Best Horror Stories Books in Gujarati, hindi, marathi and english language read and download PDF for free

श्रापित रंगमहल--भाग(४)
by Saroj Verma

धूमकेतु के ऐसे आचरण से शाकंभरी विक्षिप्त हो चुकी थी,उसे स्वयं से घृणा हो रही थी,उसे अब अपने भ्राता पुष्पराज की प्रतीक्षा थी कि वो शीघ्र ही राजमहल आकर ...

नर्क - 9
by Priyansu Jain

3 हजार वर्ष पहले एक अज्ञात स्थान पर "तुम ये क्या प्रालाप (बकवास) कर रहे हो?? जानते हो, इसका परिणाम मृत्यु हो सकता है??" एक सुसज्जित योद्धा अपने समक्ष ...

સ્ટ્રીટ નં - 69 - પ્રકરણ -23
by Dakshesh Inamdar

સ્ટ્રીટ નંબર- 69 પ્રકરણ -23         સાવી પ્રેમની વાતોમાંથી અચાનક સોહમનાં શબ્દોનો અર્થ કાઢતી પોતાની આપવીતી કહેવા લાગી હતી એને એનાં દીલનો ઉભરો ખાલી કરવો હતો. સોહમ એને ...

दानव द रिस्की लव - 18
by Pooja Singh

………Now on…….अदिति : भैय्या..... चलो please ….!आदित्य : अदि ….सुबह होने दे ….इशान कह रहा था अदिति : भैय्या..... मुझे कुछ नही सुनना ….आप चल रहे हो या नहीं ...

श्रापित रंगमहल--भाग(३)
by Saroj Verma

शाकंभरी रात्रि के भोजन की ब्यवस्था करने लगी,उसने कुटिया के कोने पर बने मिट्टी के चूल्हे में भोजन बनाना प्रारम्भ कर दिया,भोजन पक जाने के उपरान्त उसने सभी के ...

श्रापित रंगमहल-भाग(२)
by Saroj Verma

श्रेयांश ने राजमहल के बारें में सुनी बातों पर ज्यादा ध्यान ना देते हुए अपनी चित्रकारी पर ध्यान देना ज्यादा उचित समझा इसलिए वो पुराने महल को बहुत ध्यान ...

दानव द रिस्की लव - 17
by Pooja Singh

……Now on……विवेक : अदिति तुम जाओ …. अपना ध्यान रखना my sweet heart …(forehead kiss)….!अदिति : तुम अपना ध्यान रखना ….मैं तो अब घर में ही हूं....विवेक : (मन ...

સ્ટ્રીટ નં - 69 - પ્રકરણ -22
by Dakshesh Inamdar

સ્ટ્રીટ નંબર- 69 પ્રકરણ -22          સોહમ અને સાવી રાત્રીનાં સમયમાં એક દુકાનનાં આંગણમાં બનેલાં ઓટલાં જેવાં ભાગે અવરજવરને અવગણીને એકમેકનાં પ્રેમમાં રસતરબોળ હતાં. તેઓ બધું ભૂલીને બસ ...

ડરનો સાયો ગહેરો, આત્માનો પહેરો - 3 - (કલાઈમેક્સ - અંતિમ ભાગ)
by Hitesh Parmar

કહાની અબ તક: સ્વયોગ વિનાં ને એની જુની હવેલીમાં લઇ જાય છે. બંને ત્યાં ખુદને પ્રિન્સ અને પ્રિન્સેસ કહીને પ્યારથી વાતો કરે છે. પાછળથી એક પડછાઈ જાય છે તો ...

हॉंटेल होन्टेड - भाग - 27
by Prem Rathod

पहाड़ा के बीच घिरा हुआ अपने कुदरत की खूबसूरती की छाप छोड़ते हुए बसा हुआ एक खूबसूरत सा शहर। यह शहर जितना विकसित था, उतना ही खूबसूरत भी था, ...

श्रापित रंगमहल--भाग(१)
by Saroj Verma

मानसरोवर गाँव के बसस्टैंड पर बस रूकी और उसमें से श्रेयांश उतरा,उतरकर इधरउधर देखने लगा तभी उस के पास आकर एक व्यक्ति ने पूछा.... जी!कहीं आप चित्रकार श्रेयांश साहब ...

Revenge of the Ghost - 48
by Sunil Kapadia

The prayer was magical, and everybody was in a trance in a never-ending loop of tranquillity. The prayer was over but still no one opened their eyes. Their brains ...

खौफ की रातें - 6
by Rahul Haldhar

6) खौफ की रातउस दिन सुबह से ही मूसलाधार बारिश हो रहा था । रास्ता - घाट सब पानी से डूब गया था । लोग व वाहन चलाचल भी ...

नर्क - 8
by Priyansu Jain

निशा को आखिर पियूष के साथ आना ही पड़ा। उसकी एक भी दलील न चली। एक तो पियूष ने कोई बात मानी ही नहीं और दूसरे वहाँ जाना जरुरी ...

સ્ટ્રીટ નં - 69 - પ્રકરણ -21
by Dakshesh Inamdar

સ્ટ્રીટ નંબર 69 પ્રકરણ -21                હજી સોહમ વિચાર કરે છે કે આવી કેવી વિદ્યા...સાવીનો ચાલુ વાતે ફોન કટ થાય છે ત્યાંજ સુનિતા એનાં રૂમમાં આવીને કહ્યું “દાદા ...

दानव द रिस्की लव - 16
by Pooja Singh

….Now on ………अदिति : भैय्या.....आदित्य : अदि phone देख आज Monday है ……अदिति : हां है तो पर मुझे लगा आज Sunday है …… आप विवेक के यहां चले ...

ANSHNA PAHEREDARA pro occassion of the spooks - 3
by Nirav Vanshavalya

રાત્રિ નો મધ્ધમ અંધકાર છવાયેલો છે.અને અંશના તેના ખુલા કેશ સાથે રાજસી કવાડ ખોલી ને નીચે કોઇક ને અવાજ આપે છે. દૌડી ને રામલાલ સિંંગ નામ ના એક વયો ...

खौफ की रातें - 5
by Rahul Haldhar

5) भूतिया स्टेशनसुबह टेलीफोन की घंटी बज उठी , उस वक्त मैं आंख बंद कर आधे नींद में था। शायद सुबह के 10 बजने वाले थे । रात को ...

शैतानी दुनिया।
by Akash Saxena "Ansh"

"माँ रिषभ नानी के यहाँ से आया या नहीं।"जतिन आवाज़ लगाता हुआ घर मे घुसता है।"नहीं जतिन,ऋषि अभी तक नहीं आया बेटा, ज़रा ले आ जाकर उसको वहां से।जतिन ...

दानव द रिस्की लव - 15
by Pooja Singh

……Now on……विवेक अदिति को लेने घर पहुंचता है ……………Door bell ring ………बबिता : आप …!विवेक : बबिता अदिति कहां हैं ……!बबिता : वो अपने कमरे में आराम कर रही ...

खौफ की रातें - 4
by Rahul Haldhar

4) भूतशिव जलपान व मिष्ठान गृह हम दोस्तों के बैठकरदुनिया में व आसपास हो रहे कई प्रकार के बातकरने का एक बेहतरीन स्थान है । जिसका यहदुकान है उसका ...

સ્ટ્રીટ નં - 69 - પ્રકરણ -20
by Dakshesh Inamdar

સ્ટ્રીટ નંબર 69 પ્રકરણ -20           સોહમને સાવી સાથે વાત કરવી હતી પણ ખબર નહીં એને શું થયું એણે સાવીનો ફોન કાપી નાંખ્યો...સોહમ પોતે ના સમજી શક્યો કે ...

शापित गुड़िया - भाग ३
by Lalit Raj

तमन्ना अपने चारों ओर अंधेरा पाती है और बहुत डरी हुई सहमी हुई बैठी थी,उसकी लम्बी लम्बी सांसें चल रही थी,तभी एक गुड़िया उसकी तलफ आती है और शैतानी ...

नर्क - 7
by Priyansu Jain

'निशा भागे जा रही थी जंगल में, उसके पैर पत्थरों व कंकरों पर लहूलुहान हो रहे थे। अचानक उसके सामने एक परछाई बहुत तेजी से गुजरी। निशा रुकी, तब ...

अंधेरा कोना - 14 - साये का साया 2
by Rahul Vyas ¬ चमकार ¬

सुजाता : राजीव, वो नए बुजुर्ग रहने आए है न, वो भी इन्कम टेक्स डिपार्टमेन्ट मे ही थे l सुजाता : अरे उसके बगल मे मीना रहती हैं न ...

रात्र खेळीते खेळ - भाग 5
by prajakta panari

त्या खोलीच्या भिंतीतून एक आकृती अलगद बाहेर आली व एका वेगळ्या रूपात साकार होवू लागली व तशीच पुढे येवून अनुश्रीच्या जागी येवून झोपली.........खिडकीचा दरवाजा झपाझप वाजू लागला व त्यातून ...

खौफ की रातें - 3
by Rahul Haldhar

3 ) चुड़ैलमेरे दोस्त का जन्मदिन था तो मैं सीधे कॉलेज से उसकेघर गया ,, मैंने घर से कुछ नए कपड़े जन्मदिन पर पहननेके लिए ले गए थे । ...

સ્ટ્રીટ નં - 69 - પ્રકરણ -19
by Dakshesh Inamdar

પ્રકરણ -19 સ્ટ્રીટ નંબર 69   સોહમ ઘરે આવ્યો અને એનાં માટે આશ્ચર્યનો પુલીંદો રાહ જોઈ રહેલો. સોહમની ઘરે આવવાની એની બહેનો રાહ જોઈ રહેલી. સોહમ હજી આશ્ચર્યનાં આઘાતમાંથી ...

नर्क - 6
by Priyansu Jain

निशा की विस्फारित आँखों ने उस विचित्र नीले हत्यारे पर गोलियां बरसते देखा पर उसे कुछ न हुआ। लोग चीख रहे थे और उसकी आँखों में हिंसा भरी हुई ...

निष्प्राण
by Ankit Bhaskar

      "हेलो कुठ आहे? आणखी किती वेळ लागणार ?"मोबाईल कानाला लावतच समोरून येणाऱ्या उत्तराची वाट बघत बसलेली ' ति' थोडी रागातच बोलत होती.       "फक्त दहाच मिनिटे गं, ...

दानव द रिस्की लव - 14
by Pooja Singh

…….Now on …….उबांक : तो आप जल्दी कुछ करिए …..अगर ये विरोध में हो गई तो आप कुछ नही कर पाऐंगे …...!तक्ष : हां उबांक …..देखता हूं इसका दिमाग ...

दानव द रिस्की लव - 13
by Pooja Singh

….Now on ………विवेक : अदिति चलो यहां से ….!अदिति : विवेक ….ये क्या कह ….रहे हैं ….!विवेक : अदिति कुछ नही... चलो (जबरस्ती ले जाता है)...(owner से). …..आपने कहा ...