just me and my books

Writer बनना इतना भी आसान नही।
बेमतलब उस feelings को महसूस करना पड़ता है जो हमे बिल्कुल पसंद नही।

फितरत इस दिल की कुछ ऐसी थी। ना उसे अकेला रहना था, न किसी का होना था। इसी कश्मकश में पूरी ज़िंदगी निकाल दी और हाथ मे बचा एक टूटा दिल।

Read More

क्या कशिश थी उन किनारे में,
जो समंदर की लहेरो को बारबार आना पड़ता था
छूने के लिए।

વરસાદી મોસમ તો ખાલી નામની બદનામ છે.
અસલી નશો તો કોઈની યાદનો ચડે છે.