एक अभियंता आणि लेखक . . .

वो हमे मिलने क्यो नही आते,
खुदसे ये सवाल किया था हमने,
उनके दीदार के लिये खिडकीया बढाकार,
दरवाजा जो निकाल दिया था हमने...

-Durgesh Borse

Read More

https://youtu.be/jGUmilZNbck

My New One Min. Short Film,

STOPPER

आप जैसे अच्छे शायर हम नहीं
बस हम दिलों को जोडा करते है...
छिपाना आता कहा हमे
इसी लिये लबो से बया करते है...

अब किसी मोड पर मिल ना जाना,
हम खुद को रोक ना पायेंगे...
आपके सामने कही रुक गये,
तो फिर एक बार टुट जायेंगे...

-Durgesh Borse

Read More

तु हसत रहा,
मी रडतो...
तु मोजत रहा,
मी तुटतो...

-Durgesh Borse

हमारी मौजुदगी नहीं
आपके जिंदगी मे ये गम नहीं...
दर्द हुवा है सुनकर के
आपके यादों मे भी हम नहीं....

-Durgesh Borse

आपकी खामोशी से
हम तुटने जो लगे ...
दिख गयी बेवफाइ
अच्छा है हम तेरने तो लगे ...

-Durgesh Borse

औकात पर ना जाओ साहब,
बुलंद तो हौसले हमारे भी है ...
ख्वाब बडे आपके भी होंगे,
लेकीन पुरे करने का दम हम मे भी है ...

-Durgesh Borse

Read More

अलग कर डाली देरी हर याद दिल से,
कैसे अलग करू इन आँखो को ...
जो हिस्सा तो मेरी है,
बस वफादार तुझसे है ...

-Durgesh Borse

शायद हमने देर कर दी,
आपको खोजने मे ...
पास तो आ गये थे आपके,
लेकीन आपतक पोहचने मे ...

-Durgesh Borse