×

जो देखता हूँ वही बोलने का आदी हूँ मै अपने शहर का सबसे बड़ा फसादी हूँ

मोह्हबत हो जाय तो सजदे लम्बे हो जाते है
और
इश्क़ हो जाय तो सजदे मै सर कट जाते है
K. G. N