i am Navodayan,reader ,writer, poet,Naturelover,Zoologist

किसी को समझ पाना तो
किसी को समज़ाना मुश्किल हो गया.....
इसलिए मैने कुछ नही खुद को शांत कर दिया@Nikhil

एक बार फिर
चहल पहल करते है
सबंध मे कुछ रोनक करते है

-Nikhil

जहां दूसरो की बाते सुनी जाती है, वहाँ माहौल अच्छा होता हैं।

कभी कभी अनसुना को भी सुना करो ☺

आदमी वही बड़ा होता है जो दूसरे को छोटा नहीं समजता

अच्छे को अच्छा कहने के लिए भी दिल अच्छा रखो 😊

जिंदगी का कुछ mobile जैसा है,, पता नही कब switch off हो जाएं,
उससे पहले जितनी फोटो खिंचनी है, हँसना है, मुस्कुराना है सब करलो#Nikhilshankheshwari

Read More

दुनिया सिखाती है हररोज
नया पाठ
कभी कहती है हंस के चलो,,,
कभी कहती है संभलके चलो। @Nikhilshankheshwari

सभंल जाना भी जरूरी है जीवन मे,
आगे बढ़ जाना भी जरूरी है जीवन मे ,और
कुछ पल के बाद कहानी बदल जाती है,
कहानी को भूलकर
नई कहानी मे ढल जाना भी जरूरी है जीवन मे@Nikhil

Read More

હોય લાગણીઓ,
સબંધ મા સ્નેહ,
તો એ આપોઆપ દેખાઈ જાય છે
એને માંગીને લેવાની જરૂર પડતી નથી
@Nikhil