Hey, I am on Matrubharti!

"मुझे दर्द में भी करार नज़र आता है।।"

-Prem Nhr

Dr kavita Tyagi लिखित कहानी "आधी दुनिया का पूरा सच - 1" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19887911/aadhi-duniya-ka-pura-sach-1

Saroj Prajapati लिखित कहानी "वो भूली दास्तां, भाग-१" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19890768/wo-bhuli-daasta-1

Neerja Pandey लिखित कहानी "ये कैसा संन्यास - सीजन 2 - भाग - 20" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19902687/ye-kaisa-sanyas-2-20

हमारा साथ ऐसा, जैसे तुम बचपन से ही साथ रहे,
जब तुम मिले, मेरे गम धुले, मेरा मन फूलों सा खिले।

तुम आयी थी ठीक खुशबू की तरह मेरे जीवन में,
तुमने हरदम साथ दिया, लायी खुशियाँ जीवन में।

कितनी ही बार लड़े-झगड़े, कितनी बार हुई तकरार,
जाने कैसा बन्धन हमारा, ना इसमें कभी आयी दरार।

तू छोड़कर चला गया, मैं बेबस, लाचार और तन्हा रहा,
यहाँ भीड़ का मेला लगा, मैं भीड़ में भी अकेला हुआ।

तुमने 'दोस्त' कहा मैंने भी इसे दिल से ही स्वीकारा,
तुम यूँ ही डरती हो, मेरे तो सपनों में भी साथ तुम्हारा।

कुछ अरमान मेरे भी थे, जिनसे सदा तुम रही अनजान।
बस तुम समझ ना सके और मैं समझा न सका, गुरु!।।"

-Prem Nhr

Read More

Prem

-Prem Nhr

┈┉┅━❀꧁ω❍ω꧂❀━┅┉

राम-राम दोस्तों🙏🙏🏵️🏵️🌹🌹🌺🌺


┈┉┅━❀꧁ω❍ω꧂❀━┅┉
.

मेरी नई कहानी जो कि मैंने एक प्रसिद्ध लेखिका के कहने पर लिखी है।
समाज के कुछ लालची प्रवृत्ति के लोगों की मानसिकता पर आधारित 'समाज के गद्दार' को पढ़कर मुझे अनुग्रहीत करें।
आपकी समीक्षा मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

Read More

Prem Nhr लिखित कहानी "समाज के गद्दार" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19900018/samaj-ke-gaddar