Be The One Who You Are ...

बहोत करीब था जो सख़्श किसी जमाने मे..
मसरूफ है वो आज हमसें
दूरिया बनाने में..

कश्ती-ए-मय को हुक्म-ए-रवानी भी भेज दो,
जब आग भेज दी है तो पानी भी भेज दो..

दिल में किसी के राह किए जा रहा हूँ मैं
कितना हसीं गुनाह किए जा रहा हूँ मैं

इश्क़ बला है तो भी कर के देखना ,
जल जाना तुम या जला के देखना ..

दिलजलों की महफ़िल में
हम दिल लगाने बैठे है ,
अरे! जुर्रत तो देखो ,
एक शायरा को यहाँ उन्हीं के
शेर से रिझाने बैठे है ..

Read More

आँखे मुझें तलवों से मलने नहीं देते ,
लबरेज़ है तिरी महोब्बत में ,
मग़र दिल से कुछ निकलने नहीं देते ..

तबाही का मंजर अब हर शाम होता है ,
यहाँ हर शाम हुस्न बदनाम सरेआम होता है..

ना पूछो हुस्न की तारीफ हम से ,
सादगी के दीवाने हुस्न से कहाँ
जलते है ..

मोहतसिब तस्बीह के दानों पर ये गिनता रहा ,
किस ने जी कैसे जी , जिंदगी कटती रही में गिनता रहा ..