प्रवक्ता ,स्वतंत्र लेखन ,मुम्बई आकाशवाणी,दिल्ली आकाशवाणी,विविध भारती ,ब्लॉग,पत्रिकाएं,.....साहित्य ,संगीत मेरे जीवन का अभिन्न अंग

तुमसे मिला सुर ताल लय
कदम मिले
हुआ जीवन सुखमय

#डॉ जया आनंद

दोस्ती में माफी और शुक्रिया जैसे तकल्लुफ नहीं होते बस मन को समझना होता है और मन को आइसक्रीम के जैसा पिघलना होता है .....

#डॉ जया आनंद

-Dr Jaya Anand

Read More

इस सतरंगी दुनियां में विश्वास ही वो धागा है जिसमें बुने होते हैं
रिश्ते -नाते
और दोस्ती
ये धागा टूटते ही बिखर जाता है सबकुछ ....

# डॉ जया आनंद

Read More

' विश्वसनीयता ' सच्चे मित्र का प्रमुख लक्षण है

# डॉ जया आनंद

मुझे सहना भी आता है
मुझे कहना भी आता है
खेद है मगर
आप मेरे कहे को सुन नहीं पाते ....

# डॉ जया आनंद

'त्याग ' की सीढ़ी
चढ़ कर ही मिलता है लक्ष्य ...
सच !जीवन है संघर्ष

# डॉ जया आनंद

तुम्हारे सहज साथ से मन होता है हल्का
तुम मेरे लिए भार नहीं
मेरे जीवन का अनुपम उपहार हो

# डॉ जया आनंद

Dr Jaya Anand लिखित कहानी "पाती प्रेम की" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19894043/pati-prem-ki

प्रेम

प्रेम
आत्मा को उज्ज्वल
करता हुआ
विस्तार देता है
संकुचन नहीं,

विचारों को
परिष्कृत करता हुआ
उदार बनाता है
विकृत नहीं

प्रेम
व्यक्तित्व को
सहज करता हुआ
सरल बनाता है
जटिल नहीं ,

जीवन में
विश्वास जागता हुआ
उसे सुंदर बनाता है
विद्रूप नहीं

प्रेम यदि
आत्मा को
करता है संकुचित
विचारों को
करता है विकृत
व्यक्तित्व को
बनाता है जटिल
जीवन को
बनाता है विद्रूप
तो फिर ..
वो प्रेम नहीं !

# डॉ जया आंनद

Read More