दुनिया में सिर्फ दिल ही है जो बिना आराम किये काम करता है…. इसलिए उसे खुश रखो…..चाहे वो…….. अपना हो या अपनों का…

हालात की दलील देकर उन्होनें साथ छोङ़ा,
तो हम आहत नहीं हुए ….,
सोचा हमसे ना सही ,
चलो किसी से तो वफ़ा निभाई उन्होने...

Read More

सुखकर्ता दुखहर्ता वाचा विघ्नाची...
गणेशचतुर्थी पर्व की ढेर सारी शुभकामनाएं

नहीं जानता हमें, कोई अपने शहर में,.
अंजान लोगों में, काफी मशहूर हैं हम…

ख़्वाहिशों के बोझ में बेशर तुम क्या क्या कर रहा है,
इतना तो जीना भी नहीं है,
जितना तु मर रहा है,,

ना तुझको खबर हुई ना ज़माना समझ सका,
हम तुझ पर, चुपके-चुपके से कई बार मर गये..