Hey, I am reading on Matrubharti!

वो ना कल हमारे थे,
ना ही आज हमारे है।।
ये महोब्बत तो बस एक खेल थी,
जिसका हर पल बने हम महोरा है।।

हर सुबह भगवान का शुक्र करो तुम्हें उठाने के लिए, एक और दिन दिया है तुम्हें अपना कर्म निभाने के लिए, वो जनता है कैसा दिन तुमने गुजरना है, कहो उस भगवान से रास्ता दिखने के लिए, GOOD MORNING

Read More

मैं तुम पर अपनी जान भी लुटा दूँ...
तुम मुझ से मुझ जैसी मोहब्बत तो करो

आसानी से कुछ ना मिले तो उदास मत होना, मिल जायेगा सब तो फिर कोशिश क्या करोगे..? सपने सब हक़ीक़त नहीं होते, अगर होंगे सब हक़ीक़त तो फिर सपने क्या देखोगे..??

Read More