Salute to the Indian Soilder....

સ્વીકાર એ કોઈ સમસ્યા નું સમાધાન નથી,
સ્વીકાર ત્યાં જ થાય જયાં "ચાહત" નથી...✍️

ना जान हुई,ना पहचान
ना इश्क है,ना इबादत
ना इजहार हुआ,ना इकरार
फिर भी दिल से दिल चाहता है..✍️

चांदनी सी रात में
हम कही गुम से हो गई

मधुर पवन की लहरो में
हम कही खो से गई

तेरे विचारो की वर्षा में
सुबह की धुप हो गई

लो फिर से मदहोशी की रंगीन रात के नज़ारे
में सुबह की बाती हो गई...✍️

Read More

લાગણીઓની પ્રદર્શિતાંમા સાચી લાગણીઓ આજ ક્યાંય ખોવાય ગઈ છે...✍️

आईना सिर्फ अक्स दिखता है,पर अक्स ही खुदको पहेचान न पाए तो..✍️

बदनाम गलियो को बदनामी से सजाने
अक्सर शरीफो की महफील जमती है...✍️

तमिज की दीवारों में कैद हम उनकी बतमीजी को नजरअंदाज करते रहे...✍️

તારા દિલની અકથિત લાગણી ,તારી આંખના પલકાર સમજાવી જાય છે..✍️

अरे!ओ इश्क

गुमान था ना तुम्हे!!
ना मेरा कोई इलाज है,ना मरहम
तो सुन तेरी टक्कर का भी कोई आया है
तूने तो मासूमो के दिलो पे राज़ किया है
पर वो तो पूरे जहा का जहापना बन बैठा है..✍️
# Covid -19#

Read More

अखियां सिर्फ ईश्क लडाना जानती है
बेनाम सा दर्द तो दिल ही जेलता है..✍️