा रहे थे । तभी मिशा रेहान के सामने आयी और उससे कहा ।

मिशा - सॉरी रेहान .....!!! अब मैं तुम्हारे साथ डांस नहीं कर पाऊंगी । पता नहीं ये सब कैसे हो गया । पर उसके साथ ही , तुम्हारी और मेरी दोनों की प्रैक्टिस पर , पानी फिर गया । आई एम सो सॉरी रेहान.......।

रेहान - इट्स ओके मिशा ......!!!! ये सब तुमने खुद से थोड़ी ना किया है , ये तो बस अपने आप हो गया । खैर मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता , क्योंकि मैं तो वैसे भी इन सब में पार्ट नहीं लेने वाला था। वो तो तुम दोस्तों के कहने पर ही , मैंने हां कहा था। खैर छोड़ो इन सब बातों को , मैं चेंज करके आता हूं ।

वह कह ही रहा था , कि तभी रेहान और मिशा को स्टेज पर बुलाया गया । एंकर की आवाज़ सुन, रेहान ने सभी से कहा ।

रेहान - तुम सब यही बैठो , मैं एंकर को बता कर आता हूं , कि हम अब डांस नहीं कर रहे ।

वह इतना कह कर जाने लगा , के तभी अंशिका ने उसे पीछे से आवाज़ देकर रोका।

अंशिका - रेहान.......!!!!!

अंशिका की आवाज़ सुनकर , रेहान रुक गया और वापस सारे दोस्तों के पास आया। जबकि सारे दोस्त अंशिका को देखने लगे । रेहान ने उसके पास जाकर उससे कहा ।

रेहान - क्या हुआ????

अंशिका - आप एंकर को मना करने मत जाइए ।

आदित्य - पर लाडो ....!!!! बताना तो पड़ेगा ही ना , कि अब ये दोनों डांस नहीं कर सकते ।

अंशिका - आदि भाई !!!! ये दोनों......., मेरा मतलब है, मिशा दी और रेहान डांस नहीं कर सकते । पर मैं और रेहान तो डांस कर सकते हैं ।

आरव - पर अंशिका !!! ऐसे अचानक से , इस मोमेंट पर ये सब चेंज करना ......., और तुमने तो डांस परफॉर्मेंस वाली ड्रेस भी नहीं पहनी है , जो रेहान के साथ मैच हो ।

अंशिका ने आरव की बात सुन कर , अपने पहने हुए कपड़ों की ओर इशारा किया , जो कि रेहान के शर्ट के कलर से मैच कर रहा था । हमेशा जीन्स और टॉप पहनने वाली अंशिका ने , आज इत्तेफाक से लाइट ग्रीन कलर की लॉन्ग कुर्ती के साथ में, उसके ऊपर नेवी ब्लू कलर की प्यारी सी जैकेट को, नेवी ब्लू जींस के साथ वियर किया हुआ था । जो रेहान के कपड़ों के साथ परफेक्टली मैच कर रही थी । और जिसमें वह बहुत प्यारी भी लग रही थी। अंशिका ने उन सभी से कहा ।

अंशिका - मेरी कुर्ती का कलर , रेहान के शर्ट से मैच कर रहा है। और वैसे भी , इसमें ये तो सीनियर्स ने डिसाइड नहीं किया था , कि गर्ल्स गाउन और फ्रांक ही पहनेंगी । और फिर इन कपड़ों में खराबी क्या है, कुर्ती और जींस में भी तो डांस किया जा सकता है ।

शिवानी ( मुस्कुराते हुए ) - व्हाट अ ब्रिलियंट आइडिया अंशिका ...!!!! तुमने तो ये प्रॉब्लम आसान कर दी।

अंशिका - दी मैंने रेहान को इस दिन के लिए , ना चाहते हुए भी मेहनत करते देखा है , इस लिए मैं उनकी मेहनत ऐसे वेस्ट नहीं होने देना चाहती ।

अंशिका की बात सुनकर , रेहान के चेहरे पर चमक आ गई । और वह मुस्कुरा दिया , तो नील ने उससे कहा।

नील - भाई तुझे तो कोई प्रॉब्लम नहीं है ??? अंशिका के साथ डांस करने में????

भला रेहान को अंशिका के साथ डांस करने में क्या प्रॉब्लम होने वाली थी ??? जबकि उसके मन में तो , खुशी के मारे लड्डू फूट रहे थे । क्योंकि अंशिका के साथ , डांस करने का मौका जो मिल रहा था उसे । उसने हां में सिर हिला दिया , तो सभी खुश हो गए । और सभी ने उन्हें ऑल द बेस्ट कहा , और अंशिका ने आरव की तरफ देख कर उससे जाने की इजाजत मांगी । तो आरव ने मुस्कुराकर उसे जाने का इशारा किया । अंशिका उसका इशारा समझ कर, बहुत खुश हुई , और फिर वह रेहान का हाथ पकड़ कर , स्टेज की पर चली गई । रेहान तो आज , खुशी से फूले नहीं समा रहा था। तभी स्टेज पर गाने के बोल गूंजने लगे । तो रेहान ने , अंशिका का हाथ पकड़ कर डांस करना स्टार्ट किया ।

रेहान ने अंशिका के साथ डांस करते हुए कहा .....,

मै भी हु तू भी है
आमने सामने
दिल को बेहेका दिया
इश्क के जाम ने

रेहान , अंशिका के इतने करीब होने से , उसकी खूबसूरती में खो गया था । और वह उसको अपने करीब महसूस कर ही , अपने दिल में उठ रहे, प्यार के अंकुरित जज्बातों में खोते हुए , डांस कर रहा था । जबकि अंशिका उसके दिल के जज्बातों से बेखबर , उसका साथ देते हुए, उसके कदम से कदम मिला कर डांस कर रही थी । रेहान ने अंशिका के प्यार में , खुद को डूबा कर , मदहोश होते हुए कहा .......,

मै भी हु तू भी है
आमने सामने
दिल को बेहेका दिया
इश्क के जाम ने

मुसलसल नजर बरसती रही
तरसते है हम भीगे बरसात मे

रेहान को डांस करते हुए ही , वो दिन याद आ गया , जब उसने अंशिका को पहली बार देखा था । उसने उस दिन को याद करते हुए कहा ......,

इक मुलाकात......,
इक मुलाकात में
बात हि बात में
उनका यु मुस्कुराना
गजब हो गया

फिर उसने जब अंशिका को खुद के सामने एक बार फिर महसूस किया , तो उसकी खूबसूरती में खोते हुए कहा .....,

कल तलक वो जो
मेरे खयालो में थे
रूबरू उनका आना
गजब हो गया

अब उसे वो हर दिन याद आने लगा , जब उसने अंशिका को देखा था । वह उन्हीं दिनों को याद कर गाने के साथ बोला ......,

मोहब्बत की पहली मुलाक़ात का
असर देखो ना जाने कब हो गया

इक मुलाक़ात में,
बात ही बात में
उनका यूँ मुस्कुराना
गज़ब हो गया

तभी गाने में फीमेल वॉइस की आवाज़ आयी , अंशिका ने उस गाने के शब्दों के अकॉर्डिंग, अपनी आंखों को मटकाते हुए एक्सप्रेशंस देकर , रेहान की आंखों में देख कर कहा .....,

माखत्वर दर्द का
कुछ खयाल नही है
इक तरफ मैं कही
इक तरफ दिल कही

रेहान ने जब उसकी आंखों को देखा, तो उसने अंशिका के द्वारा दिए गए एक्सप्रेशंस को सच मान लिया , और उसके एक्सप्रेशन को अपने लिए, प्यार का इज़हार समझ कर , खोते हुए शायराना अंदाज में कहा .....,

“आँखों का ऐतबार मत करना
ये उठे तो कत्लेआम करती हैं
कोई इनकी निगाहों पे पहरा लगाओ यारों
ये निगाहों से ही खंज़र का काम करती है” ( ये शायरी , सॉन्ग में पहले से ही दी हुई थी । इस लिए इसे, इस गाने में शामिल करना पड़ा । इस लिए मैं ये स्पष्ट कर रही हूं , कि इस शायरी के शब्द, मेरी खुद की रचना का हिस्सा नहीं है )

जबकि अंशिका, रेहान के उस शायरी में मिले हुए जज्बातों से अनजान थी । उसने एक बार फिर गाने के शब्दों को दोहराते हुए कहा ......,

माखत्वर दर्द का
कुछ खयाल नही है
इक तरफ मैं कही
इक तरफ दिल कही

एहसास की जमीन पे क्यू धुवाँ उठ रहा है
जल रहा दिल मेरा क्यू पता कुछ नही

रेहान ने एक बार फिर उसके कहे गए शब्दों को सच माना , और फिर उसकी एक्सप्रेशन देने की अदाओं में खो कर कहा ......,

क्यू खयालो में कुछ बर्फ सी गिर गयी
रेत की ख्वाहीशो मे नमी भर रही
मुसलसल नजर बरसती रही
तरसते है हम भीगे बरसात मे

इक मुलाकात......,
इक मुलाकात में
बात हि बात में
उनका यु मुस्कुराना
गजब हो गया

अंशिका ने एक बार फिर मुस्कुराकर , बहुत ही प्यारे से एक्सप्रेशन दिए, तो अंशिका को खूबसूरती से लबरेज़ और उसकी मुस्कुराहट को देख कर , रेहान ने एक बार फिर खोए हुए अंदाज में कहा .......,

कल तलक वो जो
मेरे खयालो में थे
रूबरू उनका आना
गजब हो गया

मोहब्बत की पहली मुलाक़ात का
असर देखो ना जाने कब हो गया

इक मुलाक़ात में,
बात ही बात में
उनका यूँ मुस्कुराना
गज़ब हो गया

गाना खत्म हो चुका था , पर रेहान के प्यार से भरे हुए जज्बात, अभी भी खत्म नहीं हुए थे । वह एक टक बस अंशिका को देख रहा था। जब अंशिका ने उसे खुद को देखते हुए पाया , तो उसके हाथों में चिमटी काटी । जिससे रेहान को अपने जज्बातों से छुटकारा मिला , और वह हड़बड़ा कर अंशिका को और फिर ऑडियंस को देखने लगा , जो उनके इस बेहतरीन डांस के किए , तालियां बजा रही थी । दोनों ने सभी को धन्यवाद कहा , और फिर स्टेज से नीचे आ गए .......।

क्रमशः

Rate & Review

Vishwa

Vishwa 2 weeks ago

Usha Dattani Dattani
BEERU PANWAR

BEERU PANWAR 8 months ago

Sushma Singh

Sushma Singh 8 months ago