khvabo ki shahezadi

एक डर ही तो हे जो
ईनसान को कोई भी कदम उठाने से पहले सो बार
सोचने पे मझबुर कर देता है।

ભુતકાળમાં આંટો મરાય, રહેવાય નહી.
કેમ કે એમા રહેવા થી કોઈ ફાઈદો નથી ,
જે આજે સમય છે એ ખોવાય નહી એ પણ પોછો નહી આવે..

Read More

શું સપના હસે એ ગરીબનાં
જેનો શ્વાસ પણ ફુગ્ગામાં
ભરાઈને વેચાય છે.

આસુ છેવટે તો રસાયણ જ હોય છે,
જીંદગી સાલી ક્યાં પ્રયોગથી કમ હોય છે...

નીકળ્યા જ કરે નિત્ય નવા સ્વપ્ન નિરંતર,
પલકોની પછીતે કોઈ ખિસ્સું તો નથીને ?

कीसी भी तरह के argument से बचने का सबसे आसान तरीका
you are right
ईतनी सी बात से होने वाले बडे झगडे से बच सकते हैै ...

लोग कहते है कि ईश्क मे जो दर्द पाते है उसका दर्द
कलम के जरीये निखरता है
लेकीन यहा तो कुछ उलटा ही है ना कह सकते है ना सह सकते है ओर कलम
तो मानो थमसी गई है..

Read More

अब तक प्यार से बीछडे हुए लोग जो टुट कर बीखर जाते थे ऊन पर हम हसते थे तब पता नहीं था कि वह दर्द क्या होता है, लेकीन जब अपने आप पर बीती तब पता चला कि वह लोग सही थे...

Read More

अपने कीसीभी दर्द को आसु बनकर बिखर ने मत देना क्युकी
तुम्हे दर्द मे देखकर जमाना हसेगा
लेकीन अपने दर्द को
पसीना बनाकर बहावोगे
तो जमाना तूम्हे सलाम ठोकेगा...

Read More