Hey, I am reading on Matrubharti!

है इश्क तो फिर असर भी होगा ,
जितना है इधर उधर भी होगा ,

-RajniKant Joshi