प्रवीण बसोतिया का जन्म १४ जुलाई १९९४ में हुआ। पहली बार जब उन्होंने लिखना प्रारंभ किया उस वक्त वह पढ़ाई किया करते थे। और लेखन को केवल एक शौक समझ कर लिखा करते थे। तेरह वर्ष की आयु में एक पेज की कहानी लिखने के बाद उन्हें अपनी प्रतिभा का अहसास हुआ। और उस दिन के बाद जब भी वह निराश होते। तो कलम उठा कर लिखने बैठ जाते, लिखने में आनंद प्राप्त करने वाले, प्रवीण बसोतिया लोगों द्वारा कही गई। असभ्य बातों का त्याग करते हुए आगे बढ़े, और उन्होंने तीन उपन्यास लिखें, जिनमें से दो अंग्रेजी में अनुवादित है इनकी रचनाए