Sureshbabu Mishra

Sureshbabu Mishra

@sureshbabumishra3080

(5)

20

11k

24.6k

About You

जन्म स्थान : ग्राम-चन्दोखा, तहसील-दातागंज, जनपद-बदायूँ (उ.प्र.) शिक्षा : एम.ए. (भूगोल एवं अंग्रेजी), बी.एड. व्यवसाय : सेवानिवृत्त प्रधानाचार्य, राजकीय इण्टर कॉलेज पिता : स्व. गुलजारी लाल मिश्रा माता : स्व. रम्पा देवी मिश्रा पत्नी : श्रीमती सन्तोष मिश्रा पुत्री : समता मिश्रा, दामाद-जयन्त पाठक पुत्र : सौरभ मिश्रा, सुमित मिश्रा, अमित मिश्रा पुत्रवधु : स्वाति मिश्रा, शालिनी मिश्रा, प्रतिभा मिश्रा पौत्री : कु. मणि पाठक, कु. गौरी मिश्रा, कु. वाणी मिश्रा पौत्र : सिद्धार्थ मिश्रा, अदम्य मिश्रा, पार्थ पाठक प्रकाशित कृतियाँ : 1. कैक्टस के जंगल, 2. सवालों के बीच, 3. सहमा हुआ शहर, 4. लहू का रंग, 5. थरथराती लौ, 6. बलिदान की कहानियाँ, 7. आविष्कार की कहानियाँ, 8. साकार होते सपने, 9. संघर्ष का बिगुल, 10. उजाले की किरण, 11. जान लेवा धुआँ, 12. जमीन से जुड़े लोग। उपलब्धियाँ : 1. लेखन एवं प्रकाशन 1984 से निरन्तर जारी, 2 देश की विभिन्न पत्रिकाओं/समाचार पत्रों में लगभग 60 कहानियाँ एवं 100 लेख प्रकाशित, 3. आकाशवाणी रामपुर एवं बरेली से कहानी, वार्ता, नाटक एवं रूपक प्रसारित, 4. दूरदर्शन बरेली से वार्ता, परिचर्चा एवं साक्षात्कार का प्रसारण। उत्कृष्टता के लिए पुरस्कार : 1. उ.प्र. हिन्दी संस्थान द्वारा साहित्य भूषण सम्मान-2018, 2. राज्य कर्मचारी साहित्य संस्थान उ.प्र. द्वारा हिन्दी की दीर्घकालीन साहित्य सेवा हेतु मीर-तकी-मीर पुरस्कार-2019, 3. केन्द्रीय सचिवालय हिन्दी परिषद द्वारा शब्द शिरोमणि सम्मान-2021, 4. अखिल हिन्दी साहित्य सभा नाशिक महाराष्ट्र द्वारा साहित्य श्री सम्मान, 5. प्रजातन्त्र का स्तम्भ दौसा राजस्थान द्वारा प्रजातन्त्र का स्तम्भ गौरव सम्मान, 6. हिन्दी साहित्य परिषद प्रयागराज द्वारा कथाश्री सम्मान-2018, 7. इनवर्टिस यूनिवर्सिटी द्वारा रुहेलखण्ड रत्न अवार्ड-2018, 8. श्री सिद्धि विनायक ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूशन्स द्वारा पांचाल रत्न अवार्ड-2014, 9. शब्दांगन सामाजिक एवं साहित्यिक संस्था द्वारा पांचाल साहित्य शिरोमणि सम्मान, 10. ‘कथादेश’ नई दिल्ली द्वारा आयोजित अखिल भारतीय लघुकथा प्रतियोगिता में द्वितीय पुरस्कार, 11. हिन्दी साहित्य विकास समिति इलाहाबाद द्वारा कथाश्री सम्मान-2018। सामाजिक सरोकार : 1. प्रान्तीय अध्यक्ष-अखिल भारतीय साहित्य परिषद ब्रज प्रान्त। 2. प्रान्तीय संरक्षक-राजकीय शिक्षक संघ (उ.प्र.), 3. अध्यक्ष-संकल्प सामाजिक एवं साहित्यिक संस्था।