0lकई पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। आपके द्वारा लिखित कहानियाँ, कविताएँ सुप्रसिद्ध समाचार पत्रों एवं पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रहती है।

सन्यासी परमसुखी

जबलपुर शहर के पास पवित्र नर्मदा नदी के किनारे बसे मनगंवा नामक गांव में हिमालय की तराई से आये हुये एक महात्मा जी ग्रामवासियों के अनुरोध पर वहाँ पर बस गये थे। वे अत्यंत संयमी, चरित्रवान एवं आदर्शवादी व्यक्ति थे और उन्हें धन संपत्ति का कोई लालच नही था। वे केवल फलाहार ही ग्रहण करते थे। जिसकी व्यवस्था गांव वाले बारी बारी से स्वयं ही कर देते थे। महात्मा जी सदैव प्रभु की भक्ति एवं सेवा में पूर्ण समर्पित रहते थे। उन्होनें इस गांव को एक आदर्श गांव के रूप में बनाने का अपना सपना पूरा किया था। गांव के सभी रहवासी अत्यंत विनम्र, ईमानदार एवं आपस में भाईचारा रखते हुए एकदूसरे की मदद को सदैव तत्पर रहते थे।

एक दिन रात्रि के समय स्वामी जी गहरी निद्रा में सो रहे थे तभी उन्हें ऐसा अहसास हुआ कि भगवान साक्षात् प्रकट होकर मानो उनसे पूछ रहे है कि देखो संत जी आपके पूर्ण समर्पण श्रद्धा और लगन से मेरे प्रति आपने अपना जीवन दे दिया अब आपकी मृत्यु सन्निकट है। उन्होनें इसके प्रत्युत्तर में प्रभु से हाथ जोडकर प्रार्थना की हे भगवान मेैं तो आजीवन आपका सेवक रहा हूँ और अपने जीवन से पूर्ण संतुष्ट हूँ। मैं मृत्यु को भी वैसे ही स्वीकार करना चाहूँगा जैसे जन्म के समय खुशी होती है। प्रभु मेरी यह इच्छा कि जिस विधि से आपको प्रसन्नता प्राप्त हो उसी विधान से मैं देह त्याग की इच्छा रखता हूँ। यह सुनकर प्रभु भी आश्चर्य में पड गए कि यह कितना समर्पित भक्त है जो मृत्यु में भी ईश्वर की खुशी की ही इच्छा करता है।

उसी समय उनकी निद्रा खुल गयी और प्रातः काल उन्होंने गांव वालों को अपने स्वप्न के विषय में बताते हुए निवेदन किया कि अब मेरे जाने का समय आ गया है। मेरी मृत्यु के उपरांत किसी प्रकार का दुख वियोग नही कीजियेगा। मैंने आजीवन आपके सुख, शांति और समृद्धि की कामना की है और यह गांव आदर्श गांव के लिये प्रसिद्ध है। मेरे जाने के बाद भी इसे इसी प्रकार आदर्श गांव बनाए रखियेगा। इतना कहकर वे सबसे विदा लेकर वापिस अपने कुटिया में चले गये। कुछ क्षणों बाद ही गांव वालों ने देखा कि एक चमकती हुयी रोशनी आकाश की ओर जा रही है। यह अदभुत दृश्य देखकर वे कुटिया के अंदर गये तो उन्हें कुटिया में स्वामी जी के पूजा स्थल पर उनका शरीर निश्चल अवस्था में आसन पर बैठा मिला। यह बात बहुत तेजी से चारों ओर फैल गयी और चारों ओर से लोग उनके अंतिम दर्शन के लिये आने लगे और वे सभी भारी मन से, नेत्रों में अश्रु लिये हुये उनके अंतिम संस्कार में सम्मिलित हुये। एक सन्यासी की आदर्शवादिता, कर्मठता और प्रभु भक्ति से वह आदर्श गांव अन्य लोगों के लिये भी प्रेरणा स्त्रोत बन गया।

Read More

परोपकार



बांधवगढ़ के जंगल में एक शेर एवं एक बंदर की मित्रता की कथा बहुत प्रचलित है। ऐसा बतलाया जाता है कि वहाँ पर एक शेर शिकार करने के बाद उसे खा रहा था तभी एक बंदर धोखे से पेड से गिरकर उसके सामने आ गिरा। शेर ने उसकी पूंछ को पकड लिया। पेड पर बंदरिया भी बैठी हुई थी। बंदर की मौत को सामने देखकर वह करूण विलाप करने लगी। बंदर ने भी दुखी मन से एवं कातर दृष्टि से बंदरिया की ओर इस प्रकार देखा जैसे अंतिम बार उसे देख रहा हो। शेर को पता नही क्या सूझा उसने बंदर की पंूछ छोड दी और उसे भाग जाने दिया। बंदर वापिस पेड पर चढकर बंदरिया के पास पहुँच गया। दोनो बडे कृतज्ञ भाव से शेर की ओर देखते हुए मन ही मन उसे धन्यवाद देते हुए वहाँ से चले गए।

एक दिन वह शेर अपने में मस्त विचरण कर रहा था। वह बंदर और वह बंदरिया भी पेड केे ऊपर बैठे हुए थे। शेर जिस दिशा में जा रहा था उसी दिशा में शिकारियों ने शिकार के लिए तार लगाए हुए थे। उन तारों मंे बिजली का करंट दौड रहा था। यह खतरा भांपकर बंदर और बंदरिया ने चिल्लाना शुरू कर दिया परंतु शेर की समझ में कुछ नही आया। यह देखकर बंदर और बंदरिया ने एक सूखी डाली तोडकर शेर से कुछ दूर उन तारों पर फंेकी। शॉर्ट सर्किट के कारण उस डाली में आग लग गई। शेर भी सावधान होकर तत्काल रूक गया। उसकी जान बच गई। सब कुछ समझकर उसने कृतज्ञ भाव से बंदर और बंदरिया को ओर देखा जैसे उनके प्रति आभार व्यक्त कर रहा हो।

इसलिए कहते है कि परोपकार का फल जीवन में अवश्य मिलता है। शेर ने बंदर की जान छेाडी थी उसी के बदले स्वयं उसकी जान भी बंदर ने बचाकर उसके उपकार का बदला चुकाया।

Read More

स्वरोजगार



मैने प्रतिदिन प्रातः उसे समाचार पत्र बेचते देखा है। वह अभावों का जीवन जीता था, परंतु फिर भी वह ईश्वर के प्रति असीम श्रद्धा व विश्वास रखता था। रात में शिक्षा प्राप्त करने के लिए मेरे निवास पर आता था और अध्ययन करता था। एक दिन वह अपनी कडी मेहनत से पढाई में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हुआ और मुझसे इनाम में एक साइकिल प्राप्त की। अब वह पूरे चाल के कपडे प्रतिदिन साइकिल पर ले जाता था और धोबी से धुलवाकर शाम को उसे वापिस पहुँचाकर धन कमाता था। दो वर्षों के बाद इस जमा पूंजी से उसने वाशिंग मशीन खरीद ली और स्वयं कपडे धोने का काम करने लगा।

आज वह एक ड्रायक्लीनिंग की दुकान का मालिक है। इसके साथ साथ उसने एक नया काम भी चालू किया, वह प्रतिदिन आवश्यकतानुसार चाल के घरों का दैनिक जरूरतों का सामान लाकर पहुँचाने लगा। उसका यह व्यापार भी ईश्वर कृपा से चल निकला। आज वह कार में आता जाता है। उसने एक मकान भी खरीद लिया एवं उसका नाम स्वरोजगार रखा। आज भी वह ईमानदार एवं स्वाभिमानी है, अभिमान और घमंड से बहुत दूर है। वह कई ड्रायक्लीनिंग मशीनों का मालिक है पर दीपावली के दिन आशीर्वाद लेने अपने सभी पुराने ग्राहकों के पास जाता है। उसका जीवन प्रेरणास्त्रोत है एवं स्वरोजगार के माध्यम से अपने को अमीर बनाने का एक जीता जागता उदाहरण है।

देश में जनसंख्या की असीमित वृद्धि हो रही है। रोजगार के साधनों की अनुपलब्धता के कारण देश में बेरोजगारी बढ रही है। अब सरकार के पास भी इतने रोजगार और नौकरी उपलब्ध नही है जिससे तेजी से फैल रही बेरोजगारी को रोका जा सके। आज की परिस्थितियों में स्वरोजगार ही बेरोजगारी केा दूर करने का सशक्त माध्यम बन सकता है। यह इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है।

Read More

फकीर की वाणी



वह महानगर की एक चाल में रहता था। ऊँची ऊँची अट्टालिकाओं को देखकर उसका भी मन करता था कि मैं भी खूब कमाऊँ और फिर ऐसे ही किसी घर में रहूँ। उसकी चाल के पास ही एक फकीर बैठा करता था। उसने अपनी मन की बात फकीर से कही। फकीर ने उसे आशीर्वाद दिया और कहा - जाओ तुम्हारी मनोकामना पूरी होगी, लेकिन एक बात याद रखना, ऊँचाई पर पहुँच कर नीचे देखना मत भूलना।

उसके कठिन परिश्रम, सच्ची लगन और फकीर के आशीर्वाद से उसके घर में धन की वर्षा होने लगी। कुछ समय बाद ही वह एक बड़े मकान में शानोशौकत के साथ रहने लगा। सभी सुख प्राप्त होने के बाद वह फकीर को दिया हुआ वचन भूल गया।

वक्त की मार बहुत ही खतरनाक होती है। उसकी एकमात्र संतान को कैंसर हो गया। उसने खूब इलाज कराया। पानी की तरह पैसा बहाया लेकिन वह उसे नही बचा पाया। बेटे के गम में उसकी पत्नी को टीबी हो गई और एक दिन वह भी उसे छोड़कर चल बसी। वह अकेला रह गया। फिर एक दिन उसे वह फकीर मिला। उसने फकीर को अपनी आपबीती सुनाई। तब फकीर ने उसे अपना वचन याद दिलाया। फकीर ने कहा कि तुम अपना कर्म भूल गए। तुमने धन कमाया पर गरीबों की मदद में कुछ भी नही लगाया। इसी कारण तुम्हारी यह दुर्दशा हुई है। मैंने तुम्हें कहा था कि ऊँचाई पर पहुँचकर नीचे की ओर जरूर देखना। तुम धन आने के बाद सद्कर्म और सद्कार्यो को भूलकर अपने निजी स्वार्थों में खो गए।

फकीर की बातें सुनकर उसकी आँखें खुल गई। वह बहुत पछताया, उसने अपनी सारी दौलत दान कर दी और शांति की खोज में पुनः अपनी पुरानी चाल में रहने चला गया।

Read More

प्रेरणा स्त्रोत



मुंबई की मीरा रोड पर मीरा बाजार में मीरा नाम की बारबाला नृत्य द्वारा शाम को रंगीन कर रही थी। वह अपनी कला का लाजवाब प्रदर्शन कर रही थी पर उसका कद्रदान वहाँ कोई नही था। सभी कामुकता से उसके हाथ से जाम लेकर खुश होकर नोटों की बरसात कर रहे थे। वह भी यह समझती थी और अपना फर्ज पूरा कर रही थी। मदिरा प्रेमियों के भरपूर नोट बटोर रही थी। उसकी आभा से पूर्ण ओजस्विता और भरपूर गंभीर चेहरा मनन चिंतन कर विवश कर रहा था।

उसके निजी जीवन के विषय में जानकर आश्चर्य व विस्मय हो रहा था। वह गरीब परिवार की थी पर क्रियाशील उच्च शिक्षा प्राप्त थी। वह प्रतिदिन प्रातः सूर्योदय होने पर सूर्य देवता को नमस्कार करके अपने माता पिता को प्रणाम करके अन्न देवता के प्रति आभार मानकर दिन का शुभारंभ करती थी।

मंदिर में श्रद्धा व भक्ति के पुष्प चढ़ाकर प्रभु का आशीर्वाद माँगती थी। दोपहर को असहाय, विकलांग व गरीब बच्चों को निशुल्क शिक्षा देती थी। वह प्रतिदिन नृत्य से प्राप्त धन को बीमार गरीबों की सेवा में खर्च करती थी शाम को बार में बारगर्ल बनकर धन की कमाई करती थी, परंतु तन का सौदा कभी नही करती थी।

मेरे मित्र विनोद ने उसको परखकर एक दिन सबको आश्चर्यचकित कर दिया। उसने अपने माता पिता एवं इकलौती बहिन को मीरा के संबंध में बतलाया। पहले तो यह जानकर कि वह मीरा को चाहता है वे सभी आश्चर्यचकित रह गए। उन्होंने मीरा को घर लाने के लिए कहा। वह उसे माता पिता के पास घर लेकर आया, उसकी बातचीत एवं व्यवहार से उसके परिवार वाले बहुत खुश हुए विशेष रूप से उसकी माँ एवं उसकी बहिन ने यह रिश्ता सहर्ष स्वीकार करने में सहयोग दिया।

एक दिन वे दोनो उसी बार साथ साथ गए। वहाँ पर सभी ने उनका स्वागत किया। वे सभी सम्मान में भावविभोर थे, क्योंकि वे दोनों पति पत्नि के रूप में वहाँ पर मौजूद थे। बार के बाहर एक बैनर लगा था जिस पर प्रेरणास्त्रोत लिखा था।

आज दोनों का जीवन सुखी एवं वैभवपूर्ण बीत रहा है। मीरा एक कुशल गृहणी के रूप में बखूबी अपने बच्चों के साथ परिवार को सँभाल रही है।

Read More

ओ मेरे सूर्य

बचपन बीता शिक्षा, संस्कार
और संस्कृति की पहचान में।
यौवन बीता
सृजन और समाज के उत्थान में।
अब वृद्धावस्था में
अपने अनुभव समाज को बाँटो।
युवाओं को दिखलाओ
अपने अनुभवों से रास्ता।
संचालित करो
सेवा और परोपकार की गतिविधियाँ
आने वाली पीढियों के लिये
बन जाआ प्रेरणा।
तुम हो सूर्य के समान ऊर्जावान
अपनी ऊर्जा से
समाज में प्रकाश भर दो।
बचपन की शिक्षा
यौवन का सृजन
और वृद्धावस्था के अनुभव
जब इनका होगा संगम,
तब यह त्रिवेणी
करेगी राष्ट्र की प्रगति
सच हो जाएगा
भारत महान का सपना
युवाओं को सौंपकर देश की कमान
इसे बनाओ विश्व में महान।

Read More

अनुभव

अनुभव अनमोल हैं
इनमें छुपे हैं
सफलता के गोपनीय सूत्र
इनमें है अगली पीढ़ियों के लिये
नया जीवन और मार्गदर्शन।
बुजुर्गों के अनुभव और
नयी पीढ़ी का
श्रम व सृजन में
निहित है देश व समाज का विकास
इससे निर्मित इमारत
होगी इतनी मजबूत कि
उसका कुछ नहीं बिगाड़ पाएंगे
आँधी या भूकम्प
ठण्ड गर्मी बरसात और धूप।
अनुभवों को अतीत समझकर
तिरस्कृत मत करो
ये अमूल्य हैं
इन्हें करो स्वीकार और अंगीकार
इनसे मिलेगी
राष्ट्र को नयी दिशा
व समाज को सुखमय जीवन।

Read More

मूल मंत्र


सूरज आता है
प्रतिदिन सबको जगाता है
हर ओर बिखर जाती है उसकी किरणें
उसका प्रकाष नही करता है
जाति, धर्म, वर्ग, संप्रदाय या
अमीर गरीब का भेद।
वह उपलब्ध होता है
सभी को समानता से।
वह है एकता और सदभाव का प्रतीक।
उसके बिना संभव नही है
इस सृष्टि में जीवन का अस्तित्व।
उदय और अस्त होकर वह
देता है ज्ञान
समय की पाबंदी का।
देता है संदेष
सतत् कर्मरत रहने का।
अस्त होकर भी प्रकाशित करता है
चंद्रमा को।
समझाता है मानव को
जीवन की निरन्तरता और
कर्मठता का रहस्य।
जीवन की सफलता और
सार्थकता का मूल मंत्र।

Read More

सफलता का आधार


जब मन में हो दुविधा
और डिग रहा हो आत्म विश्वास
तब तुम करो आत्म चिंतन
और करो स्वयं पर विश्वास
यह है ईश्वर का अद्भुत वरदान
इससे तुम्हें मिलेगा
कठिनाईयों से निकलने की राह का आभास
ये जीवन के अंत तक
देंगे तुम्हारा साथ
कठिनाइयों और परेशानियों को दूर कर
हर समय ले जाएंगे
सफलता की ओर
इनसे मिलेगी तुम्हें कर्म की प्रेरणा
और तुम बनोगे कर्मयोगी
लेकिन धर्म को मत भूलना
धर्मयोग है ब्रह्मस्त्र
वह हमेशा तुम्हारी मदद करेगा
और विपत्तियों को
जीवन में आने से रोकेगा
सफलता सदैव मिलती है
साहस, लगन और परिश्रम से
इससे मिलती है मस्तिष्क को संतुष्टि
और हृदय को मिलती है तृप्ति
यही है जीवन में सफलता का आधार
कल था, आज है और कल भी रहेगा।

Read More

जीवन संघर्ष


प्रतिभा, प्रतीक्षा, अपेक्षा और उपेक्षा में
छुपा है जीवन का रहस्य।
सीमित है हमारी प्रतिभा,
पर अपेक्षाएँ है असीमित।
यदि हम अपनी प्रतिभा केा जानें
फिर वैसी ही करें अपेक्षा
तो बचे रहेंगे उपेक्षा से।
प्रतिभावान व्यक्ति
सफलता की करता है प्रतीक्षा
वह पलायन नही करता
वह करता है संघर्ष
एक दिन वह हेाता है विजयी
उसे मिलता है सम्मान
दुनिया चलती है उसके पीछे
और लेती है उससे
सफलता और विकास का ज्ञान।
यही है जीवन का चरमोत्कर्ष।
कल कोई और प्रतिभावान
करेगा संघर्ष
और पहुँचेगा उससे भी आगे।
यही है प्रगति की वास्तविकता
कल भी थी
आज भी है
और कल भी रहेगी।

Read More