मैं बहुत खास हूँ और मेरा व्यक्तित्व थोड़ा अच्छा थोड़ा बुरा पर हाँ, दूसरों से अलग जरूर हैं। लिखना मेरी हॉबी हैं और मैं ये जानती हूँ की इसमें मैं बहोत ही ज्यादा अच्छी नहीं हु, आप ही लेखकों के भगवान् हो जिनसे मैं और प्रेरित होकर अच्छा लिखने के हमेशा कोशिश करतीं रहूंगी

अगर खुले आसमान में उड़ना ही नही था तोह
आसमान दिखाया ही क्यों??

अगर साथ देना ही नही था तोह
साथ में आये ही क्यों??

हाथ थामना ही नही था तोह
हाथ आगे किया ही क्यों??

-PriBa

#रिश्तातेराऔरमेरा

https://www.matrubharti.com/novels/21814/rishta-tera-mera-by-priba

Read More

https://www.matrubharti.com/novels/21814/rishta-tera-mera-by-priba

-PriBa


आप के चेहरे को देखकर क्यो ऐसा लगता हैं मुझे??

की में खुद से ज्यादा आप पर भरोसा कर दु ,
खुद से ज्यादा आप पर जान दे दु ,
ख़ुद को छोड़कर आप को अपनाऊ।

#रिश्तातेराऔरमेरा

Read More

सच छुपाकर झूठे मुखौठे के साथ,
पता नहीं कहा भटक रहे हों आप

करता है सवाल मुझसे मेरा दिल,
न जाने किसकी मिसाल बनकर जी रहे हो आप

#मिसाल

Read More

लब्ज बुनकर पेश करदूँ
अगर मेहफिल में जान बाकी हैं

सुनने वाले अगर जाग रहे हैं
तोह मुझमे जान अभी बाकी हैं

#रिश्तातेराऔरमेरा
https://www.matrubharti.com/novels/21814/rishta-tera-mera-by-priba

Read More

अब मैं क्या करू?
बेइंतहा उनको याद जो करने लगा हूँ ,

एक मुलायम एहसास की तरह उनकी याद
चारो तरफ से घेरे रखी हैं

धुप की तरह उनकी याद
मुझपर उतरती हैं
हवा की तरह मेरे सासों में बहती हैं
पानी की तरह रु ब रु मुझे भिगोती हैं

अब मैं क्या करू?
बेइंतहा उनकी कमी
जो महसूस करने लगा हूँ

#रिश्तातेराऔरमेरा

Read More

कुछ लोग होते हैं अजीब

दिखते हैं कड़वे करेले जैसे
पर अंदर से होते हैं रसमलाई

धोका खाते हैं लोग जो
कड़वे करेले को छोड़कर
रसमलाई को चुनते हैं

बस पहचान की
काबिलियत होनी चाहिए

क्यों की कुछ लोग होते हैं अजीब

#रिश्तातेराऔरमेरा

Read More