Hey, I am on Matrubharti!

"मुझे तैरने दे या फिर बहना सिखा‌ दे
अपनी रजा‌ में अब तू रहना सिखा दे
शिकायत ना हो कभी भी किसी से
हे ईश्वर! सुख और दुख के पार जीना सिखा दे"

Read More

मनुष्य के लिए बुरी संगत उस कोयले के समान है,
जो गर्म हो तो हाथ जला देता है
और ठंडा हो तो हाथ काले कर देता है...

Read More

आपकी कीमत इस में है कि आप क्या है,
इसमें नहीं की आपके पास क्या है ।।
,
,
शुभप्रभात🙏🙏🙏

“यही प्रसिद्ध लौह का पुरुष प्रबल
यही प्रसिद्ध शक्ति की शिला अटल,
हिला इसे सका कभी न शत्रु दल,
पटेल पर, स्वदेश को गुमान है”

Read More

sat sat naman..🙏🙏🙏🙏

"भलाई करते रहिए बहते पानी की तरह,
बुराई खुद ही किनारे लग जाएगी कचरे की तरह"