कल की फिक्र छोड़ हम आज में जीते हैं. सुख और दुःख में फरियाद नहीं करते हैं . हर हाल में खुद से उम्मीद रखते हैं. दिल किसी का दुखे वो बात नहीं करते हैं. जीवन में किसी का भला नहीं तो बुरा तो कभी नहीं करते हैं. खाली हाथ आए थे लेकिन सब के दिलों में घर तो बना सकते हैं. नाम कल्पना है लेकिन यथार्थ में जीती हूँ.

ख्वाबों की दुनिया सजा लो दोस्तों
हकीकत में तो रोना ही है जिंदगी में।
कुछ मुस्कुरा कर जी लीजिए और
वजह पूछे कोई तो भी मुस्कुरा दीजिए।

#कल्पना

Read More

Happy Sunday 🌸🌹💐

सुप्रभात दोस्तों 🙏🙏,

जीवन के हर कोने में एक अपने लिए भी जगह बना कर रखें।
क्योंकि स्वार्थी दुनिया में खुद से बेहतर कोई नहीं होगा।
#कल्पना

Read More

#गांधी गीरी

शिक्षक को मन से पढ़ाने का मौका मिल जाए तो वह कोयले की खान से कोहिनूर हीरा निकाल सकता है।उसके हाथ में देश का भविष्य है। लेकिन क्या भविष्य निर्माण करने वाले को बार बार रोकना, उसकी पसंद के विषयों से विपरीत जानबूझकर पढ़ाने के लिए मजबूर करना यह बड़े साहब की आदत होती गई। एक बार बताया कि यह उसका पसंदीदा विषय है तो उसे नहीं दिया गया, विधार्थियों को नये प्रोग्राम के लिए प्रेरित किया तो बताया कि वो इनलिगल काम करते हैं। संस्था में उसके खिलाफ कार्रवाई के लिए पत्र लिखा। खुद नया कुछ करना नहीं चाहते और दूसरे के अच्छे काम किए जाने पर भी परेशान करते रहना उसकी आदत होती गई।शायद उसको दूसरे के साथ बूरा करने के बाद ही सुकून मिलता हो? साहित्य के क्षेत्र में ऐसे साहब ने बदनाम करने की कोशिश की है। लेकिन अब शिक्षक ने भी संतुष्टी से ही काम चलाना सीख लिया उसके विचार से लगता है कि वह सब कुछ बदल देगा यह वैसा ही वहम है बैल के नीचे चला जा रहा कुत्ता खुद को समझने लगता है कि गाड़ी में ही चला रहा हूं। अब साहब को इंतजार है कि मैं विद्रोह करुंगा लेकिन गांधी जी के दूसरे गाल आगे करने वाली स्थिति में अब बेचारे की हालत गंभीर बनी हुई है।
यह सत्य है इर्ष्या में लोग क्या कर जातें हैं खुद को भी नहीं पता। शिक्षक का काम है आगे बढ़ते हुए निरंतर विधार्थियों के हित में लगे रहते भविष्य की चिंता किए जाना।

Read More

नमस्ते 🙏🙏

हर आदमी सहमा सा है
संसार के दरवाजे पर

सुप्रभात दोस्तों

कुछ नयी जानकारी सब के लिए

https://suhana830693197.wordpress.com/

my new travel blog please Read, like and share.

लेह लद्दाख: कुदरत का करिश्मा

सुबह का प्रणाम 🙏🙏

सुबह का प्रणाम 🙏😊💐🌸🌹
संबंधों के रूप में वृक्ष तब पनपने लगता है
जब समय रूप में उसमें खाद देते हैं
वरना धीरे धीरे से संबंध भी मुरझाने लगेगा
इसलिए अपनों को आप समय दीजिए।
#कल्पना

Read More