" ચિત્ર એ મૂંગી કવિતા છે અને કવિતા એ બોલતું ચિત્ર છે. "- જી. ઈ. લેસીંગ્ટન.

इन आँखों मे चहेरा तो है तेरा,
फिर भी नज़र तुजे ढूंढती रह गई...
Raahi
अल्फाज़ो को खोने नही दिया,
फिर भी लफ्ज़ो में ख़ामोशी रह गई...

- परमार रोहिणी " राही "

Read More

अल्फाज़ो के सूनेपन में खो गए थे,
क़लम ने बयाँ करके सुनाई कुछ आहत...
Raahi
दुनियाँ कब साथ छोड़ दे क्या पता?
पर संभाल लेगी हर पल अपनो की चाहत...

- परमार रोहिणी " राही "

Read More

आज ये राज़ जान लिया हमने, की
फ़िक्र है उसे भी, जिसे कोई परवाह नही...
Raahi
हर जज़्बात को साबित क्यों करना..?
रिश्ता तो वो भी जिसका कोई गवाह नही...

- परमार रोहिणी " राही "

Read More

यू ही लिखते गए हम बेवज़ह और
ऐसे हज़ारो शायरियाँ ज़ाया हो गई...
Raahi
देखो तो सही मेरी क़लम बेजुबाँ
और ये रूह किसीका साया हो गई...

- परमार रोहिणी " राही "

Read More

હે કાન્હા..! માંગી લઈશ મનગમતું,
તું આપે નહિ, એવું તો બન્યું જ નથી...
Raahi
આ જગતમાં સારું નરસું બધે જ તું છે,
ક્યાંય તું ન મળે એ તો બન્યું જ નથી...

- પરમાર રોહિણી " રાહી "

Read More

ख़ुदा ने दिया है एक तोहफ़ा,
हा, वो ख़्वाब क्या खूबसूरत बला है...
Raahi
हर लफ़्ज तो बेमिसाल होते है,
पर दिल को छू जाए वो अल्फाज़ कला है...

- परमार रोहिणी " राही "

Read More

दुआएँ कुबूल बहोत हुई हमारी, पर
कभी तुजे इन दुआओं में माँग न पाएँगे...
Raahi
हद से ज़्यादा दौड़ गए इस ज़िंदगी मे,
पर कभी इस दिल की दहलीज़ लाँग न पाएँगे...

- परमार रोहिणी " राही "

Read More

રોજના આ શોરબકોર માં પણ
કોઈ સન્નાટો જાણે છવાઈ જાય છે...
Raahi
જ્યારે લખવી હોય વાર્તા, ને
વિસ્મૃતિની સ્મૃતિ ગવાઈ જાય છે...

- પરમાર રોહિણી " રાહી "

Read More

अक़्सर कई लोग पूछते है क्या मिलेगा?
पर में सोचती हूँ मुजे क्या हासिल हुआ है..?
Raahi
बस मैं तो जीने के लिए साँसे भरती हूँ,
तू थोड़े ही ज़िंदगी मे सामिल हुआ है...

- परमार रोहिणी " राही "

Read More

યુઝ હેન્સ્પ્રીં...

મારા અવાજમાં જ એક ફિલ્મી સોન્ગ...😅

epost thumb