Mayur Patel loves Writing. He writes in English and Gujarati Languages. His first English Novel 'Vivek and I' was published by Penguin Books India. His second English Novel 'Scarlet Nights' will be released in March 2016. His first Gujarati Novel 'TarpanYatra' was episodically published in Gujarat Guardian Daily. It will be published by R R Sheth & Co. in February 2016. He has written Various Columns for Newspaper like Gujarat Guardian and Mumbai Samachar.

फिल्म रिव्यूः ‘ड्रीम गर्ल’ कमाल-धमाल-बेमिसाल कोमेडी

एक के बाद एक सुपरहिट फिल्में देनेवाले आयुष्मान खुराना की लेटेस्ट रिलिज है ‘ड्रीम गर्ल’. कैसी है ये फिल्म..? ट्रेलर में तो बडी मजेदार लगनेवाली ये फिल्म क्या वाकई में इतनी मनोरंजक है..? ‘ड्रीम गर्ल’ के साथ आयुष्मान क्या अपनी हिट-रन जारी रख पाएंगें..? चलिए जानते है फिल्म के रिव्यू के जरिए. पूरा रिव्यू पढने के लिए नीचे दी गई लिंक पर जाके क्लिक करें.

https://bit.ly/2lSudpe

#filmreview #dreamgirl
#dreamgirlreview

Read More

फिल्म रिव्यू ‘साहो’- एक्शन के नामे पे ‘हथौडा’

‘बाहुबली’के बाद प्रभास की इस बिग बजेट फिल्म ‘साहो’ का दर्शकों को एक अरसे से इंतेजार था. इस हफ्ते आखिरकार ये एक्शन फिल्म रिलिज हो ही गई. कैसी है ये फिल्म..? ट्रेलर में दमदार लगनेवाली ‘साहो’ क्या वाकई में इतनी बढिया है..? प्रभास के साथ श्रद्धा की जोडी सिनेपर्दे पर क्या रंग ला पाई है..? 350 करोड के मोटे-तगडे बजेट में बनी ये फिल्म क्या सच में इतनी भव्य है..? चलिए जानते है फिल्म ‘साहो’ के रिव्यू के जरिए. रिव्यू पढने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें.

https://bit.ly/2L9F48x

Read More

વાર્તાઃ ‘આજે તો એવું થયું...’ લેખકઃ મયૂર પટેલ
કલાક બાદ ઘરે જવા નીકળ્યા ત્યાં નજીકના બસ સ્ટેન્ડે સંધ્યા કળાઈ. એ જ લાલ સાડી ને એ જ ગુલાબી ગાલ. સંધ્યા દર બે-ત્રણ દિવસે એ જ બસ સ્ટેન્ડ પર ભટકાઈ જતી. ચંપકલાલના સદ્નસીબે એ મળે ત્યારે બસ સ્ટેન્ડે બીજી કોઈ ‘હડ્ડી’ ન જ હોય.
સંધ્યાએ હંમેશ મુજબ ચંપકલાલને સસ્મિત આવકાર્યા.
‘બહુ દિવસે દેખાયાને કાંઈ..!’ ચંપકલાલ મરક-મરક થતા બોલ્યા. સંધ્યા એમને ગમતી. ઘણી ગમતી. યુવાન, ખૂબસૂરત ઓરત કયા પુરુષને ન ગમે? પાતળો દેહ. ગોરી ત્વચા. કાળાભમ્મ વાંકડિયા વાળ. આંખમાં સુરમો ને હળવી લિપસ્ટિક. ચંપકલાલને થતું કે સ્ત્રી તો આવી જ હોવી જોઈએ. ન કમ, ન જ્યાદા.
‘તમે યાદ કરતા જ નથી પછી ક્યાંથી દેખાઉં..!’ સંધ્યા ખિલખિલ હસતી બોલી.
ચંપકલાલ એ હાસ્ય પર ફિદા હતા. તેમણે કહ્યું, ‘યાદ કરવાનું તો એવું છે કે… હવે ઝાઝું યાદ નથી રહેતું. ક્યારેક ઘરે આવતા હો તો… નિરાંતે વાતો થાય.’
‘ચોક્કસ આવીશ.’ સંધ્યા રણકી. ‘તમે બોલાવો તો ખરા.’
વાર્તા આગળ વાંચવા માટે નીચેની લિંક પર ક્લિક કરો
https://bit.ly/2TOBwvc

Read More

फिल्म रिव्यू ‘बाटला हाउस’– गंभीर विषय पर बनी गंभीर फिल्म

दिल्ली के बाटला हाउस में हुए एनकाउंटर पर बनी फिल्म ‘बाटला हाउस’ स्वातंत्र्य दिन के मौके पर रिलिज हुई है. कैसी है ये फिल्म..? सत्य घटना पर आधारित ये फिल्म क्या वाकई में इतनी मनोरंजक है की सफल हो पाए..? क्या जॉन अब्राहम पुलिस अफसर संजीव कुमार यादव के किरदार को पूरी तरह से न्याय देने में कामियाब हुए है..? चलिए जानते है फिल्म ‘बाटला हाउस’ के रिव्यू के जरिए. रिव्यू पढने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें.
https://bit.ly/31IS0ry

Read More

फिल्म रिव्यू ‘मिशन मंगल’- इसरो का वो गौरवशाली अध्याय
नए जमाने के ‘मिस्टर भारत’ अक्षय कुमार की देशभक्ति से भरपूर फिल्म ‘मिशन मंगल’ इस हफ्ते स्वतंत्रता दिवस पर रिलीज हुई है. भारत के स्पेस रिसर्च प्रोग्राम पर आधारित ये फिल्म कैसी है..? बडी स्टारकास्ट को लेकर आई इस फिल्म में क्या सभी कलाकारों को स्क्रीन स्पेस मिल पाई है..? विज्ञान जैसे भारी विषय पर बनी ये फिल्म क्या बोक्सओफिस पर कमाल कर पाएगी..? चलिए जानते है फिल्म ‘मिशन मंगल’ के रिव्यू के जरिए. रिव्यू पढने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें.
https://bit.ly/2N7TZ4I

Read More

‘अलादीन’ फिल्म रिव्यूः मनोरंजन का तूफान
अरेबियन नाइट्स. अरबस्तान की कहानीयां. भारत की न होने के बावजूद भारतीयों को काफी जानी-पहेचानी, अपनी-सी लगनेवाली उन कहानीयों पर बनी एनिमेशन फिल्में तथा सिरियल्स हम सब देख चुके है, पसंद कर चुके है. (याद है ‘अलीबाबा और चालीस चोर’ तथा ‘सिंदबाद’?) कुल मिलाकर एक हजार एक कहानीयों के उस ‘अरेबियन नाइट्स गुलदस्ते’ की एक बहेतरिन कहानी है ‘अलादीन और जादूई चिराग’. वही कहानी अब लाइव एक्शन के रूप में बडे पर्दे पर आई है ‘अलादीन’ बनके. कैसी है ये फिल्म..? क्या ये फिल्म 1992 की उस क्लासिक डिजनी एनिमेशन फिल्म की अपार सफलता को दोहरा पाएगी..? क्या विल स्मिथ जिन्नी के रूप में दर्शकों का प्यार बटोर पाएंगे..? पश्चिमी दुनिया के अदाकार ‘अलादीन’ और ‘जास्मिन’ जैसे आइकोनिक एशियन पात्रों को किस हद तक न्याय दे पाएंगे..? चलिए जानते है फिल्म ‘अलादीन’ के रिव्यू के जरिए. पूरा रिव्यू पढने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें…
https://www.matrubharti.com/book/read/content/19868049/film-review-aladdin

Read More

फिल्म रिव्यू ‘दे दे प्यार दे’- उम्मीद से दुगना रोम-कोम मनोरंजन

‘प्यार का पंचनामा’ और ‘सोनु के टिटु की स्वीटी’ जैसी सफल रोमेन्टिक-कोमेडी फिल्में लिखने और डिरेक्ट करनेवाले ‘लव रंजन’ बतौर लेखक नई फिल्म लेकर आए है ‘दे दे प्यार दे’. अजय देवगन और तबु जैसे मंजेहुए कलाकार के साथ बनी ये फिल्म क्या सच में फिल्म के ट्रेलर जितनी मजेदार है? क्या इस रोमेन्टिक-कोमेडी फिल्म को दर्शक ‘प्यार’ देंगें? चलिए जानते है फिल्म के रिव्यू के जरिए. रिव्यू पढने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें.
https://bit.ly/2JoeQj3

Read More

‘स्टुडन्ट ऑफ द यर 2’ फिल्म रिव्यूः एक और ‘कलंक’

2012 की सुपरहिट ‘स्टुडन्ट ऑफ द यर’ ने हिन्दी फिल्म इन्डस्ट्री को आलिया भट्ट और वरुण धवन जैसे 2 रोकस्टार्स और सिद्धार्थ मलहोत्रा जैसा 1 फ्लोपस्टार दिया था. अब आया है उस फिल्म का दूसरा भाग ‘स्टुडन्ट ऑफ द यर 2’, जिसमें टाइगर श्रॉफ के साथ दो नई अदाकारा अनन्या पांडे और तारा सुतरिया डेब्यू कर रहीं है. कैसी है ये फिल्म? क्या ये फिल्म ‘स्टुडन्ट ऑफ द यर’ की सफलता को दोहरा पाएगी? या ये फिल्म भी करन जोहर के माथे का एक और ‘कलंक’ बनके रहे जाएगी? चलिए जानते है फिल्म ‘स्टुडन्ट ऑफ द यर 2’ के रिव्यू के जरिए. रिव्यू पढने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें…
https://bit.ly/2WAMepy

Read More

11 साल, 21 फिल्में और कई सारे सुपर हीरोज… मार्वेल युनिवर्सने एक के बाद एक ब्लोकबस्टर फिल्में देकर पूरी दुनिया के सिनेप्रेमीओं को खुश कर दिया था. और इस पूरी मार्वेल विरासत को समेट कर अब आई है इस युनिवर्स की २२वीं फिल्म ‘ऐवेंजर्स एंडगेम’. कैसी है ये फिल्म? क्या थेनोस को मारने का कोई रास्ता ढूंढ पाएंगे ऐवेंजर्स..? खोए हुए सुपर हीरोज क्या वापिस आ पाएंगे..? चलिए जानते है फिल्म के रिव्यू के जरीए. रिव्यू पढने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें…
https://bit.ly/2L1ncP1

Read More

‘कलंक’ फिल्म रिव्यू - भणसाली के हेंगओवर में बनी कमजोर ‘कलंक’

एक था करन जोहर. बडी बडी ब्लोकबस्टर फिल्मों का निर्देशन और निर्माण करके खूब पैसा बटोरने और भारतीय दर्शकों का खासा मनोरंजन करने के बावजूद कई बार वो अपने इन्टर्व्यू में कहेता था की, ‘मैं क्यूं ‘बर्फी’ जैसी क्लासिक फिल्में नहीं बना सकता? संजय लीला भणसाली बनाते है वैसी भव्य, मेग्नमओपस फिल्में मैं क्यूं नहीं बना सकता?’
तो जनाब जोहर ने आखिर तय कर ही लिया की अब मैं भी भणसाली बनके दिखाउंगा, मैं भी एक एसी महा…न फिल्म बनाउंगा की दर्शक देखते रह जाएंगे..! तो उन्होंने प्रोड्युस की ‘कलंक’.
कैसी है ये मल्टीस्टारर फ़िल्म? संजय लीला भंसाली की फिल्मों जैसी दिखने वाली 'कलंक' क्या सच में भंसाली की फिल्मों जितनी दमदार है? एक साथ 3 हिट फिल्म देने वाली आलिया-वरुण की जोड़ी का जादू क्या फिर एक बार दर्शको पर चलेगा? चलिए जानते है फिल्म के रिव्यू के जरीए. रिव्यू पढने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें…
https://www.matrubharti.com/book/19866684/kalank-film-review

Read More