Hey, I am on Matrubharti!

*बिक रहा है पानी, पवन बिक ना जाए।*
*बिक रही हैं धरती, गगन बिक ना जाए।*
*चांद पर भी बिकने लगी है जमी,
*डर है कि सुरज कि तपन बिक ना जाए।*
*हर जगह बिकने लगी है स्वार्थ नीति,
*डर है कि कहीं धर्म बिक ना जाए।*
*देकर दहेज खरिदा गया है अब दुल्हे को,
*कहीं उसी के हाथों दुल्हन बिक ना जाए।*
*हर काम कि रिश्वत ले रहे हैं ये नेता,
*कहीं इन्हीं के हाथों बर्तन बिक ना जाए।*
*सरेआम बिकने लगा है अब संसद,
*डर है कि कहीं संसद भवन बिक ना जाए।*
*आदमी मरा लेकिन आंखें खुली है,
*डरता है ,कि कहीं कफ़न बिक ना जाए।*
*बिक रहा है पानी, पवन बिक ना जाए।*

Read More

बारिश में नहाना तो आसान तों है
लेकिन रोज़ नहाने के लिए
बारिश के सहारे नहीं रह सकते
इसी प्रकार भाग्य से कभी कभी चिजे आसानी से मिल जाती है
किन्तु हमेशा भाग्य के भरोसे नहीं जी सकते

Read More

*જ્યાંથી અંત થયો હોય,*
*ત્યાંથી નવી શરૂઆત કરો.*

*જે મળવાનું હોય છે એ,*
*ગુમાવેલા કરતા હંમેશા*
*સારું જ હોય છે !!*

Read More

युं ही नहीं होती हाथों की लकीरों के आगे उंगलियां,
रब ने भी किस्मत से पहले महेनत लिखीं हैं।।

*જીંદગી એક એવી કવિતા છે,*
*સાહેબ....*

*જેને લખ્યા પછી ભુંસવા માટે રબ્બરનાં બદલે પોતાની જાત ને ઘસવી પડે છે.*

*Good Morning*

Read More

હિના

good morning

winner never quits
quitter never wins

દરેક શબ્દ સ્વર લઈ ને જન્મે છે
તેમ દરેક બાળક પણ
પોતાનું નસીબ લઈને જન્મે છે

સંબંધ હોય કે સફર જવાબ મળતો બંધ થાય
એટલે સમજવું કે
હવે વળાંક લેવાનો
સમય આવી ગયો છે