Hey, I am reading on Matrubharti!

दूसरों को समझाना बहुत आसान है पर खुद को समझाना ?

-Monika Rathi

विश्वास की डोर अदृश्य होती है पर इसके सहारे हर मुश्किल से पार पाया जा सकता है

-Monika Rathi

वक्त बीत जाता है,प्रेम नहीं

-Monika

सपनों के मर जाने पर जिन्दगी जिये जाना क्या वाकई आसान है।

-Monika

अपने पराये का भेद करते -करते जिन्दगी से प्रेम विदा हो जाता है एक दिन

-Monika

पत्थर की चट्टान ओर प्रेम से खाली दिल एक जैसे ही होते हैं।

-Monika

मन की बात कह देने मे इतनी देर कभी ना करें कि पछतावा रह जाये ,काश कह दिया होता

-Monika

जिन्दगी की कुल जमा पूंजी रिश्ते ही हैं .हठ मे इन्हें खोये नहीं वरन प्यार से सहेजें

-Monika

जिन्दगी की कुल जमा पूंजी रिश्ते ही हैं .हठ मे इन्हें खोये नहीं वरन प्यार से सहेजें

-Monika

जिन्दगी की कुल जमा पूंजी रिश्ते ही हैं .हठ मे इन्हें खोये नहीं वरन प्यार से सहेजें

-Monika