....

03....चण्डकोपास्त्रकैर्युता... प्रसीदम तनुते महयं चन्द्रघण्टेति विश्रुता....

चंद्रघंटा....🙏🙏

ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे...🙏🏻

लोग बेवजह ढूढ़ते हैं खुदखुशी के तरीके हजार...


इश्क करके क्यों नही देख लेते एक बार?

बड़ी शिद्दत से तोड़ा है मेरे दिल का हर कोना..........

मुझे तो... सच कहूँ....

उस के हुनर पे नाज़ होता है...

अपनी तकलीफों को कभी बयां मत कीजिएगा...


यहाँ तकलीफ समझने वाले कम तमाशा बनाने वाले ज्यादा है ...

पत्थरों को शिकायत है कि पानी की मार से टूट रहे हैं हम...


 पानी का गिला ये है कि पत्थर हमें खुलकर बहने नहीं देते.....

-The Boss...

Read More

खरीदने पर आओगे तो
पूरे जहां की दौलत कम है....



बिकने पर आउ तो
तेरी मुस्कुहराहट ही काफी है......😊®️

मोहब्बत की जंजीर से डर लगता है...

कुछ अपनी तकदीर से डर लगता है...


जो मुझे तुझसे जुदा करती है...


मुझे उस हाथ की लकीर से डर लगता है...

-The Boss

Read More

तन्हाईयों से नहीं महफिल से डरते है....

दुनिया से नहीं हम खुद से डरते है...

यूं तो बहुत कुछ खोया है हमने....

न जाने क्यों तुम्हें खोने से डरते है....

Read More

जिसका ये ऐलान है कि वो मज़े में है...


या तो वो फ़कीर है...

या फिर नशे में है....