Secret Admirer - 4 in Hindi Love Stories by Poonam Sharma books and stories PDF | Secret Admirer - Part 4

Secret Admirer - Part 4

तभी वेटर आ गया और उन्हे अपीटाइजर सर्व करने। अमायरा ने वेटर को थैंक्स कहा अपीटाइजर सर्व करने के लिए और उसे बताने लगी की यह डिश उसे बहुत पसंद आई। उन दोनो के बीच छोटी सी बातचीत से कबीर चिढ़ने लगा। अमायरा ने को मुस्कुरा का वाटर को थैंक्स कहा उससे कबीर को गुस्सा आ गया। *हम यहां अपनी लाइफ का इतना इंपोर्टेंट हिस्सा डिस्कस करने आए हैं ना की ये फालतू की बातें*, कबीर ने मन ही मन कहा। *मुझे सोचना पड़ेगा इसके जैसी एमेच्योर और यंग लड़की को अपनी वाइफ बनाने से पहले।*

"मैने ऐसा नहीं कहा। अगर मैं शादी में इंटरेस्टेड नही होता तोह क्यों आता तुम जैसी एक बच्ची से मिलने?" कबीर ने कहा और फिर अपनी जीभ काट ली जब उसे एहसास हुआ की उसने आखरी में क्या कहा।

"तोह, मैं आपके लिए बच्ची हूं। इंटरेस्टिंग! यस आप भी मेरे लिए अंकल की तरह ही हो। और ये बहुत अच्छा रीजन है मेरे लिए शादी से मना करने के लिए। मेरा मतलब है की मुझे तोह आसानी एक डैशिंग, हैंडसम, यंग, लविंग और जिसे मुझमें इंटरेस्ट हो, ऐसा लड़का मिल जायेगा। तोह फिर एक उदास रहने वाले, हमेशा सोचते रहने वाले, और अनइंटरेस्टेड 'अंकल' ही क्यों?" अमायरा ने सोचने की एक्टिंग करते हुए कहा।

"तोह, तुम ना कह रही हो?" कबीर ने बिना दुखी हुए पूछा। अमायरा ने जो जो भी कहा उसके लिए उसने उसे पूरी तरह से इग्नोर कर दिया, *फिलहाल के लिए।*

"ओह आपको क्या बुरा लग गया मेरा रिजेक्शन सुन कर? एस्पेशली तब जब अपने मुझे मुंहफट होक सीधे सीधे कह दिया की आपको मुझसे बिल्कुल भी शादी नही करनी है। हाउ क्यूट!" अमायरा ने अपनी हसीं छुपाते हुए कहा लेकिन अपनी हंसी रोक नहीं पाई।

"व्हाट क्यूट? डोंट कॉल मी क्यूट ओके। मैं बिल्कुल भी दुखी नहीं हूं। मुझे तोह अब किसी और को ढूंढना पड़ेगा कल तक नही तोह तुम्हारी मॉम इशिता की शादी किसी और से फिक्स कर देंगी। और मैं यह होने नही दे सकता।"

"औ.... तोह आप मेरे लिए दुखी नहीं हो। ओह मेरा तोह दिल ही टूट गया," अमायरा ने सैड वाले एक्सप्रेशन बनाते हुए कहा और कबीर नाराज़ हो गया।

"अपनी यह बेतुलकी कॉमेंट मेरे ऊपर करने की बजाय, तुम अपनी मॉम को क्यों नही समझती की यह गुरुजी, कुंडली सब अंधविश्वास है इसके चक्कर में ना पड़े, इससे कुछ हासिल नहीं होगा? वोह बस अपने आस पास सबको परेशान कर रही है अपने उस मान्यता के लिए।" कबीर चिढ़ते हुए बड़बड़ करने लगा।

"आपको कोई हक नही है मेरी मॉम के बारे में यह सब बोलने का, मिस्टर मैहरा। आप हमारे बारे में कुछ जानते नही है तोह अपनी यह सोच अपने तक ही रखिए।" अमायरा ने सीरियस होते हुए कहा। अब वोह बिलकुल अलग लग रही थी उससे जैसे वोह पहले आई थी और कबीर से बात कर रही थी मुस्कुराते हुए चुलबुली सी। जिस वजह से कबीर हैरान हो गया और हैरानी से थूक गटक गया।

"आई..... अअहह.... आई एम सॉरी! मुझे ऐसा नहीं कहना चाहिए था। मैं बस परेशान हो गया था दो दिन की डैडलाइन की वजह से। मुझे नही पता की मैं अब दूसरी लड़की कहां ढूंढू जो मेरी सारी शर्तो के बाद भी मुझसे शादी करने को तैयार हो जाए।" ऐसा लग रहा था की कबीर खुद से बात कर रहा है ना की अमायरा से।

"उसके बारे में आप चिंता मत करो। आपको कोई और ढूंढने की जरूरत नहीं है। मैं मॉम को बता दूंगी की मैं शादी के लिए तैयार हूं।" उसने बिना किसी एक्सप्रेशन के कहा।

"व्हाट? आर..... अअह... आर यू श्योर? कबीर ने ध्यान देते हुए पूछा।

"हां। मैं उनके साथ मज़ाक नहीं करती जो मज़ाक समझते नही हैं। तोह हां, अपनी फैमिली को बता दो की मैं शादी करने के लिए तैयार हूं। तोह अब हो गया। तोह मैं चलती हूं अब," अमायरा ने खड़े होते हुए कहा।

"हे! रुको! मुझे कुछ समझ नही आया। तुम मुझसे सच में शादी करने के लिए तैयार हो? इस सब के बाद भी? तुम मुझसे गुस्सा नही हो? और तुम्हे ऐसी शादी से सच में कोई परेशानी नहीं है?"

"वैल, जो भी आपने अभी कहा उसे सुन कर तोह कोई भी लड़की आपसे शादी करने के लिए तैयार नहीं होगी। हां अगर वोह बहरी या फिर पैसे के लिए अंधी ना हो तोह। मैने आपकी नॉनसेंस सुनी इसका मतलब मैं बहरी नही हूं। आप सोच सकते हो की मैं आपके पैसों के पीछे हूं फिर। एंड डोंट वरी। मैं आपसे कोई हसबैंड वाला प्यार लगाव एक्सपेक्ट नही करूंगी। और ना ही कोई वाइफ वाला अधिकार जताउंगी। मैं समझती हूं की हम दोनो जिंदगी भर बंध जाएंगे जिसमे डाइवोर्स का कोई ऑप्शन नहीं है, जबकि यह अपना ही दम घोटने जैसा होगा एक लवलेस रिलेशन में। मेरी भी फैमिली है जो इसे सही नही लेंगे, और आपकी फैमिली को कभी माफ भी नही करेंगे जो की मेरी भी फैमिली है तब से जब मैं बहुत छोटी थी। मैं मरना पसंद करूंगी अपनी फैमिली को इस तरह का दुख देने के बजाय।"

"प्लीज अमायरा, आई एम सीरियस।"

"ओके। अगर आपको सीरियस आंसर चाहिए तोह, आपको पता होना चाहिए की आपके इस तरह के बिहेवियर की वजह से कोई भी लड़की आपको हां नही कहेगी और इसी वजह से मैं हां कर रहीं हूं। क्योंकि आप यही सेम कंडीशन सब लड़की के सामने रखेंगे और सभी आपको रिजेक्ट कर देंगी। एंड अनफोर्चुनेटल मेरी बहन की खुशियां आप पर टिकी हुई हैं। मैं अपनी खुशी के लिए अपनी बहन की खुशियां आपको बर्बाद नही करने दूंगी क्योंकि आपको पसंद है अकेले रहना अपने खुदके बनाए दुख के साथ। लोगों की जिंदगी में बहुत से दुख, मुश्किल और कठनाइयां आती है लेकिन वोह जीना नहीं छोड़ देते और अपने आस पास के लोगों के लिए खुश रहते और उन्हे भी खुश रखते हैं। ना की उन्हे गिल्टी फील कराते हैं की वोह कैसे खुश है जब आप दुखी हैं। जब मैं यहां आई थी, तोह मेरे अंदर दो दुविधा थी की क्या होगा अगर आपने मुझे मना कर दिया या फिर आप मुझे पसंद नही आए और मैं ही मना करदू। ऐसा कुछ जो मैं नही करना चाहती थी लेकिन मुझे अपनी बहन के लिए हां करना ही था पर मुझे लगा अगर इसमें मेरी खुशी से हां होगी तोह ज्यादा अच्छा रहेगा। और अब मुझे बिल्कुल भी किसी तरह की दुविधा नहीं है। अब मैं बिल्कुल अच्छी तरह एस जान गई हूं की मैं आपको बिलकुल भी पसंद नही करती हूं और फिर भी मैं आपसे शादी करने के लिए तैयार हूं। क्योंकि कम से कम हम दोनो में एक चीज़ तोह कॉमन है। प्यार। हमारे परिवार के लिए। तोह हां। घर जाओ और शादी की तैयारियां शुरू कर दो। आपकी और मेरी शादी। और हां आपको मुझे ये बताने की जरूरत तोह नही है की हमारी फैमिली के लिए, हमारी आज की मीटिंग बहुत अच्छी थी, जहां हमने एक दूसरे को एक चांस देने का डिसाइड किया।" अमायरा ने कबीर को एक गुस्से भरी नज़रों से घूरा और चली गई और छोड़ गई अपने पीछे कबीर को हैरान सा।




















___________________________
(कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद🙏)
(अपनी राय कॉमेंट बॉक्स में जरूर दे)

Rate & Review

Rupa Soni

Rupa Soni 3 weeks ago

Nikita Patel

Nikita Patel 1 month ago

Vishwa

Vishwa 1 month ago

Usha Patel

Usha Patel 3 months ago

Parul Chauhan

Parul Chauhan 3 months ago