कल की फिक्र छोड़ हम आज में जीते हैं. सुख और दुःख में फरियाद नहीं करते हैं . हर हाल में खुद से उम्मीद रखते हैं. दिल किसी का दुखे वो बात नहीं करते हैं. जीवन में किसी का भला नहीं तो बुरा तो कभी नहीं करते हैं. खाली हाथ आए थे लेकिन सब के दिलों में घर तो बना सकते हैं. नाम कल्पना है लेकिन यथार्थ में जीती हूँ.

Good morning

Good morning ?

सुबह का प्रणाम ??

संसार में जीवन रूपी नौका को खुद ही पार लगाएं।
#कल्पना

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ??

दीप पर्व के अवसर पर ‌ढेरों शुभकामनाएं ?
# कल्पना

सुबह का प्रणाम ?

ख्वाबों की दुनिया सजा लो दोस्तों
हकीकत में तो रोना ही है जिंदगी में।
कुछ मुस्कुरा कर जी लीजिए और
वजह पूछे कोई तो भी मुस्कुरा दीजिए।

#कल्पना

Read More

Happy Sunday ???

सुप्रभात दोस्तों ??,

जीवन के हर कोने में एक अपने लिए भी जगह बना कर रखें।
क्योंकि स्वार्थी दुनिया में खुद से बेहतर कोई नहीं होगा।
#कल्पना

Read More