मी सामाजिक श्रेणीत लिखाण करणारी एक सामान्य लेखिका आहे. अनुभव, स्त्री - विशेष, सामाजिक श्रेणीत लिखाण. स्वसुख निरभिलाष: खिद्यते लोकहेतो: प्राधान्यास असेल "मौन" तर, तुम्ही नसाल कधीच कोणासाठी "गौण". माणूस म्हणून जगताना, संघर्ष ही देणगी समजली तर, यश तुमच्यापासून लांब न जाता तुम्हाला आपलंसं करून आयुष्यभराची साथ देईल.

मुसीबत उतनी भी बड़ी नहीं होती जितना हम उसके पैदा होने से पहले ही सोच लेते हैं।

✍️ खुशी ढोके

गुढी - सुखमय संकल्पनांची.🙏

#जिंदगी तेरे नाम ❤️!

दिल में क्या हैं बताने पर
तुमने मज़ाक उड़ाया मेरे जज़्बातों का।
हर बार मुझें ही ग़लत बता
मज़ाक बनाया मेरे व्यक्तित्व का।
दिल में बसती थीं और हमेशा बसती रहोगी तुम
यें तुम्हें वादा करेंगे, हिस्सा बना कर हमारे जिंदगी का।

@khushinsta

Read More

#एक महत्त्वपूर्ण निर्णय।

भविष्य बनाने में हमें जब कोई परिक्षा देनी हों तों साहित्यों का चयन हम खुद ही करते हैं। फिर जब जीवन संवारने का वक्त आता हैं तो जीवनसाथी चुनने का हक़ हम दुसरो को क्यूं दें!

@khushinsta

Read More

#बस सफर हीं तो था कट गया।

यें सूरज ढ़लने का समय भी कितना फुरसत भरा होता हैं ना! साला हमारें प्यार में तैरना सीखनें से लेकर प्यार की नाव डूबनें तक का सफर याद दिला देता हैं।
जिसमें धुंधली यादों की कोई गुंजाइश नहीं होती।

@khushinsta

Read More

#आंखों देखीं 👀

बात हों आंखों देखीं
तभी उसपर विश्वास करना।
किसी के बताई बातों पर
ना कभी तुम भरोसा रखना।
लोग चाहेंगे रिश्तों के बीच
मनमुटाव हों और दुरियां आयें।
फिर भीं आंखों देखी वाली प्राथमिकता हीं
आप जीवन में अपनाएं।

@khushinsta

Read More

# हंसना सिखो.😁

क्यूँ डरना किसी सें इतना
दिल खोल कर हंसना सिखों।
क्यूँ सोचना किसी कें बारें में इतना
दिमाग को आराम दें कर हंसना सिखों।
कोई क्यूँ ना कह दें पागल हमें
तुम बस बिना रुकावट हंसना सिखों।
कोई उद्देश्य रखतें हों अगर जीवन में
बस उसे हंसते - हंसते पूरा करना सिखों।

@khushinsta

Read More

🕯️तुम्हारी ❤️ मोमबत्ती🕯️

जिसके लिए प्यार में पिघलना बेफिजूल था,
जिसने न हीं ऐसा कभीं सोचा था।
लेकिन जब बारी तुम्हारें प्यार में ख़ुद जल
उसे रोशन करनें की आयी...
तब,
आखिर तक पिघलती रहीं तुम्हारी यें मोमबत्ती।

@khushinsta

Read More

#तुम ना आओगी पता था 💔

रातें कितनी सुनीं हैं ना?
तुम आतीं तो कितना अच्छा होता!
बैठ चांद कों तुम देखतीं और गोद में सर रख मैं मेरे चांद को देखता!
पर लगता हैं न अब तुम आओगीं न हीं वो चांद।
यें रातें बस यूं ही मेरीं जिंदगी कीं तरह अकेलेपन में गुज़र जाएगी।

@khushinsta

Read More

जो थॉट्स "#टायटल " के साथ शेअर कर रही हूं वो किसी ने सजेस्ट किये हुये टॉपिक हैं.. लेखक का व्यक्तिगत रूप से इस से कोई संबंध नहीं..🙏✍️🙏

शुभ संध्या..🌅

Read More