अनुभव, स्त्री विशेष, सामाजिक श्रेणीत लेखन...

#कलिका प्रकटदिन..😂🎂
दिवस आला आवडता माझ्या पिल्लुचा
तिच्या जीवनातील एकमेव सणाचा...
सुकू, वैशू, मनु, नीतू, खुशू सख्या सगळ्या
आल्या पिल्लुच्या वाढदिवशी सजूनी आगळ्या - वेगळ्या...
केक, चॉकलेट्स, बलुन्स डेकोरेशन्स भारी
घालुनी मस्त फ्रॉक पिल्लू दिसते आहे परी...
तुझ्या आयुष्यात असाच आनंद येत राहो
रहा डॅशींग, नको करुस कधीच कुणाला अहो - जाहो...
हाणामारी आहे आपल्या दोघींचा छंद
काय पिल्लू असतो की नाही यात वेगळाच आनंद...
म्हणून म्हणते तुला नको बदलू कधीच
जशी आहेस रहा नेहमी तशीच...
अयय..... पिल्लू..... काय मस्त वाटतं हे नाव
मनाला सुखावतात पिल्लू तुझे हाव - भाव...

-Khushi Dhoke..️️️

Read More

यदि तुम उचित कारण से चिल्लाकर बात करते हों तों वह गलत होगा। लेकिन फालतू बातों पर कोई नहीं टोकता। क्यूंकी जमाना फिजुल के बातों में ही लगा पड़ा हैं।

-Khushi Dhoke..️️️

Read More

क्या जमाना आ गया हैं। भरें बाजार कत्ल होकर भीं मुजरिम पकड़ा ना जाएं इससे बुरा और क्या हों सकता हैं।

-Khushi Dhoke..️️️

Read More

अजीब सी हलचल दिल में हैं। कहीं तुम्हारे आने की खुशी में मर ही ना जाऊं।

-Khushi Dhoke..️️️

माणूस म्हणून जगताना
थोडं हसायचं असतं, थोडं रडायचं असतं...
सगळं सहन करूनही
कुणालाच काही सांगायचं नसतं...
तुम्ही जर सांगितलंच कुणाला तर,
लोकांना तुमच्या भावनांना छळायच असतं...
आणि जर का सांगितलं नाहीच कुणाला
तर, मात्र तुम्हाला एकट्यात रडायचं असतं...
माणूस म्हणून जगताना
जीवन असच जगायचं असतं...

-Khushi Dhoke..️️️

Read More

पता नहीं क्यूं डर हैं दिल में। कहीं कोई अपना मुसीबत में होने का इशारा तो नहीं।

खुशी ढोके

क्या करें? जब दिल में अजिब सी हलचल हों। जिसका हमें ही पता ना हों।

खुशी ढोके

सबको बस किताबी ज्ञान लेना हैं। जीवन में अच्छा इन्सान किसी को नहीं बनना। भला कोईं बनना भी क्यूं चाहेगा? उससे नुकसान कें सिवा कुछ हासिल नहीं।

खुशी ढोके

Read More

कुछ लोग ऐसे होते हैं जो अपने आप को दुसरो की गलतियों की सजा देकर दु:ख मना रहें होते हैं।

खुशी ढोके

❣️❣️❣️❣️