i am a book lover

नफरत की इंतिहा

नफ़रत है मुझे महोब्बत से,

अनकहे जज़्बातो से,

उलझन सी लगती है जिंदगी में,

घुटती है ख़्वाहिशे हरपल,

जीने की तमन्ना बिखरती है हरदम,

जिंदगी की नायाब सी हकीकत,

अब इक पेहली है अनसुलझी,

पेहली का पेहलु सहेजते सहेजते,

यादो की सिलवटें तरसाती है सुकूँ को,

चटकती सी ये जिंदगानी,

उखड़ी हुंई साँसो के सहारे,

कटके फिर थम जायेगी,

ज़ुर्रत की है हमने संवरने की,

नाफरमानी की है खुद को बदलने की,

ख़िदमत में शामिल है उसुल ये जिंदगी के।

Read More