Hey, I am on Matrubharti!

ये दर्द ए शिफा किसी मसीहा से न हो पाएगा
ये दर्द ए अहसास मेरी मौत के साथ ही जाएगा
~निमिषा~

पूछ कर हाल मेरा बेहाल हाल करते हैं
न जाने फिक्र करते हैं या यूं ही सवाल करते हैं
~निमिषा~

बदलते वक्त ने सब कुछ बदल दिया
गैरों को अपना अपनों को गैर कर दिया
~निमिषा~

भूलने से भी तुम्हें भूलने की आदत न हो।
तन्हा रहूं या महफ़िल में कोई अदावत न हो।।
~निमिषा~

-Nimisha

दिल की आवारगी भी सर्द रातों में बढ़ जाती है।
कमबख्त घर जाकर भी रूह चैन कहां पाती है।।
~नीमिषा~

-Nimisha

खड्गधारिणी, असुरसंहारिनी कालरात्रि महाकाली
कष्टनिवारिणी, पालनहारी, भवसागर भवतारिणी

रखो जन की लाज दयामयी रोग शोक विनाशिनी
दुष्टों का संहार करो माँ चक्र त्रिशूलधारिणी

शक्तिदायिनी माता तू भयमोचनी जगतारिणी
रखना जन की लाज सदा हे! माँ दुर्गतिनाशिनी
~निमिषा~
#Navratri

Read More

हंसने रोने के सिलसिले चलते रहे
रोज मरने के दौर यूं ही चलते रहे
@निमिषा

बेटियों और उनकी मांओं की आह इस समाज को तबाह करै उससे पहले ही संभल जाइए, कहीं ऐसा न हो देर हो जाये
~निमिषा