Book lover,Yong philosopher/| शायर | On filling in love sorry, Co-founder and CEO Global Financial Consultants

उदासियो की वजह पूछते है सभी मुझसे,
तुम्हारी तसवीर दिखा दूँ अगर एतराज न हो।

#MeriKhanii

इस कदर उदासियो में मुब्तिला है,
अब हम किसी को कही नजर नही आते।

#MeriKhanii

कोई फैसला अब नही होता,
कोई बात अब कही नही जाती।

#MeriKhanii

लड़कियां अब लड़को से बेहतर है,
ये लिखना भी जानती है और बोलना भी।

#MeriKhanii

तुम भी हो बीते वक्त की तरहा,
तुमने भी याद आना है, आना तो नहीं है।

#MeriKhanii

में चाहता था मेरी महबूबा हो
जो मुझसे मोहब्बत करती हो
मुझे ज़रा भी दर्द हो महसूस उसे भी हो
मेरे सामने न सही पीछे ही सही
थोड़ी ही गमजदा हो
और मुझे अकेले में याद करे।

#MeriKhanii

Read More

तुम हो मेरे पास लेकिन साथ नही हो
तुम बात कर रही हो मुझसे।
लेकिन मुझे बातें अधूरी लग रही है
में सोच रहा हूँ तुम्हे तो सब कुछ भूल रहा हूँ
अब कुछ याद नही है। शिवाय तुम्हारे।

#MeriKhanii

Read More

जिसके नजदीक रहकर भी कुछ न कह सका
उसके लिए मैंने किस कदर खत लिखे।

#MeriKhanii

तुमने तो बेरुखी से नजरअंदाज कर दिया,
मेरे हाल तो देखो मेरा संभलना मुश्किल है।

#MeriKhanii

बेपरवाह है तुम्हारी यादे,
हमारी हालत पर भी रहम नही खाती।

#MeriKhanii