Hey, I am on Matrubharti!

Follow this link to join my WhatsApp group: https://chat.whatsapp.com/ECfke7PRlXB3MIx55sgRLJ

*किसी से प्रेम करने की कोई वजह नहीं होती...*
*प्रेम तो सिर्फ प्रेम है, यदि वजह है तो वो प्रेम नहीं पसंद है...!!!* ❤

Read More

*एक बार श्री राधा जी ने पूछा मोहन से तुम्हें सब लोग चोर क्यों कहते हैं?*
*मोहन जी बोले राधे, मैं चोर हूँ,*
*तभी तो लोग कहते हैं।*
*राधा जी ने फिर पूछा :- तुम क्या - क्या चुराते हो ?*
*कान्हा जी बोले तो फिर सुनो, जब मैं छोटा था तब*
*सब का मन चुराया करता था।* *फिर थोड़ा बड़ा हुआ तो मैं माखन चुराने लगा जब थोड़ा और बड़ा हुआ तो मैंने गोपिओं के वस्त्र चुराये ।*
*उस के बाद मैं भक्तों के प्यार में ऐसा हो गया,*
*की मैंने एक नए*
*तरह की चोरी शुरू कर दी।*
राधा जी बोली कैसी चोरी ?*
*कान्हा जी ने बड़ा अच्छा जवाब दिया :- आज कल मैं*
*अपने*
*भक्तों के पाप भी चुरा लेता हूँ।* *राधा जी बोली कहाँ है यह भक्त ?*
*कान्हा जी बोले एक तो इस मैसेज को भेज चुका,*
*दूसरा इसे पढ़ रहा है*
*जय श्री राधे कृष्ण...*
*💐शुभ रात्रि मित्रो💐*
🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️🕊️

Read More