Hame tumse pyar hai - 3 in Hindi Love Stories by Harshali books and stories PDF | हमे तुमसे प्यार है - 3 - नजदीकियां

हमे तुमसे प्यार है - 3 - नजदीकियां

रेवा अंदर केबिन मैं गई । अनय ने रेवा को एक कोल्ड सा लुक दिया और उससे कहा – बहुत हसी आ रही है ना तुम्हे ?🤨 में तुम्हे यहा काम करने लाया हूं हसी मजाक करने नही। जाओ मेरे लिए कॉफी लेकर आओ अनय ने ऑर्डर देते हुए कहा । 🥱

अनय ये आपका घर नही है जो आप मुझे ऑर्डर दे रहे है , में क्यूं लाऊ आपके लिए कॉफी ?🙄 रेवा ने मना करते हुए कहा ।

क्योंकि तुम मेरी पर्सनल सेक्रेटरी हो ! अनय के मुंह से ये बात सुनकर रेवा ने चिल्लाते हुए कहा– क्या ! ये कब डिसाइड हुआ ? 😦में आपकी कोई पर्सनल सेक्रेटरी नही हू । 😤

रेवा की ये बात सुनकर अनय गुस्से से अपनी जगह से उठा उसने रेवा को चेयर पर बिठाकर उसके चेयर को घेरते हुए कहा – चिल्ला किसपर रही हो तुम ? क्या कहा तुमने एक बार फिर से कहो जरा !😠 अनय के आंखो मैं गुस्सा साफ साफ दिख रहा था अनय का गुस्सा देखकर रेवा ने अपनी पलके झुकाली । अनय ने रेवा के चीन को पकड़कर उसके चेहरे को अपनी ओर करते हुए कहा – में तुमसे कुछ पूछ रहा हूं क्या कहा तुमने अभी अभी ? रेवा के शब्द उसके गले में ही अटक गए थे। अनय को अपने इतने करीब देखकर रेवा फ्रीज हो चुकी थी। उन दोनो के ओंठो के बीच बस कुछ ही इंच का फासला था। दोनो भी एक दूसरे की सांसे अपने चेहरे पर महसूस कर रहे थे। अनय ने रेवा के पतले गुलाबी ओंठो की ओर देखा और अपनी आंखे बंद करके उसके ओंठो की और बढ़ने लगा जैसे ही रेवा ने ये देखा तब उसका दिल बस बाहर आना बाकी था । रेवा ने झट से अनय को अपने से दूर धक्का दिया और खड़ी हो गई । अनय...वो ...वो मैं आपके लिए कॉफी लेकर आती हूं !! रेवा ने हड़बड़ी में कहा और वहा से भाग गई ।

कुछ देर बाद रेवा केबिन मैं कॉफी लेकर आती है । वो देखती है की केबिन मैं कार्तिक अनुश्री और एक लड़का बैठकर अनय से कुछ काम के बारे मैं डिस्कस कर रहे थे।

अनय ने रेवा से कहा – कॉफी लाने मैं इतना टाइम लगता है क्या !! अब बैठो यहां एक इंपोर्टेंट प्रोजेक्ट है आज से तुम चारो इस पर काम करना शुरू कर रहे हो ! ये प्रोजेक्ट कंपनी के लिए बहुत ज्यादा इंपोर्टेंट है । मुझे कोई भी मिस्टेक नही चाहिए स्पेशली तुम रेवा इस बात का खयाल रखना ! अगर कोई भी गलती हुई ना तो मुझ से बुरा कोई नही होगा !

येस सर रेवा ने कहा ।

तभी वहा बैठे लड़के ने रेवा की और हाथ बढ़ाते हुए कहा – हेलो रेवा माय सेल्फ अक्षत नाइस टू मीट यू ।

हेलो अक्षत नाइस टू मीट यू टू ।

इस अक्षत के इरादे कुछ ठीक नही लग रहे ! खैर मुझे क्या करना है मुझे इस सबसे कोई लेना देना नही है ,अनय ने सोचा और अपना काम करने लगा।

चारो भी बाहर जाकर उस प्रोजेक्ट पर काम करने लगे । लेकिन अक्षत बस लगादार रेवा को घूरे जा रहा था। इस सबसे अनजान रेवा अपना काम करने मैं बिजी थी क्योंकि वो नही चाहती थी की उसके वजह से इतना अच्छा प्रोजेक्ट कंपनी के हाथ से निकल जाए।

अक्षत की आंखो मैं रेवा को पाने का जुनून पल रहा था । देखते ही देखते शाम हो गई और सभी स्टाफ मेंबर्स अपने अपने घर के लिए निकल गए लेकिन वो चारो अभी भी प्रोजेक्ट पर काम किए जा रहे थे ।

कुछ देर बाद अनय अपने केबिन से बाहर आया और कहा– अब सब घर चले जाओ देर हो गई है बहुत कल सुबह कंटिन्यू करते है ।

अक्षत ने रेवा के पास जाते हुए कहा – देर हो गई है ना बहुत मैं तुम्हे बाइक से घर छोड़ देता हूं !

रेवा ने एक नजर अनय की ओर देखा रेवा कुछ बोलती उसके पहले ही अनय ने कहा – उसकी कोई जरूरत नहीं है तुम्हारा घर अपोजिट डायरेक्शन में है । में छोड़ दूंगा रेवा को तुम अपने घर जाओ ।

ओके रेवा बाय कल मिलते है टेक केयर अनु ने रेवा को गले लगाते हुए कहा।

रेवा अनय के साथ कार मैं बैठ गई और दोनो घर के लिए निकल गए । लेकिन अक्षत उन दोनो को देखकर अंदर ही अंदर जल रहा था।

कार में रेवा चुपचाप अपना सिर विंडो के बाहर निकालकर बाहर का नजारा देखे जा रही थी । अनय ने एक नजर रेवा की ओर देखा और कार के विंडो का शीशा ऊपर कर लिया। .

खड़ूस कहीके! रेवा ने अनय की ओर देखकर मुंह बनाते हुए धीमी आवाज मैं कहा और अपनी आंखे बंद कर दी। कुछ ही पलों मैं रेवा की आंख लग गई । रेवा ने नींद मैं ही अपना सिर अनय के कंधे पर रखा और उसकी बाजू को कसकर पकड़ लिया ।

ये लड़की क्या कर रही है!ये ठीक से बैठ भी नही सकती क्या ! मुझे बिल्कुल पसंद नहीं है कोई लड़की मेरे करीब आए ! अनय ने चिड़ते हुए कहा और जोर से रेवा का हाथ अपने बाजू से अलग कर दिया ।

आह!! अनय क्या कर रहे है आप लगी मुझे !! रेवा ने उठते हुए कहा।

तुम क्या कर रही हो ? तुम्हे सेफ डिस्टेंस रखना नही आता क्या ? जब देखो मुझ से चिपकती रहती हो , अनय की इस बात पर रेवा का दिल तो कर रहा था की अनय को एक जोर दार थप्पड़ दे दे।

आपका क्या मतलब है ? में आपसे चिपकती रहती हूं ? सीरियसली अनय ? शक्ल देखी है आपने अपनी आइने में ? बिलकुल बंदर जैसी है ! रेवा की ये बाते सुनकर अनय ने कार अचानक रोक दि और रेवा की और तिरछी नजर से देखने लगा।

रेवा ने अनय को इग्नोर किया और अपना मुंह दूसरी और फेर लिया ।

अनय ने कहा – मुझे बंदर बोल रही हो ना तुम ? ठीक है फाइन अब इस बंदर की हरकते भी देख लो ।

रेवा ने अनय की ओर सवाल भरी निगाहों से देखा । उसके अगले ही पल अनय अपने शर्ट के बटंस खोलकर रेवा के करीब जाने लगा।

Show some love in comment box ☺️


Rate & Review

Indu Beniwal

Indu Beniwal 2 months ago

Akanksha Sahu

Akanksha Sahu 2 months ago

Preeti G

Preeti G 3 months ago

Harshali

Harshali Matrubharti Verified 3 months ago