में कमलेश शर्मा"कमल" वर्तमान में सीहोर(म प्र) में निवास करता हूं जिला शहरी विकास अभिकरण कलेक्ट्रट सीहोर में सहा.परियोजना.अधिकारी के पद पर कार्यरत रहते हुये अपने शासकीय दायित्व के साथ मुझे गीत.ग़ज़ल.चुटकुले.हस्यव्यंग छोटी छोटी कविताये लिखने में रुचि वचपन से ही रखता हूं l मेरी लिखी हुई गज़ले गीत स्थानीय समाचार पत्रों में प्रकाशित हो चुकी है,वर्तमान में भी होती रहती है lमेरा आप सभी मित्रों से अनुरोध है कि मेरी लिखी हुई ग़ज़ल.कविता.एवं हस्यव्यंग की कविताओं पर अपना अभिमत देकर मुझे संभल प्रदान कीजियेगा .

विश्वास की बैलगाड़ी पर जहां में अब तो चलना ही पड़ेगा,
शक मिटाने की दवा हुजूर हाकिम लुकमान ना बना सके ।
कमलेश शर्मा"कमल" 12/09/20
#विश्वास

Read More

विश्वास उन पर कर लिया, सितम-ओ-रहम उसके हाथ
यकीन उस पर इक अरसे से है वो पराया हो नही सकता ।
कमलेश शर्मा "कमल" 12 /09/20

#विश्वास

Read More

मुश्किलों में केवल हम ही नही है यू तो सारा ही जहान है ।
ये कॅरोना महामारी बला की आफत हर शख्स परेशान है ।
कमलेश शर्मा "कमल" सीहोर (मध्य प्रदेश)
#मुश्किल

Read More

बहुत मुश्किल हुआ था उनसे अपने रास्ते अलग करना ।
ना पूछो उनसे अलग राह बनाकर हम कितने अकेले है ।
कमलेश शर्मा "कमल" सिंहोर (मध्य प्रदेश)
#मुश्किल

Read More

गलत को मैने हमेशा गलत ही कहा सत्य का ही दिया साथ
फिर क्यो ना बन पाया प्रिय अपना जन्म-जन्म का साथ ।
**********कमलेश शर्मा "कमल" सीहोर म प्र ******
#गलत

Read More

महंगाई की मार हाल-वे- हॉल
***********
तुम ही कुछ रास्ता बताओ मेरे अब श्री भगवान,
कैसे चालाऊ में अपने घर-परिवार- छोटी दुकान ।

महंगाई मार रही चहु-ओर नही है अब राहत,
मिल जाये रूखी-सुखी बस नही कोई चाहत ।

घर-दूवार की गाड़ी तो अब जैसे तैसे चलानी होगी,
घर में हुई सयानी वेटी पूंजी उधार भी व्यहनी होगी,

तिनके तिनके से थोड़ी-थोड़ी जोड़ी थी बचत की पूंजी,
पेट की आग परिवार की उसी से अब बुझानी तो होगी ।

कह "कमल" कविराय भगवान अब राहत की आस दो,
चलती रहे घर परिवार की गाड़ी ऐसा मंत्र सिद्ध करा दो ।
*************कमलेश शर्मा "कमल"**************
25-06-2020 ( सीहोर )
********************************************
#उष्ण

Read More

कितनी मासूम बातूनी वो दिल की सारी बाते बोल देती है,
कटुता जरा नही है मन मे उसके विंदास सब बोल देती है ।
🎂🎂🎂🎂🎂कमलेश शर्मा"कमल"🎂सिंहोर🎂🎂
#बातूनी

Read More

बातूनी लोग जो होते है वो अकसर दिल के साफ होते है,
जो भी दिल मे बात होती है तर्क ज़ुबान पर ले ही आते है ,
साफगोई से अपनी बात वो सबके सामने में ही रखते है
पीठ पीछे किसी को बुरा कहने में ना कभी विश्वास करते है
💐💐💐💐कमलेश शर्मा "कमल"💐💐💐💐💐

#बातूनी

Read More

जानबूझ कर उनकी खुशी के लिऐ मूर्ख बन जाते है हम,
अपनी कामयाबी पर हँसती है वो मुस्कुराते फिर हम भी है
********कमलेश शर्मा "कमल" सिंहोर म प्र ********
#मूर्ख

Read More

चार दिनों की जिंदगी में क्यो कटुता अपने ह्दयों में रखे ।
प्यार सद वयाहार से जितना जीवन मिला दिल से जिये ।
#कटु

Read More