सफल उधमियों की २५ सामान्य विशेषतायें in Hindi Motivational Stories by Monika Sharma books and stories Free | सफल उधमियों की २५ सामान्य विशेषतायें

सफल उधमियों की २५ सामान्य विशेषतायें

सफल उद्यमियों की

25 सामान्य विशेषतायें

मोनिका शर्मा

monikasharma1092@gmail.com


© COPYRIGHTS


This book is copyrighted content of the concerned author as well as NicheTech / Matrubharti.


Matrubharti / NicheTech has exclusive digital publishing rights of this book.


Any illegal copies in physical or digital format are strictly prohibited.


NicheTech / Matrubharti can challenge such illegal distribution / copies / usage in court.

सफल उद्यमियों की 25 सामान्य विशेषतायेंः

अपने काम का आनंद लें

जो भी व्यक्तिगत संतुष्टि, वित्तीय लाभ, स्थिरता और आनंद आपको आपके कार्य से प्राप्त होता है, वह आपके व्यवहारिक निवेश पर निर्भर करता हैद्य ऐसे में अगर आप अपने कार्य से आनंद प्राप्त नहीं कर पा रहे है, तो इसमें कोई दोराय नहीं के इसका असर आपके व्यवसाय पर पडेगा व व्यवसाय की सफलता में रुकावट निश्चित हैद्य सच्चाई तो यह है की अगर आप अपने कार्य में आनंद महसूस नहीं कर पा रहे, तो आप सफल भी नहीं हो सकते ।

अपने कार्य को गंभीरता से लें

आप अपने व्यवसाय के असरदार व कामयाब होने की कामना नहीं कर सकते, अगर आप अपने व्यवसाय में व अपने बेचे जाने वाले उत्पादों और सेवाओं में ही विश्वास न रखेंद्य कई गृह व्यापारी अपने व्यवसाय को गंभीरता से न लेने की भूल कर बैठते हैं, व भ्रमित हो जाते हैंद्य इस कारणवश वे आत्मविश्वास और कार्यकुशलता खो बैठते हैं ।

हर कार्य के लिए योजना बनायें 

अपने घरेलु व्यवसाय के हर एक पहलु पर योजनाबद्ध तरीके से काम करना एक जरुरत ही नहीं बल्कि एक आदत होनी चाहिए जो कि हर एक व्यापारी को बनानी, आग्मानी व कायम रखनी चाहिएद्य व्यवसाय में  योजना का इतना महत्व इसलिये है क्योंकि यह आपको अलग अलग व्यवसायिक परिस्तिथियों का मूल्यांकन व विश्लेषण करने का अवसर प्रदान करती है, जिससे कि आप अनुसंधान के जरिये उजागर तथ्यों के माध्यम से ज्ञान की प्राप्ति करते है। व्यवसायिक योजनाओं का एक और महत्व है कि ऐसा करने से आपके समक्ष आपकी मंजिल व वहाँ तक पहुँचने का रास्ता दोनों ही कागज पर तैयार होते हैं। आप इसको एक मानचित्र की तरह उपयोग में लाकर अपने व्यवसायिक जीवन की बुलंदियों को प्राप्त कर सकते है व इसको एक मापने के पैमाने की तरह प्रयोग में लाकर अपनी सफलता की ओर की जाने वाली चढाई को माप सकते हैं ।

धन को बुद्धिमानी से संभाले

कोई भी व्यवसाय उसके माध्यम से होने वाले धन प्रवाह पर निर्भर करता हैद्य आपको बहुत से खचोर्ं का हिसाब रखना होता है जैसे कि कच्चे उत्पाद की खरीदारी का खर्च, विभिन्न सेवाओं का शुल्क, विज्ञापन खर्च, किसी मरम्मत का खर्च व सबसे जरूरी अपना वेतनद्य इसलिए सभी घरेलु व्यवसायियों को समझदारी से अपने धन संबंधी हिसाब को रखना चाहिए जिससे की धन प्रवाह बना रहे व खर्चा चलता रहेद्य एक अच्छे हिसाब के लिए धन के निम्न दो प्रमुख स्त्रोत हैः—

    पहला, पैसा जो आपको आपके ग्राहकों से उत्पादों व सेवाओं के बदले मिलता है, आपकी कमाई ।

दूसरा, जो पैसा सामान लाने में, तनख्वाह देने में व अन्य जरूरी चीजों में खर्च होता है, आपका कुल खर्च।

बिक्री पर ध्यान केन्द्रित करें

एक गृह व्यापारी को हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि सारे विज्ञापन व उससे जुडें सभी कार्य बेकार है चाहें उनमे कितनी भी मेहनत व कितना ही निवेश क्यों न हो यदि उसके माध्यम से एक सामान्य सी चीज न मिले दृ बिक्रीद्य इस कथन का यह तात्पर्य नहीं के एक श्रेष्ठ बिक्रीकर्ता, विज्ञापन सहायक व ग्राहकसेवक आपके व्यवसाय के लिए एक लाजवाब उपलब्धि नहीं हैद्य परन्तु ये सभी कलायें व्यर्थ जायेंगी यदि आप लोगों को उन चीजों के बारे में बताने में असमर्थ रहे जो की आप बेच रहे हैं ।      

ग्राहक का ध्यान रखें

आपका गृह व्यापर केवल आपके उत्पादों व सेवाओं को बेचने के बारे में नहीं हैद्य आपका गृह व्यापर उस मूल्य के बारे में नहीं है जो आप अपने उत्पादों व सेवाओं के लिए लेते हैद्य आपका गृह व्यापर आपके प्रतिद्वंद्वी व उन्हें कैसे पछाडे, इसके बारे में भी नहीं हैद्य आपका गृह व्यापर केवल आपके ग्राहकों के बारे में है । आरिकार, आपके ग्राहक ही तय करते हैं कि आपका व्यापर सफल होगा या असफल रह जायेगा। जो भी आप अपने व्यापर में करें वह ग्राहक पर केंद्रित होना चाहिए चाहे वो व्यवसायिक नीतियां हो, अच्छे सामान की जिम्मेद्दारी हो, बेहतर भुगतान के विकल्प हों, व्यापार करने का समय हो, विज्ञापन हो, या भले आपकी वेबसाइट ही क्यों न हो।

बेझिझक अपने व्यापर का व्याख्यान करें

व्यक्तिगत व व्यवसायिक सफलता के बारे में सबसे बडी मिथक है कि समय के साथ आपका व्यापर, व्यक्तिगत क्षमतायें, उत्पाद व सेवायें लोगों की नजरो में आ जाएगी और वे आपको ढूंढ कर आपके पास आपके उत्पाद व सेवायें लेने आ जायेंगे। लेकिन ऐसा कैसे हो सकता है जब तक की कोई आपको न जानता हो, आपके उत्पाद को न जानता हो और तो और वे यह भी न जानते हो की वे आपका उत्पाद खरीदे तो खरीदे क्यों ?

स्व विज्ञापन एक सबसे फायदेमंद फिर भी अब तक सबसे कम उपयोग में लाया जाने वाला विपणन उपकरण है जो की लगभग सभी गृह व्यवसायिकों के पास हमेशा उपलब्ध होता है।

सकारात्मक व्यापार छवि का प्रक्षेपण करें

आपके पास केवल एक गुजरता पल होता है जिसमे की आप अपने व्यापारिक भागीदारों पर एक सकारात्मक व यादगार छाप छोड सकते है जिससे की आप भविष्य में अपने व्यापार को बडा सकेंद्य गृह व्यवसाइयों को अपने आराम से बाहर निकल अपनी श्रेष्ठ व्यवसायिक छवि प्रदर्शित करने का जागरूक प्रयास करना चाहिए। अधिकांश गृह व्यवसाइयों के पास बडे व शानदार कार्यालयों का सुख प्राप्त नहीं हैं जिसके माध्यम से वे सम्भावित ग्राहकों को लुभा सकेद्य बजाय इसके उन्हें कल्पना, रचनात्मकता व छोटी से छोटी बारीकियों पे ध्यान देते हुए अपने गृह व्यापर के लिए अपनी व्यवसायिक छवि का निर्माण व उसकी देख रेख पर निर्भर रहना पडता है।

अपने ग्राहक को जाने

एक गृह व्यवसायिक की सबसे बडी उपलब्धि है कि वह अपने ग्राहक पर व्यक्तिगत ध्यान दे सकता है जो की किसी भी बडे स्तर के व्यवसायिक के लिए संभव नहींद्य आप माने या न माने लेकिन ग्राहक अपनी जानकारी हासिल करने के लिए लंबी कतारों में प्रतीक्षा कर कर थक चुके है, अक्सर ग्राहकों को असंतुष्टि के साथ वापस लौटना होता है क्योंकि उन्हें उनकी जानकारी कभी नहीं मिल पाती, ऐसे व्यवहार से सभी ग्राहक परेशान हो चुके हैं।

गृह व्यवसायिक स्वयं फोन कॉल का जवाब दे सकते हैं, ऐसा करने से वे अपने ग्राहकों से बेहतर रिश्ते बना सकते है और साथ साथ व्यापार के अवसर दोबारा प्राप्त कर सकते हैद्य शोध के जरिये यह तथ्य सामने आया है कि अधिकांश व्यापार दोबारा आने वाले ग्राहकों से होता है न कि नए ग्राहकों सेद्य इसलिये नए ग्राहकों को आकर्षित करने के साथ साथ यह भी जरूरी है के आप अपने वर्तमान ग्राहकों के साथ अच्छे रिश्ते बनाए व उनकी जरुरतो का खास ध्यान रखे, ऐसा करने से वे आपको सराहेंगे और याद रखेंगे तथा आपके साथ भविष्य में भी जुडे रहेंगे।

आधुनिक तकनीक को उपयोग में लायें

आपको ज्यादा तकनीकियों में जाने से बचना चाहिए, परन्तु आपको उपलब्ध तकनीकों का फायदा उठाना आना चाहिएद्य इंटरनेट की एक सबसे कमाल बात है कि मात्र एक या दो व्यक्ति अपने घर के किसी कमरे से अपने व्यापार के लिए किसी नवरत्न कंपनी से भी बेहतर वेबसाइट चला सकते है, मजेदार बात है कि किसी को इस अंतर का पता तक नहीं लग सकताद्य ध्यान रहे की आप अपने समय व प्रतिवेश के अनुसार और अपनी जरूरतों के मुताबिक आधुनिक तकनीक को इस्तेमाल में लायेंद्य सबसे बढिया तकनीक वही है जो आपकी मदद करे न कि जो आपके पढोसियों को लुभाए ।

सर्वोत्तम व्यवसायिक दल स्थापित करें

कोई भी एक व्यक्ति अकेले एक सफल व्यापर को स्थापित नहीं कर सकता। यह एक ऐसी चुनौती है जिसे एक ऐसे दल की आवश्यकता है जो कि आप ही की तरह कार्य व व्यापर की सफलता के लिए प्रतिबद्ध होद्य आपके व्यवसायिक दल में आपके परिवार के सदस्य, आपके मित्र, आपूर्तिकर्ता, व्यवसायिक सहयोगी, कर्मचारी, उप—ठेकेदार, उद्योग व व्यापार संघ, स्थानीय सरकार और समुदाय आदि हो सकते हैं। निसंदेह आपके दल के सबसे महतवपूर्ण सदस्य आपके ग्राहक होंगे। सभी सदस्य आपके भविष्य के व्यापार व महतवपूर्ण फैसलों में हिस्सेदार होंगे।

एक निपुण के रूप में जाने जाएँ

जब आपके पास एक समस्या हो जिसका हल होना आवश्यक हो, तब आप किसी की भी सलाह मानते है या केवल एक माहिर ज्ञाता पर भरोसा करते है? जाहिर है, आप सबसे सटीक जानकारी व सहायता चाहेंगेद्य आप एक ठठेरे को बुलाते है जब आपकी पानी की टंकी से रिसाव होता है, एक अचल सम्पति आढतिया को जब आपको अपना मकान बेचना होता है, दंत—चिकित्सक को जब आपके दांत में दर्द होता हैद्य इसीलिए अगर आप अपने क्षेत्र में निपुण होंगे तो ज्यादा लोग आपकी कुशलता के लिए आपके पास आयेंगे, इस प्रकार आपको ज्यादा व्यापार का अवसर उपलब्ध होगाद्य एक विशेषज्ञ के रूप में जाना जाना भी नया व्यापार ढूँढने की एक शैली है, बस उलटी दिशा में नए व उत्तीर्ण लोगों को ढूँढने और उन्हें बेचने की बजाये ऐसे लोग आपको आपकी निपुणता के लिए ढूंढते है।

एक प्रतिस्पर्धात्मिक अनुकूल परिस्थिति बनायें

गृह व्यापार में स्पष्ट रूप से परिभाषित व एक अनूठा बिक्री प्रस्ताव आवश्यक होना चाहिए। यह एक महत्वपूर्ण प्रश्न के पूछे जाने के तरीके से बढकर ज्यादा कुछ नहीं है कि ”लोग आपके साथ व्यापार करना क्यों चाहेंगे व आपका उत्पाद या सेवा ही क्यों खरीदेंगे बजाये आपके प्रतिद्वंद्वी के साथ व्यापार करने के और केवल उसका उत्पाद या सेवा खरीदने के ?“ दुसरे शब्दों में, ऐसे कौनसे पहलु आपके व्यापर को आपके प्रतिद्वंद्वी से अलग करते है? क्या वो बेहतर सेवा होगी, एक लंबी अवधि तक की वारंटी होगी, दिन में ज्यादा समय तक व्यापार करना होगा, ज्यादा बेहतर भुगतान विकल्प देना होगा, कम से कम कीमत रखना होगा, व्यक्तिगत सेवा देना होगा, बेहतर ग्राहक सेवा देना होगा, बेहतर वापसी व अदला—बदली नीतियाँ होंगी या फिर इनमें से कुछ का संयोजन?

खुद में निवेश करें

शीर्ष के उद्यमी व्यापार व विपणन की पुस्तके, पत्रिकाएँ, विवरणी, पत्र, समाचार पत्र, वेबसाइट और उद्योग प्रकाशनों को खरीदते है व उन्हें पढते है, क्योकि वो जानते है कि ये सब संसाधन उनकी व्यापार व विपणन के कौशल और कार्य की समझ को बेहतर बनायेगा वे व्यापार संघ और सभाओं से जुकते है, और वे बाकि कुशल व्यापारियों के समाज का हिस्सा बनते है ताकि वो उनकी सफलता का रहस्य जान सके और खुद के लक्ष्य व उद्देश्य को निर्धारित करने में खुद की मदद कर सकेंद्य शीर्ष के उद्यमी व्यापार व विपणन की कार्यशालाओं, संगोष्ठीयों व विभिन्न प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में बढ चढ कर भाग लेते है, भले ही उन्हे पहले से ही उन विषयों में महारत हासिल होंद्य वे ऐसा यह जानते हुए करते है कि शिक्षा एक हमेशा चलते रहने वाली प्रक्रिया है। अक्सर, कायोर्ं को करने के बेहतर विकल्प उपलब्ध होते है जिनके माध्यम से हम उन कायोर्ं को थोडे प्रयास तथा कम समय में कर सकते है। संक्षेप में अगर कहा जाए तो, शीर्ष उद्यमी अपने पास सदैंव उपलब्ध रहने वाले सबसे प्रभावशाली, सामर्थ्‌यवान और सर्वोत्तम व्यापारिक व विपणन उपकरण में निवेश करना नहीं छोडते स्वयं में।

सुलभ रहें

हम एक ऐसे समय में अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं जहाँ हम उम्मीद करते हैं कि रेस्तरां में मात्र कुछ मिनटों में हमारा खाना हमे परोस दिया जाए, धोबी हमें हमारे कपडे उसी दिन धो कर वापस कर दे, हमारा पैसा एटीएम मशीन में उपलब्ध रहें और तो और पिछला भी मात्र तीस मिनटों में हमें मिल जाए वरना वो मुफ्त हो आप यहाँ एक ढाचा तैयार होता हुआ देख सकते है दृ आपको कोशिश करनी चाहिए की आपके साथ व्यापार करने वालो के लिए आप अपने व्यापार को जितना सरल हो सके उतना सरल बनाएं, बिना यह सोचते हुए कि आप मात्र एक गृह व्यापारी हैं।

आपको इस तथ्य की जानकारी होनी चाहिए कि कुछ लोग कडी मेहनत करेंगे, आरामदायक स्थिति से निकलकर अपने परिवेश के बाहर काम करेंगे आपको अपनी कडी मेहनत से अर्जित धन की सुविधा देने के लिए वे भी आपकी जैसी ही स्थिति का सामना कर रहे हैं। अपने व्यापर में सुलभ रहने का मतलब है कि आप अपने ग्राहकों के लिए सुलभ तथा अपने उत्पादों और सेवाओं के अच्छे जानकार होद्य आपको अपने ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने में सक्षम होना चाहिए, आपको पता होना चाहिए कि आपके ग्राहक को क्या चाहिए, और कब चाहिए।

एक प्रकार की ठोस प्रतिष्ठा का निर्माण

एक अच्छी प्रतिष्ठा निश्चित रूप से गृह व्यापारी की सबसे ठोस और बिक्री योग्य परिसंपत्ति हैद्य आप एक अच्छी प्रतिष्ठा ऐसे ही नहीं खरीद सकते य इसे आप अपने वादे का सम्मान करके ही कमा सकते हैं।अगर आप बुधवार तक ग्राहक को माल देने का वादा करते है और आप किसी कारण से माल नहीँ दे पाए तो आप ये बहाना ग्राहक को नही दे सकते द्य यदि आप ग्राहक को कोई प्रस्ताव प्रदान करना चाहते है तो आपको अपने प्रस्ताव पर बहुत अच्छा होने की आवश्यकता है द्यजो सेवाएं आप प्रदान कर रहे हैं  उनमे निरंतरता होना भी एक महत्वपूर्ण अवयव हैद्य अगर आप ग्राहकों को नियमित रूप से सेवाओं का एक ही स्तर नहीं प्रदान कर सकते तो आप पर भरोसा करने का कोई कारण नहीं है द्य विश्वास के बिना आप एक अच्छी प्रतिष्ठा नहीं बना सकते ।

लाभों की बिक्री

उत्पाद सुविधाओं को धकेलना अनुभवहीन या सामान्य किस्म के उद्यमियों के लिए है द्य उत्पादों और सेवाओं के साथ जुडे लाभ बेचना भी एक प्रमुख कारक है द्य बिक्री पेशेवरों के लिए दुनिया भर में उत्साह खरीदने, बेचने  और अधिक बेचने में है , और उनका ध्यान अपने ग्राहकों को उत्पाद लगातार बेचने पर केंद्रित है। विज्ञापन, बिक्री प्रस्तुतियों, मुद्रित विपणन सामग्री, उत्पाद पैकेजिंग, वेबसाइट, समाचार पत्र, व्यापार आदि एक उद्यमी के लिए बहुत ही  महत्वपूर्ण है द्य जब भी आप अपने ग्राहकों से बात करे तो उन्हें उत्पादों के साथ जुडे लाभ बताते रहना चाहिए ।

अधिक लिप्त हो जाना

जो समुदाय आपके व्यापर का समर्थन करता है उनके साथ लिप्त हो जाना आपके लिए बहुत ही अच्छा सिद्ध हो सकता है द्य यह आप कई तरीकों से कर सकते हैं जैसे की एन जी ओ का हिस्सा बनना, समुदाय के कार्यक्रमों का आयोजन करना और स्थानीय राजनीति का हिस्सा बनना द्य आप स्थानीय समुदाय में सुधार करने के लिए ऐसे संगठनों का हिस्सा भी बन सकते हैं जो इनकी अच्छाई के लिए नीतियों का निर्माण करती हैं द्य यह भी एक सच्चाई है, लोग उन्हीं लोगों के साथ व्यापर करना पसंद करते हैं जिन्हें वह जानते हैं, पसंद करते हैं, जिनका आदर करते हैं या फिर उनके साथ जो समुदाय का सदस्य होने के कारण उनकी मदद के लिए अग्रसर रहते हैं ।

लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचना

छोटे पैमाने पर काम करने वाले व्यापारी अपना समय , पैसा और उर्जा विज्ञापन संबंधी गतिविधियों पर नहीं बर्बाद कर सकते, अगर वह ऐसा करते है तो इस चीड की सम्भावना बहुत ही कम है कि वह अपने उद्देश्य में सफल होंगे। इसलिए खुद को हर विज्ञापन संबंधी गतिविधि में व्यस्त करने की बजाय अपने पैसों को जेब में रखकर ही ग्राहकों का ध्यान खींचें और अपने व्यापर को बढायें ।

वार्ता की कला में निपुण होना

प्रभावी ढंग से बातचीत करने की क्षमता निश्चित रूप से हर व्यापारी में होनी चाहिए द्य व्यापर में, वार्ता में कुशलता होना बहुत ही आवश्यकत है क्योंकि यह आप प्रतिदिन प्रयोग करते हैं द्य एक अच्छा व्यापारी वार्तालाप में इतना निपुण होना चाहिए की वह हर परिस्थिति में विज्ययी रहे द्य इस प्रकार की विज्ययी परिस्तिथियाँ दीर्घकालिक और लाभदायक व्यापार संबंधों के लिए निर्माण का आधार है ।

सफलता प्राप्ति के लिए अपने कार्यक्षेत्र को डिजाइन करें

अपने कार्यक्षेत्र को योजनाबद्ध तरीके से डिजाइन करें ताकि आप अधिक उत्पादकता और व्यक्तिगत प्रदर्शन में सफल रहें और अगर संभव हो तो अपने कार्यालय को बैठक—कक्ष और शयन—कक्ष में न स्थापित करें द्य आदर्श रूप से , एक ऐसा अलग कमरा होना चाहिए जहाँ आप सिर्फ अपनी व्यापर संबंधी गतिविधियों को रखें, पारिवारिक सदस्यों को नहीं , कम से कम दिन के सबसे महत्वपूर्ण घंटों के दौरान तो नहीं द्य इसलिए आपके घर का बेसमेंट, गेराज या कोई अन्य खाली कमरा आप का सबसे अच्छा कार्यक्षेत्र सिद्ध हो सकता है द्य अगर यह संभव न हो तो आपको अपने घर का कोई ऐसा कमरा या किसी कमरे का कोई ऐसा हिस्सा जहाँ दिन के समय कोई हलचल न हो तो उस स्थान को अपना कार्य करने के लिए प्रयोग में लायें ।

व्यवस्थित रहें

अपने आप को व्यवस्थित रखने का मतलब यह नहीं है की आपके पास कितनी फाइलें हैं या आपके मेज पर कागज किस प्रकार रखे हैं , आयोजित रखने का मतलब है आप अपने व्यापर को किस प्रकार प्रबंधित रखते हैं द्य काम उचित व्यवस्थित तरीके से होना चाहिए द्य इसलिए यह आवश्यक है कि आप उचित दिनचर्या का पालन करें और एक दिन में अधिक से अधिक कार्य पूर्ण करें द्य वास्तव में , आपको हर दिन काम करने के लिए उचित योजनाओं का प्रयोग करना चाहिए द्य छोटी—छोटी चीजें जैसे की दिन के आखिरी पहर में एक सूचि तैयार करें जो आपके अगले दिन की गतिविधियों का वर्णन करें द्य यह सूचि आप एक हफ्ते के लिए भी तैयार कर सकते हैं द्य इस सूचि से आप यह निश्चित कर सकेंगे कि कौन से महत्वपूर्ण कार्य पहले पहले करने हैं द्य कायोर्ं को पूर्ण करने के लिए एक ही कैलंडर का निर्माण करें न कि हर कार्य के लिए अलग योजना तैयार करें इससे आप यह सुनिश्चित कर सकेंगे कि आपका कार्य समय पर पूर्ण हुआ है या नहीं द्य योजना तैयार करते समय कैलंडर में परिवार और व्यक्तिगत गतिविधियों को शामिल करना न भूलें , यह भी आपके जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है ।

ठीक समय पर कार्यस्थल छोडना

वास्तविकता में कुछ गृह व्यापारी खुद को २४ घंटे कार्य में व्यस्त रखते हैं क्योंकि उनके पास कोई मेनेजर नहीं है यह बताने के लिए की उन्हें समयोपरि वेतन नहीं दिया जाएगा द्य हर व्यक्ति जो घर से कार्य करता है उसके लिए यह आवश्यक है कि वह उचित कार्य सूचि तैयार करे जिसमें विश्राम का समय, खाना खाने का उचित समय और अनुसूचित छुट्टियों का भी उल्लेख करें द्य बेशक, अपनी अनुसूची को नम्य प्रकार से बनायें द्य यह आवश्यक नहीं है की आप दिन के हर घंटे में खुद को व्यस्त रखें द्य अपने आप को एक या दो घंटों का बैकअप प्रदान करें , सिर्फ काम करते रहना आपकी क्षमता दिन प्रतिदिन कम करता जाता है जिससे की आपके ग्राहकों पर भारी प्रभाव पढता है ।

कार्यभार को संतुलित रखें

अधिकांश उद्यमियों के लिए खुद को कुछ कायोर्ं में ही सिमित रख पाना काफी कठिन होता है। वे अपने व्यापर में ज्यादा से ज्यादा कार्य करने व उसको निपटाने का प्रयास करते हैं। एक समय पर एक से ज्यादा कार्य कर पाना सफल व्यापारियों में पाए जाने वाला एक आम लक्षण है। हालांकि, कभीकभार आपको आज की न सोचकर वर्तमान के पार देखने की जरूरत होती है ताकि आप निर्धारित कर सके के लम्बे समय के लिए आपके और आपके व्यापार के हित में क्या हैद्य अधिकांश सफल व्यापारी आपको बताएंगे कि शुरआत के समय से ही, वे जानते थे कि वे कौनसा कार्य करने में सक्षम व माहिर है तथा कौनसा कार्य किसी और को सोंपना है।

लगातार ग्राहकों के संपर्क में रहे

लगातार संपर्क, अनुवर्ती और अनुवर्ती के माध्यम से ग्राहकों के साथ व्यापार की संभावना और व्यापार गठबंधन हर उद्यमी का मूल मंत्र होना चाहिए, भले ही वो नया हो या स्थापित हो। आपकी ओर से की गयी लगातार एंव सिलसिलेवार अनुवर्ती संभावनाओ को ग्राहकों में बदलने के, मौजूदा ग्राहकों से प्रत्येक बिक्री के मूल्य में बढोतरी और खरीद आवृत्ति में वृद्धि के, तथा आपूर्तिकर्ताओं व मुख्य व्यापर दल के साथ मजबूत संबंध स्थापित करने के काबिल होती हैंद्य अपने मौजूदा ग्राहकों के साथ अनुवर्ती विशेष रूप से महत्वपूर्ण होती है, क्योंकि असल कार्य बिक्री के बाद ही शुरू होता हैद्य एक उत्पाद या सेवा को बेचना तो आसान होता है, लेकिन असली मेहनत ग्राहकों को बनाए रखने और उन्हें वापस लाने में होती है।

Rate & Review

Arvind Sethi

Arvind Sethi 1 year ago

Sdave

Sdave 1 year ago

Vishal Patel

Vishal Patel 2 years ago

Milan Gajera

Milan Gajera 3 years ago

Ramniwas Jat

Ramniwas Jat 3 years ago