×

Hey, I am reading on Matrubharti!

મનનાં મેમરી કાર્ડમાં તને કાયમ માટે સેવ કરી લઉં
થાય નહીં ડિલિટ તું માટે પાસવર્ડ પ્રેમનો મારી દઉં

તને સહેજ પણ ના ખબર પડી
પણ હું લખાઈ રહ્યો છું તારી કિતાબ માં

તું ભલેને રાખે બંધ ગમે તેટલી
પણ હું છપાઈ રહ્યો છું તારી આંખો માં

Read More

कहाँ आँसुओं की ये सौग़ात होगी
नए लोग होंगे नई बात होगी
मैं हर हाल में मुस्कुराता रहूँगा
तुम्हारी मोहब्बत अगर साथ होगी
चराग़ों को आँखों में महफ़ूज़ रखना
बड़ी दूर तक रात ही रात होगी
परेशाँ हो तुम भी परेशाँ हूँ मैं भी
चलो मय-कदे में वहीं बात होगी
चराग़ों की लौ से सितारों की ज़ौ तक
तुम्हें मैं मिलूँगा जहाँ रात होगी
जहाँ वादियों में नए फूल आए
हमारी तुम्हारी मुलाक़ात होगी
सदाओं को अल्फ़ाज़ मिलने न पाएँ
न बादल घिरेंगे न बरसात होगी
मुसाफ़िर हैं हम भी मुसाफ़िर हो तुम भी
किसी मोड़ पर फिर मुलाक़ात होगी.

: बशीर बद्र

Read More