કંઈક કાચીંડા ઘાયલ થયા રંગ મારી જિંદગી ના જોઈને..

मोहब्बत ओर हवस की तमीज़ नही है

और शहर भरा हुआ है हीर - रांझो से...

नंगे जिस्म को ढकने के लिए कोई पैसा नहीं देता ,

मगर जिस्म को नंगा करने के लिए ।
लोग अपनी दौलते लूटा देते है .

Read More

Corona virus भी आ गया है..

पर पता नहीं तुम कब आओगी..!!🙈😍

मुझे शायरी पढ़ने का शौक था....और

किसी ने मुझे लिखना सीखा दिया...

देखोगे मुझे तो खामियां नजर आएंगी...

जानोगे मुझे तो प्यार हो जाएगा...

कितने विस्फ़ोटक हो यार
एक बार मुस्कराते हो और
बार -बार धमाके दिल मे होते है...

कर्म भूमि की दुनिया में श्रम सभी को करना पड़ता है..
भगवान सिर्फ लकीरें देता है,रंग हमें ही भरना पड़ता है..

बाहर का रंग-रूप अंतर्मन के हाल को थोड़ी न दर्शाता होगा..

मोर को देखकर कौन कह सकता हैं कि वह सांप खाता होगा!

Happy friendship day mb friends...

तुम पर गजल लिखू तो सही पर लिखी कहा जाती हे
जब जब कलम उठा ता हू
तेरी तस्वीर बन जाती हे.....