तेरे मंदिर का हूँ दीपक...जल रहा, आग जीवन में,मैं भर कर चल रहा..21/12/20