Hame tumse pyar hai - 4 in Hindi Love Stories by Harshali books and stories PDF | हमे तुमसे प्यार है - 4 - i hate him

हमे तुमसे प्यार है - 4 - i hate him

उसके अगले ही पल अनय अपने शर्ट के बटंस खोलकर रेवा के करीब जाने लगा। जब रेवा ने ये देखा तब उसने चिल्लाते हुए कहा – अनय ये क्या कर रहे है आप ! दूर रहिए मुझ से !

अनय ने रेवा की बात को इग्नोर करके रेवा की सीट को पीछे की और कर दिया और अपने दोनो हाथो से रेवा को घेर लिया ।

क्या कहा था तुमने मुझे ? की मेरी शक्ल बंदर जैसी है राइट? तुम एक मौका नहीं छोड़ती मेरा इगो हर्ट करने का और मेरा इगो हर्ट करने की सजा तुम अभी भूगत रही हो तभी तुम्हारा पेट नही भरा ! अनय रेवा के और करीब जाने लगा ।

रेवा ने अपने हाथ अनय के सिने पर रखकर उसे रोकते हुए कहा – दूर हटिए मेरे ऊपर से ! और ये आपने शर्ट के बटंस क्यूं खोले है ! क्या करने वाले है आप ?

अनय रेवा के थोड़े और नजदीक गया । रेवा ने अपनी गर्दन दूसरी और घुमा दी और उसके आंखो से आसू की एक बूंद गिर गई । अनय ने उसके कानों मैं कहा – डोंट वरी तुम जो सोच रही हो वैसा कुछ नही करने वाला ! लेकिन हा अगर ज्यादा जबान चलाई ना तो कर भी सकता हूं ! अब तुम्हारी सजा सुनो आज रात भर तुम मेरे कमरे में बैठकर मेरे साथ नए प्रोजेक्ट पर काम करोगी ! में रात भर काम करू और तुम आराम से अपने रूम मैं सोती रहो ये तो मैं कभी होने नही दूंगा ! अनय ने रेवा के आंखो मैं देखते हुए कहा।

रेवा – अब कौन किससे चिपक रहा है ? में आपसे या आप मुझ से ? रेवा की ये बात सुनकर अनय झट से रेवा से दूर हो गया और गाड़ी स्टार्ट कर दी।

देखते ही देखते दोनो भी घर पहुंच गए। अनय ने अपना बैग एक सर्वेंट को पकड़ा दिया और अपने कमरे की और जाने लगा।

मैडम दीजिए आपका बैग रख देता हूं – एक सर्वेंट ने कहा ।

अरे नही आप रहने दीजिए मैं खुद रख लूंगी , मेरे पास मेरे अपने हाथ है खुद के काम करने के लिए – रेवा ने अनय की ओर देखते हुए जोर से कहा।

रेवा का ये ताना सुनकर अनय वही रुक गया और गुस्से से रेवा की ओर देखने लगा । इसके पहले की अनय कुछ कहे पता अनय का फोन रिंग हुआ।

तुम्हे मैं बाद मैं देख लूंगा अनय ने कहा और अपने रूम मैं चला गया।

खडूस कहिके रेवा ने मुंह बनाते हुए कहा ।

और आप मुझे मैडम कहकर मत पुकारना ! आप मुझे दीदी कहकर पुकार सकते है ।और मेरे काम मैं खुद कर लूंगी मैं अनय की तरह खडूस और आलसी नही हूं रेवा ने उस सर्वेंट ने कहा ।

रेवा की बात पर सर्वेंट ने हा मैं अपनी गर्दन हिलाई । रेवा अपने रूम मैं चली गई और फ्रेश होने लगी ।

कुछ देर बाद अनय नीचे डिनर करने के लिए आया । तभी उसने किचन से जोर जोर से हसने की आवाज सुनी । अनय इस आवाज से इरिटेड हो रहा था , अनय को अपने विला मैं बस सन्नाटे की ही आदत थी इतने सालो में आज पहली बार अनय के विला मैं कोई इतना खुलकर हस रहा था।

अनय ने एक सर्वेंट से पूछा – ये सब क्या है ? किचन मैं कोई कॉमेडी शो चल रहा है क्या ?

सर्वेंट ने कहा– सर वो अंदर ...वो दीदी !!

व्हॉट दीदी ? Do you mean Reva ? अनय ने पूछा ।

जी हा ! सर्वेंट ने अपनी नजरे झुकाते हुए कहा।

तो अंदर किचेन में रेवा ने उस सर्वेंट से कहा – अरे आप रहने तो काकी मैं लेकर जाती हूं आपके हाथों पर चोट आई है ना , आप रहने दो !

रेवा किचन से गर्म डाल का बर्तन लेकर बाहर की ओर आ रही थी।

अनय गुस्से से अपनी जगह से उठा और किचन मैं जाने लगा । तभी अनय जोर से रेवा से टकराया जिस वजह से रेवा के हाथो मैं से बर्तन छूट कर नीचे गिर गया और सारी डाल अनय के पैरो पर गिर गई ।

आह पागल लड़की!! देखकर नही चल सकती क्या ! अगर तुम्हे कोई काम आता नही तो करती क्यूं हो – अनय ने गुस्से से चेयर पर बैठते हुए कहा।

सर्वेंट ने अनय के पास जाते हुए कहा– सर मैं दवाई लगा देता हूं दिखाइए !

, मैने कहा तुमसे की मुझे दवाई लगाओ ? नही ना ! सभी लोग बिना बताए कुछ भी किए जा रहे है , सब अपना अपना काम क्यूं नही करते हो ? और तुम रेवा मैंने तुमसे कहा था किचन मैं जाकर काम करो ? अपनी अकल गलत जगह मत लगाया करो तुम ! अनय ने गुस्से से कहा ।

रेवा ने अनय की पैर को देखा जो की पूरा लाल हो चुका था। रेवा अनय के पास गई और कहा – सॉरी मैने देखा नही आपको !! मैं आपके पैर पर दवाई लगा देती हूं ठीक हो जायेगा , दीकाइए अपना पैर !

अनय ने गुस्से से चिल्लाते हुए कहा – तुम्हे एक बार बोली हुई बात समझ मैं नहीं आती क्या ? सुना नहीं कुछ देर पहले मैने क्या कहा ? तुम्हारी प्रोब्लम क्या है यार अपने काम से काम रखो ना तुम ! मेरी इतनी केयर करने की जरूरत नही है ! I mean मेरी केयर करने का नाटक करने की कोई जरूरत नही है तुम्हे ! अनय का एक एक शब्द रेवा के दिल को काटे की तरह चुब रहा था। रेवा की आंखो मैं से बहने लगे।

अनय ने रेवा को एक नजर देखा और अपने रूम मैं चला गया । रेवा अभी भी लगादार रोए जा रही थी।

अरे देखो तुम्हारे पैर तो जल गया है बर्तन का निशान भी बन गया ! में दवाई लगा देती हूं रुको यही ।

नही काकी छोड़ो मुझे नहीं लगानी अनय बहुत बुरे है , i hate him ! कितने चिल्लाए वो मुझ पर मैने सॉरी कहा था ना उन्हे ! रेवा ने रोते रोते कहा।

हां वो थोड़े गुस्सेलूं है तुम दिल पर मत लेना उनकी बात तो तुमसे प्यार भी तो करते है ना ! उस सर्वेंट के इस बात पर रेवा ने कहा – नही तो कोई प्यार व्यार नहीं करते वो मुझ से में बस यहां कुछ दिन रहने आई हूं कुछ दिनों बाद चली जाऊंगी , मुझे नही डिनर करना मैं जा रही हूं , आप सब कुछ खा लीजिए रेवा ने कहा और अपने कमरे में चली गई।

Show some love in comment box ☺️


Rate & Review

Larry Patel

Larry Patel 2 months ago

Indu Beniwal

Indu Beniwal 2 months ago

ketuk patel

ketuk patel 2 months ago

Preeti G

Preeti G 3 months ago