Hey, I am reading on Matrubharti!

મળી જાય જો આત્મીયતા ની હૂંફ
તો આત્મહત્યા ના બનાવો જ ન બને.

मुझे रख दीया है छाव में।
खुद जलते रहे धूप में
मैंने देखा है एक फरिस्ते को
पिता के रूप में।

मायूस कभी न होना
दोस्त
बिखरोगे नही
तो
निखरोगे कैसे?