Hello friends

दुनिया में कोई बदनसीब है उसके पास माँ नही है,
किसीके पाँव तले जमीं और सर पे आसमाँ नही है।

जहाँ में हर किसीका नसीब उसको साथ नही देता,
यहाँ "पागल" के दिल में आरज़ू है अरमाँ नही है।

✍🏼"पागल"✍🏼

Read More

ज़िन्दगी जीने में हमारा नजरिया बहुत बड़ी भूमिका निभाता है,
ज़िन्दगी का हर एक तजुर्बा हमें जीने की नई राह जरूर दिखता है।

ज़िन्दगी के तजुर्बे से ही तो ज़िन्दगी जीने का नज़रिया बदलता है,
"पागल" नज़रिये का फर्क कभी हमें हँसाता है कभी हमें रूलाता है।

✍🏼"पागल"✍🏼

Read More

यहाँ टूटते रिश्ते का जिम्मेदार इन्सान है,
क्योंकि इन्सान खुद इन्सान से परेशान है।

दूसरों की गलतियां ढूंढना कोई खास नही,
"पागल" गलतियों से सीखना आसान है।

✍🏼"पागल"

Read More

मौसम-ए-बरसात का सुख सुहाना है,
प्यार और बरसात का नाता पुराना है।

ये मौसम में तो प्यार परवान चढ़ता है,
प्यार में "पागल" खुद को आज़माना है।

✍🏼"पागल"✍🏼

Read More

गुल ने गुलशन से गुलफाम भेजा है,
मैंने दिल से लिखा कलाम भेजा है।

"पागल" को दुनिया से छुपाके उसने,
नज़रें झुका के आज सलाम भेजा है।

✍🏼"पागल"✍🏼

Read More

आज लोगों की ज़िन्दगी में धूप छाँव बहुत है,
जहाँ में इन्सान इन्सान में भी तनाव बहुत है।

सराहना करना या मदद करने की बात छोड़ो,
"पागल" को दिया लोगों ने सुझाव बहुत है।

✍🏼"पागल"✍🏼

Read More

छूना मत मुझे जलता हूआ आफताब हूँ मैं,
चाँदनी रातों में मेहबूब सा एक महताब हूँ मैं।

कीचड़ और कमल का भी रिश्ता अजीब है,
जिस कीचड़ में कमल खिले वो तालाब हूँ मैं।

तू साथ नही तो मेरी ज़िन्दगी में कुछ भी नही,
हो अगर साथ मेरी ज़िन्दगी में तो शादाब हूँ मैं।

हकीकत में तुमसे दिलो की दूरिया भी बहुत है,
तेरी पुरानी गुज़री हुई उन रातों का ख्वाब हूँ मैं।

"पागल" को पूछ क्या अहमियत है ज़िन्दगी में,
तेरे चेहरे की कातिल मुस्कान का असबाब हूँ मैं।

✍🏼"पागल"✍🏼

Read More

जहाँ डेरा डाल दो वहीं बसेरा होता है,
नींद से जब जागो तभी सवेरा होता है।

खुदा के फ़रिस्तो से भरी इस दुनिया मे,
"पागल" जैसा भी कोई लुटेरा होता है।

✍🏼"पागल"✍🏼

Read More

आज तुमको पेश मेरे दिल का नज़राना है,
नज़राना तो तुमसे थोड़ा सा ही पुराना है।

नज़राने में हमने अपना दिल तुमको भेजा है,
क्योकि "पागल"थोडा ये उम्र में सयाना है।

✍🏼"पागल"✍🏼

Read More

मोहब्बत भरे दिलों में सोज़ भी है साज़ भी है,
लब खामोश भी है धड़कन की आवाज़ भी है।

नशीली आँखों के नशे में झूमने को बेताब हूँ,
जहाँ में मेरे लिए पाबन्दी-ए-परवाज़ भी है।

दुनिया मे मोहब्बत का एक ही अंजाम है दोस्तों,
अंजाम से बेखबर मोहब्बत का आगाज़ भी है।

गुलाबी लबों की खामोशी पे भरोसा करने वालो,
वही खामोशी में कहीं ग़म का गम्माज़ भी है।

झूठी हमदर्दी जताने वाले लोग बहुत मिलेंगे,
"पागल" उसमें कोई हमदम कोई हमराज़ भी है।

✍🏼"पागल"✍🏼

सोज़ - वेदना
साज़ - बजने वाला बाज़ा
पाबन्दी - मनाही
परवाज़ - उड़ान
अंजाम - नतीजा
आगाज़ - शुरुआत / आरंभ
गम्माज़ - चुगलखोर
हमदर्दी - सहानुभूति
हमदम - अंत तक साथ देने वाला
हमराज़ - रहस्य जानने वाला

Read More