कुछ खवाईसे कभी पूरी नही हो शक्ती।
ओर
कही हकीकते कभी सपना नही हो शक्ती।

-સુહાની

सबकुछ बिखरना ही था
तो
समेताही क्यु था??

-સુહાની

कई हफतो से हमारी बात नही हुई।कोई झगड़ा नहीं हुआ है हमारे बीच नाही कोई नाराज़गी है।बस अब ये एक तरफा रिश्ता निभाते निभाते हुए मेने खुद को खो दिया था सायद, पता नही क्या हो गया था उस दिन मेने उसकी सारी फ़ोटो को अपने फोन से निकाल दिया , ओर उसकी यादों को भी सायद , उसका नंबर आज भी है मेरे फोन मे लेकिन नाम बदल गया है। लेकिन आज भी जब भी फोन की घंटी बजती है तो मन में कही उसका खयाल आ ही जाता है, जब भी मोहल्ले मे कोई जोर जोर से गारी का होन बजता है तब डोरकर मे दरवाजे तक पहुंच ही जाती हु, लेकिन ये एक तरफा रिश्ता मे अब नही निभा पाऊँगी खुदको कब तक जुथा दिलासा देती रहूंगी, जो मेरा था ही नही कभी अब वो मेरा केसे होगा ।बेमतलब का ये एक तरफा रिश्ता अब कब तक एसे ही चलता रहेगा।

-સુહાની

Read More

एक ओर आज भी शोख़ के लिए ही कई लोगो को लाखो रुपये के पटाखे फोर ते हुए देखा तो दुसरे ओर कही लोग को एक वक्त के खाने ओर कपदो के लिए तरसते हुए डेखा तो मन दुख से भर गया।

-સુહાની

Read More

🙂

-સુહાની

#તમારું અમારું માથી આગર વધી ને
આપણા સુધી પહોંચવું
અઘરું છે.
કારણ તમારું અમારું મા જ બધું અટવાયું છે.

उम्मीद नही अब खुद से
लेकिन
शिकायत भी नही खुद से।

-સુહાની

यादो के कमरे ने आज कही खिड़की या खोली है ना जा ने क्यु इस दील ने फिर से तुम्हे थोड़ी सी जगह् दी है।

-સુહાની

Read More

काबिल तो तुम भी नहीं हो जो तुम्हे मिला है।
क्यु की तुम्हे जो मिला है वो तुम्हारी किस्मत थी मेहनत नही।

-સુહાની

Read More

#અસ્પષ્ટ શબ્દો એ સ્પષ્ટ સંબંધોનું સુખ છીનવી લીધી.