Change your words, change your life.

Read my Novel "હકીકત" free on Matrubharti. if you like it then please give your valuable review and share it!!!

Full story is available!!





https://www.matrubharti.com/novels/25412/hakikat-by-minal-vegad

खुद का माइन्स पोइंट
जान लेना,
जिंदगी का सबसे बड़ा
प्लस पोइंट है!!

-Minal Vegad

सरेआम ये शिकायत है मुझे जिंदगी से,
क्यों मिलता नहीं मिजाज़ मेरा किसी से!!

-Minal Vegad

શબ્દોમાં લાગણી,
લાગણીમાં હું;
હું છું તારામાં,
બીજું તો શું??

-Minal Vegad

હું મને ગમું છું
એ મારા જીવનનો જશ્ન છે,
અન્યને ગમું કે ન ગમું
એ તો તેઓનો પ્રશ્ન છે!!

-Minal Vegad

किसी को चाहो तो इस नियत से चाहो की
वो तुम्हें मिले या ना मिले पर,
जब वो उसकी महोब्बत से मिले
तो उन्हें सिर्फ तुम याद आओ..!!

-Minal Vegad

Read More

सब्र से बांध धागे
रिश्तों की कच्ची डोर है जिंदगी
क्या तेरी और क्या मेरी
सबकी ऐसी ही है जिंदगी....

-Minal Vegad

अगर आप पर कोई मरता
है तो कोशिश
करो कि वो जिंदा रहे....

-Minal Vegad