Secret Admirer - 7 in Hindi Love Stories by Poonam Sharma books and stories PDF | Secret Admirer - Part 7

Secret Admirer - Part 7

मैं..... म..... मुझे उम्मीद है की तुम मुझसे कोई वैडिंग गिफ्ट 🎁 तोह एक्सपेक्ट नही कर रही होगी," कबीर ने अपने कमरे में अंदर आने के बाद दरवाज़ा🚪बंद करने के बाद कर्कश भरी आवाज़ में कहा।

"क्यों नही?" अमायरा ने अपनी भौंहे उच्चका 🤨 के पूछा। "मैं आपकी लीगली वेडेड वाइफ 👰🏻‍♀️ हूं। और हर पत्नी का अधिकार होता है की अपनी सुहाग रात पर अपने पति से तौफा 🎁 ले।" अमायरा के कहते ही कबीर थोड़ा सेल्फ कॉन्शियस हो गया।
"वैसे तोह इतना बड़ा नाम है आपका फाइनेंस वर्ल्ड में, आपसे मुझे ये उम्मीद नही थी। एक छोटा सा गिफ्ट आप मेरे लिए नही ला सकते थे," अमायरा मुंह 😏 बनाते हुए कह कर कबीर के सामने से हट गई।

वोह ड्रेसिंग टेबल के पास गई और वहां बैठ कर नाइट क्रीम लगाने लगी।

"आर यू सीरियस?" कबीर को पछतावा होने लगा था।

"ऑफ़ कोर्स। ऐनीवे, मुझे पता है की आप मेरे लिए कुछ नही लाए हो, और मुझे कोई दिक्कत भी नही है। वैसे भी मुझे सरप्राइजेज पसंद नही हैं। इससे अच्छा तोह मैं खुद जा कर अपने लिए कुछ पसंद कर लूं। मैं बहुत चूज़ी हूं, यू नो," अमायरा यूहीं बोलती जा रही थी और क्रीम लगाने का काम करती भी जा रही थी।

"तुम चली जाना और जो चाहो वोह खरीद लेना," कबीर ने कहा। उसे समझ ही नही आ रहा था की इस मोमेंट पर क्या कहे। उसे बिलकुल भी एक्सपेक्ट नही था की अमायरा उससे गिफ्ट पर सवाल कर देगी।

"आह..थैंक यू, लेकिन मुझे आपकी चैरिटी नही चाहिए।"

"तोह फिर क्यों बोल रही थी? मुझे गिल्टी फील कराने के लिए?" कबीर ने गुस्से 😠 में पूछा।

"नही। बस ऐसे ही बात कर रही थी, जिससे आपको कल मदद मिलेगी।"

"क्या?" 🤔

"कुछ नही। मैं बहुत थक गई हूं, और अब सोना 😴 चाहती हूं। मैं अब और बात नही कर सकती। ओह गॉड, यह इंडियन वेडिंग्स में कितना ताम झाम होता है ना। अगली बार तोह मैं भाग जाऊंगी और किसी मंदिर 🛕 में शादी कर लूंगी," अमायरा ने हाफी लेते 🥱 हुए बैड की तरफ जाते हुए कहा।

"यह तुम क्या कर रही हो?" कबीर ने इरिटेट होते हुए पूछा। लेकिन किस बात के लिए इरिटेट था यह उसे खुद समझ नही आ रहा था।

"सोने💤 जा रही हूं। और क्या? जो इंसान अपने पायजामा में हो और लगातार हाफी पर हाफ़ी🥱 लिए जा रही हो, उससे आप क्या एक्सपेक्ट करोगे?"

"तुम ऐसे सोओगी? तुम इसे नाइट सूट कहती हो? यह फूल🌼 पत्तियों🍀 वाला पिंक पजामा?" कबीर ने अपनी एक उंगली से अपने नाक पर हल्का स्क्रैच करते हुए कहा।

तोह? आप क्या चाहते हो की मैं यहां आपका वेट करूं और आप मेरे नज़दीक आ कर मुझे बाहों में उठाओ जैसे फिल्मों में दिखाते हैं? या फिर आप यह चाहते हो की मैं कोई सेक्सी सा नाइट गाउन पहन कर आऊं और आपको रिझाऊं?👩‍❤️‍💋‍👨 इन यौर ड्रीम्स, मिस्टर मैहरा।" अमायरा ने गुस्से😤 में क्या क्या सुना दिया और कबीर तोह शॉक😱 में ही चला गया यह सब सुन कर। उसे समझ ही नही आ रहा था की कैसे रिएक्ट करे।

"इन फैक्ट, यह बहुत डिसगसटिंग होगा अगर आप मेरे बारे में ऐसे सपने देखते हो। यह कभी नही हो सकता। ईईईडइ😖। हमने भले ही शादी कर ली है पर सिर्फ दुनिया के लिए, ओके। कभी हिम्मत भी मत करना ऐसा सोचने की, सपने में भी नही," अमायरा ने चेतावनी देते हुए कहा।

"तुम पागल हो क्या🤬?" फाइनली कबीर की आवाज़ वापिस आ गई।

"नही। मैं अपने पूरे होशो आवास में हूं। मैं आपके लिए पागल नही हूं, की मैं आपको सिड्यूस करूं कोई सेक्सी से कपड़े पहन कर। छी छी छी🤮। किस तरह का पति मिला है मुझे? वोह अपने आप में ही बड़बड़ाने लगी।

"क्या तुम अपनी यह बकवास बातें बड़बड़ाना बंद करोगी? मुझे कोई फर्क नही पड़ता की तुमने क्या पहना है क्या नही और क्या पहनना चाहती हो। मैने बस सिम्पली इसलिए कहा क्योंकि यह बहुत चिल्डिश की तरह दिख रहा है, इतने सारे ब्राइट कलर्स और कार्टून प्रिंट के साथ, बस और कुछ नही। इसलिए मैने तुम्हे बच्ची कहा था। एन इमेच्योर किड👶🏻," कबीर एक सांस में बोल गया।

"व्हाटेवर। अब प्लीज साइड हटो यहां से, मुझे सोना है। मैं ज्यादा नही सोच सकती, जब मुझे बहुत नींद 😴 आ रही होती है, अंकल!" अमायरा ने वापिस ताना मारते हुए कहा।

"यह मेरा बैड 🛏️ है," कबीर ने कहा जब उसने देखा की अमायरा बैड पर लेटने ही वाली थी।

"रियली? बड़ी अच्छी इन्फॉर्मेशन दी आपने। मैं बस सोच🤔 ही रही थी की यह किसका बैड है जो आपके कमरे में पड़ा है," अमायरा ने बैड पर कंफोर्टेबिली लेटते हुए कहा।

"स्टॉप ट्राइंग टू एक्ट स्मार्ट। मेरे कहने का मतलब यह हैं की, मैं सोता हूं इस पर। तुम कोई और जगह ढूंढ लो सोने के लिए," कबीर ने अहंकार से कहा।

"मैं आपसे इतना प्यार❤️ नही करती की आपके लिए अपनी नींद सेक्रिफाइस करके जमीन पर सो जाऊं, या कारपेट पर, या फिर उस छोटे से सोफे पर। मैं आपकी वाइफ हूं और मुझे पूरा अधिकार है आपके कमरे में रहने का और आपके बैड पर सोने का। मुझे कोई प्राब्लम नही है की आप इस बैड पर दूसरी जगह सो जाओ तोह। ना ही मैं नींद में लात मारती हूं और ना ही मैं रात में बैड पर चारों ओर गोल गोल घूमती हूं। पर अगर आपको कोई दिक्कत है मेरे साथ एक ही बैड पर सोने से तोह इसमें मैं कुछ नही कर सकती। आप को जहां पसंद हो वहां सो जाइए। मुझे कोई लेना देना नही है। गुड नाईट। मेरे पास अब बिलकुल भी एनर्जी नही है आपसे बहस करने की," अमायरा ने अपने आप को ठीक करते हुए बैड के एक साइड में लेटे हुए कंबल से अपने आप को कवर कर लिया।

कबीर कुछ देर वहीं शॉक😳 में खड़ा रहा। वोह अमायरा की बातों से बहुत हैरान था। उसे समझ ही नही आ रहा था की क्या रिएक्ट करे क्या कहें।

"जब आपका डिसाइड हो जाए की आप कहां सो रहे हो तोह सारी लाइट्स बंद कर देना लेकिन नाइट बल्ब जला छोड़ देना," अमायरा ने कहा और फिर से अपना मुंह ढक लिया।

कबीर ने अपना सिर झटका और लाइट्स बंद करने के बाद उसी बैड पर दूसरी साइड आ कर लेट गया। उसने दोनो के बीच में कुछ पिलोज़ रखे और सोचने लगा की अब और क्या क्या देखना और झेलना बाकी है।

****

"कितनी खूबसूरत अंगूठी तुम्हे मिली है इशिता। मेरे इशान की चॉइस 😍 तोह बहुत अच्छी है। पर मैं सिर्फ रिंग 💍 की ही बात नही कर रही," सुमित्रा जी अपनी नई नवेली बहु पर प्यार 🤗 बरसा रहीं थी और उस अंगूठी की भी खूब तारीफ कर रही थी जो उनके बेटे ने अपनी पत्नी को वैडिंग नाइट गिफ्ट 🎁 दिया था।

"थैंक यू, आंटी," इशिता ने शर्माते ☺️ हुए कहा।

"अरे हां! ये रिंग 💍 तोह बहुत खूबसूरत है। इशान भाई ने मुझे तोह कभी कोई खूबसूरत चीज़ नही 🙁 दी," साहिल मैहरा, तीनो भाइयों में सबसे छोटा, ने कहा।
जब वोह छोटा था तोह इशिता और अमायरा को अपना दोस्त ही समझता था। उसकी दो सबसे अच्छी दोस्त अब उसकी भाभी बन चुकी थी, उसके लिए यह बहुत खुशी की बात थी।

"तुम कोई लड़की हो? या मेरी वाइफ हो? मैं तुम्हे कोई खूबसूरत चीज़ क्यों दूं?" इशान ने साहिल को फटकार लगाते हुए कहा।
इधर सुमित्रा जी उठ कर किचन में चली गईं गरमा गरम परांठे लाने और छोड़ गई अपने बच्चों को डाइनिंग टेबल पर लड़ता झगता। ताकि उनके बच्चे अपनी यह मीठी लड़ाई🤼 खुद ही सुलझाएं।

"ओह! तोह आप मुझे कोई गिफ्ट 🎁 नही दोगे, आपकी शादी हो गई है ना। हुंह! मैं भैया से कहूंगा तोह वोह मुझे गिफ्ट देंगे।"

"तुम्हे मुझसे क्या गिफ्ट चाहिए, साहिल? कबीर ने सबको डाइनिंग टेबल पर ज्वॉइन करते हुए पूछा।

"गुड मॉर्निंग, भईया। इशान भाई ने मुझे मना कर दिया है की अब वोह मुझे कोई गिफ्ट नही देंगे क्योंकि अब से वोह सिर्फ इशिता भाभी के लिए ही गिफ्ट लायेंगे। मुझे उम्मीद है आप ऐसा नहीं करेंगे, क्योंकि शादी तोह आपकी भी हो गई है। और इसी बात से मुझे याद आया की अमायरा भाभी कहां है? क्या वोह अभी तक सो 💤 रहीं है?" साहिल ने शरारत😉 से पूछा और कबीर उसे घूरने लगा🙄।

"मैं यहां हूं साहिल। और यह क्या अब तुम भी मुझे भाभी बुलाओगे? इस सब से पहले तोह हम दोस्त👫 थे ना।"

"तोह क्या हुआ। मैने आपको कल रात को बताया था की, अब आप हमारे भईया की वाइफ भी हो, हम आपको भाभी के अलावा कुछ और नही बुला सकते, अमायरा भाभी।" इशान ने मुस्कुराते हुए कहा।

"हां। वैसे आप हमारी वोही पुरानी हमेशा प्रैंक करने वाली फ्रेंड रहोगी, पर भाभी पहले," साहिल ने आगे कहा।

"हां अगर आपके भईया मुझे आपकी भाभी बनाना चाहे तोह," अमायरा अपने आप में धीरे से बड़बड़ाई। जो की उसके साथ ही बैठे कबीर ने सुन लिया और अपनी पलके हैरानी में झपकाने लगा।

"क्या? आपने क्या कहा?" साहिल ने पूछा।

"कुछ नही। मैं बस यह पूछ रही थी की मेरे आने से पहले आप लोग क्या बातें कर रहें थे?" अमायरा ने बात संभालते हुए पूछा।

"ओह ऐसे ही, कुछ खास नही। आप लेट थी तोह मुझे लगा की आप अभी तक सो रही होंगी। एक अच्छी नींद ले रहीं होंगी आप, हूं?" साहिल अमायरा को चिढ़ा ने की कोशिश कर रहा था और कबीर अनकंफर्टेबल फील करने लगा था।

"तुम्हे जाना नही है साहिल? आज तुम्हे कोई काम नही है क्या?" कबीर बातों का रुख बदलने की कोशिश कर रहा था लेकिन साहिल इतनी आसानी से चिढ़ाने का काम छोड़ना🤫 नहीं चाहता था।

"ओह भईया, मैं नाश्ते के बाद चला जाऊंगा। तोह हम कहां थे भाभी? मुझे उम्मीद है आप कल रात ठीक से सोए होंगी?

"ओह येस। आई डिड। मेरा मतलब है की मुझे लगा था की नींद नहीं आएगी क्योंकि यह नया बैड है ना। पर वोह मैट्रेस तोह बहुत ही कंफर्टेबल था बैड पर लेटते ही नींद आ गई। और सुबह भी मुझे अपनी इतनी अच्छी नींद तोड़ने का मन नहीं कर रहा था।" अमायरा बस बड़बड़ाए जा रही थी बिना इस बात पर ध्यान दिए की यह सवाल उसे चिढ़ाने🤭 के लिए किया गया है।











___________________________
(कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद🙏)
(अपनी राय कॉमेंट बॉक्स में जरूर दे)

Rate & Review

Nikita Patel

Nikita Patel 1 month ago

Vishwa

Vishwa 1 month ago

Usha Patel

Usha Patel 3 months ago

Parul Chauhan

Parul Chauhan 3 months ago

Rishita-rita Kothari