बिना संघर्ष, अपंग है जीवन | From Struggle To Success | Satish Anand | Josh Talks Hindi

Hindi   |   16m 40s

गोरखपुर से 90 किलोमीटर दूर नौतनवा कस्बे में पैदा हुए सतीश आनंद के पिता स्कूल में एक चपरासी थे और सड़क किनारे ही एक झोपड़ी में रहा करते थे| आज भले ही सतीश एक author और successful trainer हैं, पर एक वक्त था जब सतीश डॉक्टर बनाना चाहते थे| अपने बेटे को डॉक्टर बनाने के लिए सतीश के पिता ने झोपड़ी को गिरवी रख दिया था, पर सतीश Medical Exam क्लियर नहीं कर पाए और अपनी Family को आर्थिक रूप से मजबूत करने के लिए घर से भाग कर लखनऊ आ गये| यहाँ सतीश ने एक ढाबे पर काम किया| इसी दौरान वो किसी के कहने पर सिकन्दराबाद आये, जहाँ उनके साथ धोखा हुआ और वो फिर से सड़क पर आ गये| यहाँ पर सतीश ने सड़क से कचरे उठाने का काम शुरू किया| इसके बावजूद उन्होंने कभी give up नहीं किया और वो hard work करते रहे| इसी hard work के चलते उन्हें एक Call center में नौकरी मिली| उनका hard work और उनका never give up करने का attitude उन्हें आगे ले गया और वो एक successful trainer बने| leToSuccess #SuccessStory

×
Vishesh Images