Meri chahat tumshe hi

बेवफ़ाओ की कमी कहां है आज़कल

धोंखा देना तो एक आम बात है आज़कल ।।

तन्हा

अकेले होने का अहेसास होता है आज़कल

जब कोई मेरी बात नहीं सुनता है आज़कल ।।

तन्हा

एकरूप तो इश्वर का ही होता है

हमें ए धर्म भेदभाव को छोड़कर

हम सबको एक होना है

हम सब इन्सान तो है ही

फ़िर हम सबको इन्सान बनना है ।।

#એકરૂપ

Read More

तक़दीर में हमारी इश्क कहां लिखा हीं है

जिसे हम चाहते हैं बेपनाह

वहीं तो एक बेवफ़ा है ।।

तन्हा

वो कामचलाउ इश्क करते थे मुझे

पहले वो अपना कहेते थे मुझे

आज़ वो पराया कहेते है मुझे ।।

तन्हा

#કામચલાઉ

વિશ્વાસ ઘણો બધો છે મને તારા ઉપર

ફક્ત તું છોડીને ના જાતી મને ?

કેમ કે હું કહીં મરી ના જાઉં તારા વગર .....

તન્હા

#વિશ્વાસ

Read More

ए तन्हाईयां क्या होती है

वो मुझे कहां मालूम था

अगर तुम ना मिलती मुझे तो ?

ए इश्क भी कहां मालूम था ।।

तन्हा

Read More

मंदिर, मस्जिद,चर्च, गुरुद्वार तो एक दिखावा है

भगवान हमें कहां बुलाते हैं वहां पर

वो तो हम जाते हैं वहां पर अपने स्वार्थ के लिए ।।

#મંદિર

Read More

લક્ષણ દેખાય છે મને તમારામાં બેવફાઈ ના

હું ખોટો ફસાઈ ગયું છું તમારા પ્રેમની જાળમાં ....

તન્હા

#લક્ષણ

वफ़ादारी का मुझे अच्छा शीला मिला है

आंखों में आंसु दिल पर ज़ख्म मिला है ।।

तन्हा