Hey, I am reading on Matrubharti!

ना जाने कितनी दुआओं का सहारा होगा ,
जब कोई हमारा सिर्फ हमारा होगा ,

-RajniKant Joshi