my mom is the soul of family.

हम उस डाल के पत्ते हैं
जनाब

लोग उठाते भी है
तो  सिर्फ जलाने के लिए💔

-Maya

Maya

-Maya

पिता बो बरगद का छाया है
जो समझ में नहीं
पर साथ हर दम नजर आता हैं

-Maya

उदास हुं या बेहाल हुं ना कोई हाल पूछते हैं
अगर जरा सा मुस्कुरा दु तो सारे सवाल पूछते हैं

-Maya

एक पिता अपने बच्चों के खातिर
एक बार नहीं कई बार भूखा रह जाता है
कभी अभिमान तो कभी स्वाभिमान है पिता,
कभी धरती तो कभी आसमान है पिता,

कहते हैं खाना तीन बार खाना चाहिए
पर वह बच्चों के खातिर
कई दफा एक या आधा पेट से काम चलाता है

एक पिता होना कहां आसान रह जाता है
अपनी हैसीयत से ज्यादा
हरपल बच्चों को खुशी दे जाता है

चीहे कितने जिंदगी आजाव हो
घर की खुशीयों की खातीर
गमों को गले लगाता है पिता

माँ अगर मैरों पे चलना सिखाती है…
तो पैरों पे खड़ा होना सिखाता है पिता…..”
“कभी रोटी तो कभी पानी है पिता…
कभी बुढ़ापा तो कभी जवानी है पिता…

कभी कुछ खट्टा तो कभी कुछ खारा हैं पिता
उंगली पकड़े बच्चे का सहारा है पिता

जब भी थक हार कर घर पर लौटता हैं पिता
अपने बच्चों को  मुख देख
सारे गम ,भुल जाता हैं पिता

एक पिता बनना हां आसान रह पाता है
जब सारी घर की जिम्मेवारी
उसके कंधों पर आ जाता है


-maya

-Maya

Read More

तुम्हारा यादो को कैसे भुलाउ  ?


नींद आती नहीं
तुम्हारी याद जाती नहीं

मंत्र पढ़ु या
कोई बाबा के पास जाउ!

मंदिर जाए या
मस्जिद होकर आउ?

पुरे दिन भटकती हु खुद  में
इधर-उधर हर एक  पल -पल,

पर रात को तुम्हारी यादों से
हटकर फिर भी ना सो पाउ'

दिल में छुपी जज्बातों को
किसे जाकर बताउ,

गुजरे हुए लम्हे को कैसे भुलाउ
गीता पढु या कुरान को पढ जाउ

बोलो न
तुम्हारी यादों को कैसे मिटाउ!!

-Maya

Read More

Maya

-Maya

Maya

-Maya

Maya

-Maya

मेरी आँखों की सुकून हो तुम
जब रहती हो मेरे सामने
तो दिल को सुकून मिलता है


जो ना देखूं किसी रोज तुम्हें
तो बैचेनी सी होती है मेरे मन में
जो हँसती हो, कभी मेरी बात पर

तो मेरे होठों पर तुझसे बात करने
की चाहत बस आकर रह जाती है
ख्याल जब भी आती है


मेरे मन में तुम्हारी बातों का
तो मेरे होठों पर एक
हलकी सी मुस्कान आ जाती हैं


जब कभी देखूं तुम्हें हँसते हुए
तो मेरे मन में सतरंगी फूल खिल उठता है

जब भी तेरी खुले बालों को देखता हूँ
तो लगता है जैसे बाग़ में फूलों को
हवा का कोई झोंका सहला रहा है


ऐसा लगता है की तेरी हर एक अदा पर
मेरी ख़ुशी की निशानी है

जब भी तुझे देखता हूँ
तो एक कहानी सी लगती हो
जिसे बार बार पढ़ने को मन करता है
काश की तुम्हें ये बता सकता
मेरी आँखों की सुकून हो तुम.

Read More