Hey, I am on Matrubharti!

पागल यह जमीं इश्क़ कर बैठी बादलों से जो आते बरसने , जब भरता अथाह जल उनमें धरती के दर्द भरे आंसुओं से
#पागल

Read More

एक कशमकश सी चलती है दिन रात संग घड़ी के कांटे सी ,क्या नुक्स रह गया हममें की रास नहीं आता यह खूबसूरत सा जहां

Read More

मान गुमान न कोई धन दौलत की चाह , प्यार ,नजरों में सम्मान के सदके बिक जाती नारी
#आदर

मेरी तनहाईयों में मेरा मुझसे मिलना अपूर्व आंनद देता है ,। दायरों को विस्तार दे तुझमें स समाना परमानन्द देता है सांवरा
#आनंद

Read More

कभी दिल से लड़ी कभी दिमाग से लड़ी ,कभी खुद से कभी हालात से लड़ी , तुझसे बिछड़ के हर रोज़ इस ज़िन्दगी से लड़ी , थक हार न बैठी तब तक इस दुनिया से लड़ी , और आखिर एक रात कोई दम तोड़ गई मुझमें ,,,,

Read More