Ahsaas pyar ka khubsurat sa - 32 in Hindi Novel Episodes by ARUANDHATEE GARG मीठी books and stories PDF | एहसास प्यार का खूबसूरत सा - 32

एहसास प्यार का खूबसूरत सा - 32









रेहान और अंशिका स्टेज से नीचे आए , और उनके नीचे आते ही सारे दोस्तों ने उन्हें घेर लिया और एक - एक कर तारीफों के पुल बांधने लगे । दोनों में से सबसे ज्यादा अगर तारीफ किसी की हो रही थी , तो वो थी अंशिका की । क्योंकि उसने समय रहते, बहुत ही बढ़िया आइडिया दिया था । जबकि रेहान का ध्यान सिर्फ और सिर्फ अंशिका के चेहरे पर, चमक रही स्माइल पर था । और मिशा को ये सब देखकर गुस्सा आ रहा था , क्योंकि ना ही वह आज डांस कर पाई और ना ही आज वो हुआ , जो उसने सोचा था । उसने उतरा हुआ सा चेहरा बना कर सभी से कहा ।

मिशा - गाइस ...!!!! ( सभी ने मिशा की ओर ध्यान दिया , तो मिशा ने कहा ) आई थिंक, मेरा अब यहां पर कोई काम नहीं है । इस लिए मुझे अब घर जाना चाहिए ।

आरव - पर मिशा ....!!!! थोड़ी देर रुक जाओ , फिर हम सभी साथ में घर चलेंगे ।

सौम्या ( मन ही मन मुस्कुराई और फिर उसने लगभग मिशा को टोंट मारते हुए कहा ) - अरे मिशा......!!!!! तुम ऐसे कैसे जा सकती हो , वो भी इतनी जल्दी ???? ( मिशा ने उसे नासमझी से देखा , तो सौम्या ने कहा ) मेरे कहने का मतलब था , कि अभी तो कायरा का सॉन्ग्स बचा हुआ है , और शायद अंशिका की डांस परफॉर्मेंस भी बची हुई है ( अंशिका की ओर देख कर ) मैं सही कह रही हूं ना अंशिका ...!!!!!!

अंशिका कुछ बोलती, उससे पहले ही शिवानी ने सौम्या की हां में हां मिलाते हुए कहा ।

शिवानी - तुमने एकदम सही बोला है सौम्या । आखिर मिशा , अंशिका को अपनी लिटिल सिस्टर की तरह मानती है , और कायरा तो हम सब की तरह , मिशा की भी फ्रेंड है । तो इन दोनों की परफॉर्मेंस देखे बगैर , भला मिशा कैसे जा सकती है ??? क्यों मिशा ....!!! आई एम राइट ना....?????

मिशा को सौम्या और शिवानी का टोंट मारने का कारण , समझ तो नहीं आ रहा था । पर तब भी वह, वहां रुकना नहीं चाहती थी और इन दोनों के इस तरह सभी के सामने , कहने की वज़ह से , उसे जबरदस्ती वहां रुकना पड़ता । यही सोच कर उसने बहाना बनाया और सभी से कहा ।

मिशा ( अंशिका के पास आकर , उसे साइड से गले लगाते हुए ) - यस शिवानी ......, अंशिका मेरी लिटिल सिस्टर ही है । भला इसका डांस परफॉर्मेंस मैं मिस कैसे कर सकती हूं । ( कायरा की ओर देखते हुए ) एंड ये भी बात सही है, कि कायरा मेरी भी फ्रैंड है । ( अंशिका का दाहिना हाथ , अपने दोनो हाथों से पकड़ कर , कायरा और अंशिका से कहती है है ) बट सॉरी बोथ ऑफ यू , मैं नहीं रुक पाऊंगी । बीकॉज मॉम का कॉल आया था । हमारे किसी रिलेटिव के घर पर पार्टी है , जिसमें हमारे घर के सभी मेम्बर्स का जाना जरूरी है । और अभी पांच बजे हुए हैं , हमें सात बजे तक वहां पहुंचना है । इस लिए मुझे जाना पड़ेगा । आई एम सो सॉरी गाइस......। अगर अर्जेंट नहीं होता , तो जरूर रुकती । पर अभी के कोई मुझे जाना ही होगा ।

कायरा ( मुस्कुराकर ) - कोई बात नहीं मिशा ...!!!! रिश्तेदारी निभाना ज्यादा जरूरी है । वरना अगर वे बुरा मान गए , तो पुराने रिश्ते खराब होते हैं। तुम जाओ , हम अपनी परफॉर्मेंस का वीडियो बनाकर तुम्हें सेंड कर देंगे ।

आरव ( मुस्कुराकर ) - या....., डेट्स राइट । हम तुम्हें वीडियो सेंड कर देंगे ।

मिशा ( जबरदस्ती मुस्कुराते हुए ) - ओके ......, फिर मैं निकलती हूं । बाय.........।

इतना कह कर वह ऑडिटोरियम से बाहर निकल जाती है , तो शिवानी उसे देख कर मुंह बना लेती है और सौम्या को मिशा के ऐसे जाने से हंसी आ रही होती है । तभी राहुल को किसी क्लाइंट का कॉल आता है , तो वह आरव को अपने साथ लेकर, ऑडिटोरियम में हो रहे शोर के कारण, बाहर चला जाता है । यहां अंशिका, कायरा से कहती है ।

अंशिका - कायरा दी ....!!! कुछ देर बाद ही मेरा डांस परफर्मेंस है , और मैं उसमें कत्थक करने वाली हूं , जिसके लिए रेडी होने में बहुत टाइम लगता है। इस लिए आप चलकर मेरी हेल्प कर देंगी क्या , रेडी होने में????

कायर ( मुस्कुराकर ) - बिल्कुल ....। ये भी कोई पूछने की बात है । ( रूही से ) अच्छा रूही !!! तू भी चल मेरे साथ , हम दोनों मिलकर अंशिका को रेडी करेंगे ।

रूही भी मुस्कुराकर हां कहती है और तीनों ही मेकअप रूम की ओर चले जाते हैं । उनके जाते ही सौम्या, जो अभी तक मिशा के जाने से , अपनी हंसी दबाए हंस रही थी , अब वह खिलखिलाकर हंस देती है । उसे हंसते देख , शिवानी पहले तो मुंह बनाती है, फिर वह भी उसके साथ हंसने लगती है । जबकि उनको ऐसे बेवजह हंसता देख , आदित्य , नील और रेहान हैरान थे । आदित्य ने उन्हें तुरंत कहा ।

आदित्य - तुम दोनो ऐसे हंस क्यों रही हो???

नील - हां ......., तुम दोनो ने नाइट्रस ऑक्साइड गैस सूंघ ली है क्या ??? जो बेवजह हंसे जा रही हो ...????

दोनों का हंसना , उनके पूछने पर भी बंद नहीं हुआ , तो रेहान ने झल्लाते हुए कहा ।

रेहान - तुम दोनों बताओगी , कि बेवजह इस तरह क्यों हंस रही हो ...???!!!

शिवानी ( अपनी हंसी कंट्रोल करते हुए ) - वेट ...., वेट रेहान ...!!!! पहले हमें , मिशा के प्लान फ्लॉप होने की खुशी में , जी भर कर हंस तो लेने दो , फिर हम बताएंगे तुम लोगों को । ( सौम्या से ) तुझे पता है सौम्या...!!! जब उसने अपनी फटी हुई ड्रेस देखी ना , तो उसका गुस्से से तमतमाया हुआ चेहरा देखने लायक था । और फिर जब उसके पास कोई चारा नहीं बचा था ना , रेहान के साथ डांस ना कर पाने का । तो उसका जो लटका हुसा सा चेहरा था ना , मुझे तो वो देख कर बड़ी खुशी हुई और उसके ऊपर बहुत हंसी भी आयी। अगर तू वहां होती ना , तो कसम से बता रही हूं , पेट पकड़ कर हंसती उसकी शक्ल देख कर ।

सौम्या - हां यार....., मैंने मिस कर दिया । बट जो भी हो , मजा बहुत आया , आज जब वह कायरा और आरव को साथ में डांस करते देख रही थी , तब उसका तमतमाया हुआ चेहरा देख कर ।

आदित्य - तुम दोनो अब कुछ बताओगी भी , कि तुम लोग मिशा के बारे में ऐसी बातें क्यों कर रहे हो ??? आखिर हुआ क्या है ....???!!!!! प्लीज टेल अस......।

सौम्या और शिवानी पहले एक दूसरे का चेहरा देखती हैं , फिर सौम्या कहती है।

सौम्या - मिशा की ड्रेस अपने आप खराब नहीं हुई थी , बल्कि मैंने और शिवानी ने मिलकर खराब की थी ।

नील - पर क्यों ...?????

शिवानी - क्योंकि उसने कायरा की ड्रेस खराब की थी , इस लिए .....।

रेहान ( नासमझी से ) - कायरा की ड्रेस खराब की थी ....!!!! पर उसकी ड्रेस तो सही सलामत थी ।

सौम्या - उसकी ड्रेस सही सलामत थी , तो वह हमारी वजह से ।

नील , रेहान और आदित्य ( एक साथ ) - मतलब....!!!!!

फिर सौम्या ने वह राज खोला , जिसकी वजह से पहले तो कायरा की और फिर मिशा की ड्रेस खराब हुई थी ।

कुछ घंटों पहले.......... ,

जब शिवानी , राहुल , आरव और रूही की बात सुन कर , शर्मा कर भाग गई थी। तब वह सीधे मेकअप रूम में आयी थी , जहां पर उसे मिशा दिखी । जो वहां उपस्थित सभी लोगों से छुप कर , कायर के बैग से उसकी ड्रेस निकाल रही थी । जब शिवानी ने उसे ये सब करते हुए देखा , तो उसने तुरंत उसके तरफ कदम बढ़ाए । पर फिर यह सोच कर उसने अपने कदम रोक लिए , कि वह देखे तो सही कि मिशा कायरा की ड्रेस , इस तरह चोरी - छुपे क्यों उसके बैग से निकाल रही है। उसने वहीं पर सौम्या को भी बुला लिया । और सौम्या और शिवानी ने , दरवाज़े के बाहर ही खड़े होकर, मिशा की नज़रों से छुपते हुए , उसके कारनामों को देख रही थी । मिशा ने कायरा की ड्रेस को उसके बैग से निकाला , और फिर अपनी जींस की पॉकेट से छोटी सी कैंची निकाली और कायरा की ड्रेस को सोल्डर से काटने लगी । और साथ में , एक चालाक सी मुस्कान लिए खुद से बोली ।

मिशा - अब देखती हूं ...... , कि तुम आरव के साथ डांस कैसे करती हो । मैंने तो कायरा....., तुम्हारी ड्रेस के कलर से मैचिंग , ड्रेस भी खरीद ली है । ताकि जब तुम आरव के साथ डांस ना कर पाओ , तो मैं उसके साथ डांस करके उसका दिल जीत सकूं । और वह मेरी तारीफ करे , कि मैंने प्रॉब्लम के समय में उसकी हेल्प की । और इसी के चलते मैं , उसके करीब आऊंगी और उसके दिल में अपनी जगह भी बनाऊंगी । और फिर तुम्हें आरव के खयालों से बाहर निकालना मेरे लिए इजी भी होगा।

इतना कह कर उसने कैंची अपनी पॉकेट में वापस रखी , और एक बार कायरा की डेमैज ड्रेस को उठा कर, उसे बड़े ध्यान से देखा और जहरीला मुस्कुरा दी । फिर उसने जल्दी से , कायरा की ड्रेस उसके बैग में वैसे ही फोल्ड करके रख दी , जैसी वह पहले से रखी हुईं थी और फिर वह उस रूम से बाहर आ गई । उसे बाहर आते देख , शिवानी और सौम्या छुप गए , जिससे मिशा उन्हें नहीं देख पाई । उसके जाते ही , शिवानी और सौम्या रूम के अंदर आए और शिवानी ने सौम्या से कहा।

शिवानी - बड़ी चालाक है यार ये लड़की । मैंने और रूही ने आरव से कहा भी था , कि ये लड़की कभी नहीं सुधर सकती । पर आरव ने ही इसे एक और चांस देने की बात कही थी । वरना अभी ये लड़की , कायरा के साथ ऐसा कुछ नहीं कर पाती ।

सौम्या - यू आर एब्सोल्यूटली राइट शिवानी । इस लड़की को माफ कर, हम सभी ने बहुत बड़ी गलती कर दी है । और जिस तरह की ये हरकतें कर रही है , उससे तो ये साफ है , कि ये आरव को पाना चाहती है । इसी लिए ये कायरा को, आरव की लाइफ से बाहर निकालने के लिए, ये सब कर रही है । शायद इसके दिल में आरव के लिए लव वाली फीलिंग्स है ।

शिवानी - अगर इसके दिल में आरव के लिए कोई प्यार होता , तो ये उससे सीधे बात करती और कोई बढ़िया सा तरीका ढूंढ कर, उसे अपनी फिलिंग्स बताती । न की इस तरह कायरा के लिए परेशानी खड़ी करके , आरव से उसे अलग करने की बात कहती । क्योंकि अगर कोई किसी से प्यार करता है , तो वह उसे अपना प्यार , रोमांटिक तरह से एक्सप्रेस करता है। बल्कि इस तरह , दूसरों को नुकसान पहुंचाने के बारे में , कभी नहीं सोचता ।

सौम्या - कह तो तुम सही रही हो शिवानी । पर अब क्या करें ...????

शिवानी ( अपनी उंगलियों के नाखून चबाते हुए ) - वही तो मुझे समझ नहीं आ रहा , कि कैसे कायरा को इस प्रॉब्लम से निकाले । और अगर कायर को इस बारे में पता लगा, कि उसकी ड्रेस मिशा ने खराब की है , तो उसे बहुत बुरा लगेगा । और अगर गलती से भी आरव को पता चला , तो वो मिशा को हमेशा के लिए हम सभी की ज़िन्दगी से आउट कर देगा , और साथ में गुस्सा करेगा, वो अलग । हमें कुछ ऐसा करना होगा , जिससे ना ही मिशा को पता और ना ही कायरा और आरव को पता चले। साथ ही कायरा की ड्रेस भी ठीक हो जाए ।

सौम्या ( आंखें चमकाते हुए ) - मेरे पास एक आइडिया है , जिससे कायरा की ड्रेस भी ठीक हो जाएगी , और उसे और मिशा को पता भी नहीं चलेगा , और ना ही इसकी आरव को भनक लगेगी । मतलब की सांप भी मर जाएगा और लाठी भी नहीं टूटेगी ।

शिवानी ( सौम्या की ओर सवालिया निगाहों से देखते हुए ) - पर कैसे ....????

सौम्या ने शिवानी के कान में कुछ कहा , जिसे सुन कर शिवानी के चेहरे पर मुस्कुराहट आ गई । और शिवानी ने मुस्कुराते हुए उसकी बात मान ली । और दोनों ने सबसे पहले , मिशा का बैग ढूंढा । कुछ देर की मशक्कत के बाद उन्हें , मिशा का बैग मिल गाया । अब उन्होंने पूरे रूम में कैंची ढूंढी , पर उन्हें कैंची नहीं मिली । तो शिवानी ने अपने दांतों से , लेफ्ट साइड के सिलाई का धागा तोड़ा और फिर सौम्या ने उस धागे को एक झटके से खींच लिया । जिससे उस ड्रेस के लेफ्ट साइड की जितनी भी सिलाई थी , वह पूरी उधड़ गई । दोनों ने ये देख कर, एक दूसरे को मुस्कुरकरा कर देखा और फिर मिशा की ड्रेस वैसे ही उसके बैग में रख दी , जैसे वह पहले रखी हुई थी। सौम्या ने उसका बैग यथास्थान रख दिया , और शिवानी को जल्दी कपड़े चेंग कर , बाहर आने को कहा । और वह वहां से चली गई । शिवानी ने अपनी ड्रेस चेंज की और वह भी बाहर आ कर सौम्या के बगल में बैठ गई । फिर दोनों ने मुस्कराकर एक बार फिर एक दूसरे को देखा , गले लग कर एक दूसरे से धीमी आवाज़ में कहा ।

शिवानी - हमारी पहली करस्तानी सफल हुई ।

सौम्या - अब दूसरी करास्तनी के लिए हमें , कुछ देर वेट करना होगा ।

इतना कह कर दोनों एक दूसरे से अलग हुई । सौम्या ने एक बार नील के चेहरे की चमक को देखा , जो हद से ज्यादा ही खुशी से चमक रहा तब, फिर उसने शिवानी की ओर देख कर , नील का नाम लेकर उसे छेड़ने लगी , तो शिवानी सौम्या की बात पर शर्मा कर मुस्कुरा दी। और फिर दोनों ही फंक्शन इंजॉय करने लगी ।

फिर जब रूही और राहुल कि परफॉर्मेंस के बाद , कायरा और सौम्या रेडी होने के लिए रूम में आयी, तो सौम्या ने तुरंत शिवानी को मेसेज किया और कहा, कि "अपने नेक्स्ट प्लान को अंजाम देने के लिए, तैयारी करके रख" । शिवानी ने बदले में उसे " ओके " लिखकर मैसेज भेजा और वह वहीं पास में खड़ी एक लड़की के पास आयी । शिवानी ने उस लड़की को किसी तरह , आरव से ये कहने के किए कन्वेंस किया , कि " उसे कायरा, मेकअप रूम में बुला रही है, किसी काम से " , उस लड़की ने पहले तो खूब ना - नुकुर किया। और फिर जब शिवानी ने उससे रिक्वेस्ट की , तो वह लड़की किसी तरह मान गई। और शिवानी ने उससे कहा ।

शिवानी - जैसे ही आरव रेडी होकर बाहर आएगा , मैं तुम्हें इशारा करूंगी। तुम मेरा इशारा पाकर , उसके पास जाना और उसे वही कहना, जो मैंने तुम्हें समझाया है।

उस लड़की ने शिवानी की बात पर हामी भरी , तो शिवानी उसे बेस्ट ऑफ लक कहकर अपनी सीट पर जाकर बैठ गई । यहां आरव जैसे ही रेडी होकर बाहर आया , तो शिवानी की नजर उसपर गई। शिवानी ने उसे देखा , तो उस लड़की को इशारा किया आरव के पास जाने के लिए । वह लड़की शिवानी का इशारा पाकर , दनदनाते हुए आरव के पास पहुंच गई । और उसे वही बताया , जो उसे शिवानी ने कहने के लिए कहा था। उसके बाद वह लड़की चली गई। और शिवानी ने तुरंत सौम्या को " डन 👍 " लिख कर मेसेज किया । तो सौम्या कायरा के सामने बहाना बना कर , आरव के अपनी जगह से कदम बढ़ाने से पहले ही, शिवानी के पास आ गई । उसके शिवानी के पास आते ही , आरव मेकअप रूम की ओर बढ़ गया। उसके जाते ही , सौम्या और शिवानी जल्दी से , उस रूम की ओर आयी और दोनों ने धीरे से दरवाजा बाहर से लॉक कर दिया । और वहीं दरवाज़े से लगकर, खड़ी हो गईं । ताकि कोई भी दरवाज़ा ना खटखटा सके । कुछ समय बाद दोनों ने , दरवाज़े के लॉक को बाहर से ओपन कर दिया । और फिर दोनों ने एक दूसरे को ताली देकर " हो गया अपना प्लान , कामियाब " कहा। फिर दोनों ही अपनी सीट पर आकर बैठ गई ।

उसके बाद जब आरव ने शिवानी से , मिशा के तैयार होने की बात कही , तो शिवानी जान बूझ कर, मिशा की हेल्प के बहाने, उसके साथ रही । और उसने जान बूझ कर, उसके चेहरे के एक्सप्रेशन देखने के लिए , उसके सामने उसकी हितैषी बनने का नाटक किया । और फिर मिशा के साथ बाहर आने के बाद , उसने सौम्या को मुस्कुराकर देखा और फिर " प्लान सफल हुआ " का इशारा किया । जिससे दोनों खुशी से मुस्कुरा दिए और कायरा और आरव के डांस को एन्जॉय करने लगे ।

वर्तमान में........,

शिवानी - तो इस तरह हमने , मिशा की चाल , उसी पर आजमा दी । और मिशा उसमें सेक्सेसफुली फंस भी गई ।

आदित्य ( अपनी चिन पर उंगली रखते हुए ) - पर एक बात मुझे समझ नहीं आयी....!!!! तुम लोग कायरा की ड्रेस, खुद ही ठीक भी तो कर सकते थे । उसके लिए आरव को कायरा के पास भेजना और मिशा के साथ इतना कुछ करना ....., ये सब मुझे समझ नहीं आया ।

सौम्या - क्योंकि हम कायरा की डैमेज ड्रेस का फायदा उठा कर , कायरा और आरव को क्लोज लाना चाहते थे । क्योंकि पिछले कुछ दिनों में , मैंने नोटिस किया है, कि दोनों ही अपने - अपने काम में बहुत बिज़ी थे । जिससे दोनों को एक दूसरे के करीब आने का, मौका ही नहीं मिल रहा था। और जब तक दोनों करीब नहीं आएंगे , तब तक दोनों के बीच का प्यार, इज़हार तक कैसे पहुंचेगा ...!!! और साथ ही हम मिशा को ये बताना चाहते थे , कि दूसरों के लिए गड्ढा खोदने वाला इंसान , खुद ही गड्ढें में गिर जाता है । इसी लिए हमने ये सब किया ।

नील ( दोनों को शाबाशी देते हुए ) - वाह.....👌👌👌👌!!! क्या दिमाग पाया है तुम दोनो ने । आरव और कायरा का भी काम बना दिया और साथ ही मिशा को बिना ढिंढोरा पीटे , सबक भी सीखा दिया । मान गए तुम दोनो के दिमाग को ....😁😁😁।

सौम्या और शिवानी ने उसको मुस्कुराकर देखा और जैसे ही कुछ कहने को हुई , कि रेहान ने गुस्से से उबलते हुए , अपनी मुट्ठी भींच कर कहा ।

रेहान - इस मिशा को तो मैं छोडूंगा नहीं......। इसे मैने उस दिन भी वॉर्न किया था, जब उसने हमारे सामने झूठा माफी मांगने का नाटक रचा था । उसके बाद भी ये लड़की , सुधरी नहीं । और उसने एक बार फिर वही किया , जो इसे बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए था । मैं इसे सबक सिखा कर रहूंगा ......, और वो भी अभी ....., इसी वक्त .....।

इतना कह कर रेहान ऑडिटोरियम से बाहर जाने के लिए कदम बढ़ाने लगा , कि तभी सौम्या उसके सामने आ गई । और उसने रेहान को समझाते हुए कहा ।

सौम्या - रेहान .....!!!! देखो ऐसा कुछ भी मत करो , कि जिससे हमारी मेहनत पर , पानी फिर जाए। और वैसे भी वो अब तक कॉलेज से अपने घर के लिए, जा चुकी होगी । इस लिए उसके पीछे जाने से कोई फायदा नहीं है । और उससे बात करना , मतलब खुद की इंसल्ट कराने जैसा है। क्योंकि , वह अपनी गलती तो मानेगी नहीं , उल्टा चार बातें तुम्हें सुना देगी । और अगर यह बात कायरा और आरव को पता लगी , तो उन्हें बहुत बुरा लगेगा । और आरव के गुस्से से हम सभी वाकिफ हैं। इस लिए बेहतर यही होगा , कि हम इस बात को यही पर खत्म कर दें और किसी को भी इस बारे में कुछ भी ना बताएं ।

आदित्य ( रेहान के कंधे पर हाथ रख कर ) - सौम्या ठीक कह रही है रेहान। वैसे भी अगर हम कीचड़ में पत्थर फेकेंगे , तो उसके छींटों का दाग , हमारे ही कपड़ों पर लगेगा । इससे अच्छा है , कि बात को यही पर खत्म कर दें।

नील - हां रेहान ....!!!! ये दोनों ठीक कह रहे हैं । वैसे भी सौम्या और शिवानी ने उसे सबक सिखा दिया है , इस लिए हमें ये सब यहीं पर भूल जाना चाहिए । और ये बात सिर्फ हम पांचों के बीच ही रहे, तो हम सभी के लिए अच्छा होगा।

रेहान - ठीक है.....!!!! तुम लोग कह रहे हो , तो मैं तुम लोगों की बात मान लेता हूं । लेकिन अगर इसके बाद , मिशा ने कुछ भी उल्टा सीधा किया , हमारे दोस्तों में से किसी के भी साथ...... , तो मैं उसे उसके किए की सजा जरूर दूंगा ।

शिवानी - सिर्फ तुम ही नहीं रेहान .......!!! बल्कि, हम सब भी, दोबारा उसकी ऐसी हरकत पर, उसे उसकी किए की सजा मिल कर देंगे।

सभी शिवानी की बात पर मुस्कुरा दिए , कि तभी कायरा, अंशिका और रूही मेकअप रूम से बाहर आयीं । अंशिका ने कत्थक की कॉस्ट्यूम पहनी हुई थी , और साथ में कायरा और रूही ने , उसी के अकॉर्डिंग अंशिका का मेकअप किया हुआ था । जिसमें अंशिका बिल्कुल किसी , ट्रेंड कत्थक करने वालों की तरह लग रही थी । वह बेहद खूबसूरत लग रही थी , इसलिए जब रेहान की नजरें उस पर गई , तो फिर उसके ऊपर से रेहान कि नज़रों ने हटने का नाम ही नहीं लिया । तभी कायरा के फोन पर , मालती जी का कॉल आया । और उन्होने उसे बताया कि , उसकी दादी बार - बार उसके बारे में पूछ रही है। तो कायरा ने उन्हें कैसे भी करके संभालने को कहा। क्योंकि जिस तरह से अभी भी स्टूडेंट्स के परॉर्मेंसेस बचे हुए थे , उसके हिसाब से कायरा लोगों को, कॉलेज से निकलने में नौ तो बजने ही वाले थे । कायरा ने उसने बात की , और फिर उनकी बात सुन कर फोन रख दिया । और फिर वह एक बार फिर , उन खयालों में खो गई , जिसकी वजह से वह आरव से दूरी बनाना चाहती थी।
उसने मन ही मन खुद से कहा ।

कायरा - भगवान.....!!!! आपसे दो पल के लिए भी मेरी खुशी देखी नहीं जाती ना । कम से कम मैं कुछ वक्त के लिए , उन सब के बारे में भूल कर , आरव के खयालों को महसूस कर , खुश तो थी । भले ही उनका प्यार मुझे कभी भी नसीब ना हो पाए , पर मैं उनके साथ बिताए हुए हर लम्हें में खुश तो थी ना । जरूरी था आपका , मम्मा से कॉल करवाना और दादी के बारे में बात करवाना । जिससे मुझे फिर से वो सब याद आ गया , जिसकी वजह से मुझे अब फिर से, ना चाहते हुए भी, आरव से दूरी बना कर रखनी होगी । क्यों...... , क्यों करते हो आप ऐसा , मेरे साथ ????
या तो ये प्यार के एहसास ही मेरे दिल से मिटा दो , या फिर हमेशा - हमेशा के लिए वो सारी बंदिशें मिटा दो , जिसकी वजह से मुझे आरव से दूर रहना पड़ रहा है ।

कायरा यही सब सोच ही रही थी , कि अनय उसके पास रेडी होकर आया । वह नेवी ब्लू शर्ट , के ऊपर ब्लैक जैकेट और ब्लैक जीन्स में , बहुत हैंडसम लग रहा था। उसने कायरा को आवाज़ दी , पर कायरा को उसकी आवाज़ जैसे सुनाई ही नहीं दी । तो उसने कायरा को झकझोरते हुए कहा ।

अनय - कायरा....!!!!!

कायरा ( अचानक से अनय के ऐसे झकझोरने पर अपने ख़यालो से बाहर आयी, और आश्चर्य से उसे देख कर बोली ) - क्या हुआ अनय ...!!!! आप इस तरह से मुझे क्यों देख रहे हैं????

अनय - देख रहा हूं , कि तुम कैसे इतने शोर में भी खुद में गुम हो सकती हो !!! ( कायरा ने उसकी बात पर , उसे हैरानी से देखा , तो अनय ने टॉपिक चेंज करते हुए उससे कहा ) तुम यहां पर खड़ी, क्या कर रही हो ???? चलो हमारा टर्न आने वाला है।

अनय की बात सुन कर , कायरा ने अपना फोन रूही को थमा दिया और वह अनय के साथ , स्टेज के पीछे जाकर खड़ी हो गई । कुछ ही मिनटों बाद , कायरा और अनय को स्टेज पर बुलाया गया । दोनों ही स्टेज पर आ गए । तब तक आरव और राहुल भी सभी दोस्तों के पास आ गए थे । और आरव ने जैसे ही कायरा को स्टेज पर देखा , तो वह बेसब्री से कायरा की गाती हुई आवाज़ को सुनने के लिए , इंतेज़ार करने लगा । जबकि कायरा की नजर जब आरव पर गई , तो उसने मन ही मन खुद से कहा।

कायरा - जाने क्यों आरव.....!!!! मेरा मन ना चाहते हुए भी आपको चाहने लगा है । मुझे अब सही गलत कुछ भी समझ नहीं आ रहा है। मेरा दिल, दिमाग की नहीं सुन रहा है , और मेरा दिमाग दिल की नहीं सुन रहा है । मैं मजबूर सी हो गई हूं , अपने इस दिल और दिमाग की, जंग के खेल में.....। ना चाहते हुए भी , मेरा मन उन अनचाहे , अनकहे डगर पर चल रहा है , जहां मैं जाना नहीं चाहती। और अगर मैं उस डगर पर गलती से चली भी गई , तो उसका अंजाम कितना बुरा होगा , ये मैं बहुत अच्छे से जानती हूं । जिससे मेरे साथ - साथ आपको भी , बहुत दुख पहुंचेगा। ये सब जानते हुए भी , मेरा दिल , आपके के साथ, मेरे प्यार के मुकम्मल होने के, ख्वाब देख रहा है। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि , मैं अपने इस बाबरे मन को कैसे समझाऊं....!!!! कैसे समझाऊं इस दिल को , कि इसे आपके दिल से जुड़ने के बाद , कितनी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा......।

यही सब सोचते हुए , उसकी आंखें भर आती है , जिसे वह सभी की नज़रों से बच कर , चुपके से अपने आंखों की नमी को पोंछ लेती है ।

इधर अनय गिटार लेकर , धुन सेट करता है और फिर उनके बगल में , ड्रम और बाकी के स्टूमेंट्स बजाने वाले लड़कों से ओके कहता है। और वह माइक के सामने खड़ा हो जाता और कायरा को भी दूसरे माइक के सामने खड़े होने के लिए कहता है । कायरा उसकी बात मान कर , उसके बगल में खड़ी हो जाती है और एक हाथ से, अपने सामने रखे स्टैंड माइक को पकड़ लेती है । अनय एक प्यारी सी धुन बजाता और , म्यूज़िक स्टुमेंट्स वाले , उसकी धुन को कॉपी कर आगे का म्यूजिक बजाते हैं । और कायर, आरव को एक नजर देखती है , फिर एक गहरी सांस लेकर , सामने ऑडियंस की तरफ देख कर गाना स्टार्ट करती है ।

कायरा - ओरे मनवा तू तो बावरा है
तू ही जाने तू क्या सोचता है
तू ही जाने तू क्या सोचता है बावरे
क्यूँ दिखाए सपने तू सोते जागत
जो बरसें सपने बूँद-बूँद
नैनों को मूँद-मूँद

अनय - नैनों को मूँद-मूँद

कायरा - जो बरसें सपने बूँद-बूँद
नैनों को मूँद-मूँद
कैसे मैं चलूँ
देख न सकूं
अनजाने रास्ते

अनय - गूंजा सा है कोई इकतारा-इकतारा
गूंजा सा है कोई इकतारा
गूंजा सा है कोई इकतारा-इकतारा
गूंजा सा है कोई इकतारा
धीमे बोले कोई इकतारा-इकतारा
धीमे बोले कोई इकतारा
गूंजा सा है कोई इकतारा-इकतारा
गूंजा सा है कोई इकतारा

कायरा ने एकबार फिर उदास नज़रों से आरव को देखा और खुद से मन ही मन कहा ।

कायरा - मुझे तो ये भी नहीं पता है आरव , कि जो कहानी मुझे सुनाई गई है , वह सच है या झूंठ । वह कहानी आधी - अधूरी है या पूरी । मुझे तो ये भी नहीं पता, कि हमारे इस प्यार का अंजाम क्या होने वाला है। यह बीच राह में ही रुकने वाला है, या फिर कभी आगे भी बढ़ेगा .......। ना ही मुझे ये पता है , कि मैं आपकी होकर भी , आपकी हो पाऊंगी या नहीं .......। क्योंकि प्यार तो हम दोनों ही एक दूसरे से करते हैं , ये तो भगवान भी जानता है और मैं भी । पर इस प्यार के मुकम्मल होने की गुंजाइश, इस जन्म में शायद हमारे किस्मत में नहीं है । किस्मत जो मेरे साथ खेल खेल रही है ना आरव , उससे मैं पूरी तरह अनजान बनी बैठी हूं । सब कुछ मेरी समझ से परे है । काश कि मैं अपनी किस्मत को खुद की मुट्ठी में कैद कर पाती । और उसमें मैं आपको....., अपने प्यार को........ , अपनी खुद की ज़िन्दगी के नाम कर पाती ।

यही सब सोचते हुए ही वह , आरव को देख कर कहती है.....,

कायरा - सुन रही हूँ सुध-बुध खोके,
कोई मैं कहानी
पूरी कहानी है क्या,
किसे है पता
मैं तो किसी की होके,
ये भी न जानी
रुत है ये दो पल की या,
रहेगी सदा

अनय - किसे है पता?

किसे है पता?

कायर की आंखों में एक बार फिर आसूं छलक आते हैं , जिसे वह बहुत ही आराम से साफ कर लेती है और किसी को पता भी नहीं चलता । पर आरव से उसकी आंखों की नमी, छुप नहीं पाती है ।

कायरा - जो बरसें सपने बूँद-बूँद
नैनों को मूँद-मूँद

आरव कायरा को देख कर मन ही मन खुद से कहता है ।

आरव - जितनी प्यारी इसकी आवाज उस दिन थी , उतनी ही प्यारी आवाज़ इसकी आज भी है । पर उस दिन की आवाज़ में , कोई दर्द महसूस नहीं हो रहा था मुझे , जो अब इसकी आवाज़ सुनकर हो रहा है। क्यों इसकी आंखों में इतना दर्द है ????? जब ये मेरे साथ डांस कर रही थी , तब तो इसके चेहरे पर एक अलग ही चमक थी , तो फिर अब इसके चेहरे पर वो चमक क्यों नहीं है, आखिर वह चमक कहां खो गई है ????

आरव कायरा के उदास से चेहरे को बहुत अच्छे से पढ़ पा रहा था, जबकि बाकी सिर्फ कायरा और अनय की मीठी सी आवाज़ में खोए हुए थे ।

अनय - नैनों को मूँद-मूँद

कायरा - जो बरसें सपने बूँद-बूँद
नैनों को मूँद-मूँद
कैसे मैं चलूँ
देख न सकूं
अनजाने रास्ते

अनय - गूंजा सा है कोई इकतारा-इकतारा
गूंजा सा है कोई इकतारा
गूंजा सा है कोई इकतारा-इकतारा
गूंजा सा है कोई इकतारा
धीमे बोले कोई इकतारा-इकतारा
धीमे बोले कोई इकतारा
गूंजा सा है कोई इकतारा-इकतारा
गूंजा सा है कोई इकतारा......।



अनय के शब्दों के साथ गाना खत्म होता है , और कायरा अपने चेहरे पर एक झूठी मुस्कान बिखेर लेती है । और लोगों के तालियां बजाने से पहले ही वह, स्टेज से नीचे आ जाती है। जबकि अनय गिटार वापस कर , सभी ऑडियंस की तालियों के बदले में उन्हें थैंक्यू कहता है , और फिर स्टेज से नीचे आ जाता है । आरव लगातार कायरा को नोटिस कर रहा होता है , जबकि कायरा रूही के बगल में आकर शांत बैठ जाती है । सभी उसकी आवाज़ की तारीफ करते हैं , तो कायरा बस जवाब में फीका सा मुस्कुरा देती है।

कायरा और अनय के गाने के बाद , अंशिका का कत्थक डांस होता है। अंशिका स्टेज पर पहुंच कर , बहुत ही प्यारा सा कत्थक का डांस करती है । जिसे रेहान बस, देखता ही रह जाता है। स्टेज पर अंशिका के चेहरे पर लाइट्स पड़ने से , वह और भी खूबसूरत लग रही थी ।

कुछ पल बाद अंशिका का , कत्थक खत्म होता है और वह स्टेज से नीचे आ जाती है । सभी उसकी तारीफ करते हैं।तो अंशिका सभी को थैंक्यू कहती है और अंशिका अपने कपड़े चेंज करने चली जाती है ।

थोड़ी देर में अंशिका कायरा के बगल में आकर बैठ जाती है। दोनों की आज के इस फंक्शन के दौरान , एक अच्छी दोस्ती हो चुकी थी। कायरा और अंशिका वहीं एक साथ बैठ कर बातें करने लगती हैं । उसी बीच , राजवीर भी एक लड़की के साथ " गर्मी " सोंग पर डांस करता है । और उसकी नजरें डांस करने के साथ ही , कायरा पर टिकी हुई थी । राजवीर डांस तो स्टेज पर कर रहा था , पर देख कायरा को रहा था । जिसे आरव ने बखूबी नोटिस किया और उसे राजवीर के ऐसे कायरा को देखने के कारण , बेहद गुस्सा आ रहा था । जबकि कायरा इन सबसे बेखबर , अंशिका से बातें करने में लगी हुई थी। वह अंशिका से बातें करते हुए , वो सब भूल चुकी थी , जो वह कुछ देर पहले सोच कर परेशान थी ........।

क्रमशः

Rate & Review

Vishwa

Vishwa 8 months ago

Sushma Singh

Sushma Singh 8 months ago

N  boss

N boss 8 months ago

Usha Dattani Dattani
SANTOSHI PANWAR�

waiting for next