Hey, I am on Matrubharti!

बाहों में उनकी आकर दुनिया के गम मिट गए।
अरमां जो सोए थे अब तक अरमां वो जग गए।।
~✍️ निमिषा~

होंठ मेरे जल जाते हैं जब भी मैं मुस्काती हूं।
प्रश्न निगाहें करती हैं जब भी मैं मुस्काती हूं।।
हाय! अभागी हूं मैं कितनी
अपने ही दर्द दे जाते हैं जब भी मैं मुस्काती हूं।।

~✍️©निमिषा~

Read More

मुहब्बत में वादों का वादा न था।
यूं दूर जाने का कोई इरादा न था।।
उलफत तो दोनों को थी मगर
तम्मनाएं बिखरेंगी इस कदर जाना न था।।
~✍️ निमिषा~

Read More

रोके से कब रुका है इश्क।
दिलों में फूल बनकर खिला है इश्क।।
ये किस्मत की बात है यारों।
किसी का मुकम्मल किसी का अधूरा रहा है इश्क।।
~✍️© निमिषा~

Read More

आपका एहसास ही काफी है ज़िन्दगी के लिए।
आपकी तस्वीर ही काफी है एक खुशी के लिए।।
सांसे तो बेधड़क चलती हैं मेरी
आपकी एक नजर काफी है दिल धड़कने के लिए।।
~✍️© निमिषा~

Read More

शर्म ओ हया ने मुझे कुछ कहने न दिया।
तुम्हारे गुमान ने तुम्हे मेरा होने न दिया।।
~©निमिषा✍️~

Read More

लगता है किसी के दिल में तस्वीर है हमारी।
सच्ची या झूठी ये तकदीर है हमारी।।
~©निमिषा✍️~

किसी ने दस्तक सी दी है दिले यार के।
वो सराबोर हैं प्यार में दीवाने यार के।।
~✍️©निमिषा~

प्यार एक शब्द नहीं बल्कि एक एहसास है जो हर रिश्ते में गर्माहट भर देता है।
~✍️©निमिषा~

गम का फसाना सुनाएं तो सुनाएं किसको,
कोई साथ नहीं मिलता।
ज़िन्दगी गर गीत है,तो गाएं तो गाएं कैसे,
कोई साज नहीं मिलता।।
~✍️©निमिषा~

Read More