Meri chahat tumshe hi

हमें मत कहो तुम अपना ?
अब हमें डर लगने लगा है ।
तुम्हारा हर सपना ।

मुझे अब कल की फ़िकर होने लगी हैं।
मेरे जितना प्यार तुम्हें और कौन करेगा ?
मेरे जितना याद तुम्हें और कौन करेगा ?

Read More

तुम्हारे मजारपर आया हुं ।
ऐसे थोड़ा खाली हाथ जाउंगा में ?
प्यार करता हुं पगली ।
तुम्हें साथ लेकर हीं जाउंगा में ।

Read More

हंम दोनों एक दूसरे में खो गए ।
घरवालों को पता भी नहीं चला ?
हंम दोनों एक हों गए ।

लाव आज़ एक मेसेज कर दूं उसको में एकबार ।
हों सकता है वो ?
दिल की बात समझ जाएंगी मेरी एकबार ।

रीश्तें निभाना हरकोई जानता है ।
जो निभाता है रीश्ता ।
उसे इश्क करना भी कौन चाहता है ।

रीश्त़ो की अहेंमियत कब समझोंगी आप ?
हंम नहीं होंगे ।
फ़िर क्या करोगे समझकर आप ।

में तुम्हें याद ना करु ऐसी कोई सुबह साम ।
मेरे लिए नहीं होता है ।
तुम्हें इस बात का कोई फर्क नहीं पड़ता है ।
ऐसी कोई सुबह साम मेरे लिए नहीं होता है ।

Read More

रीश्ता तो ऐसे तोड़ दिया है उसने मेरा ।
वो मुझे तो क्या ?
छाया तक देखना छोड़ दिया है उसने मेरा ।

मेरे इश्क का अंत काफ़ी ख़राब आया है ।
ए शनी की पनोती है मुझपर ?
या राहु केतु का छाया है मुझपर ?