लेखनी मेरा विस्तार ..(3) पुसतकों का प्रकाशन.. "एक मुसाफिर ऐसा भी" बाल ठाकरे,"नस बंदी से नोट बंदी तक"काव्य संग्रह,"विकास पथ नरेन्द्र मोदी"Biography तीनों पुस्तकें"amazon" पर उपलब्ध हैं।

सफ़ा बदलते रहे किताब में दर्ज हो गई वक्त की कहानियाँ..
वक्त भी बदल गया,मिट गई निशानियाँ...
... #अनामिका

खो गया बचपन,खो गई नादानी...
फिर भी बचपन भूल न सका,अपनी शैतानी...
.. #अनामिका

भ्रष्टाचारियों को खत्म करना है मेरा अभियान
ठीक से देखो मुझे मैं हूँ हिंदुस्तान.. # डॉ रीना

हाय, मातृभारती पर इस कहानी 'एक कदम आत्मनिर्भरता की ओर - 4' पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19870196/ek-kadam-aatmnirbharta-ki-aur-4

हमसभी रंगमंच की कठपुतलियां हैं हमारा हंसना रोना किरदार नहीं निश्चित करता.. दर्शक का स्वभाव निश्चित करता है.. #डॉ रीना

Read More

वैश्विक स्पर्धा के इस चलित वातावरण पर दृष्टिपात करने पर हम इस नतीजे पर पहुंचतें हैं कि विश्व को व्यवसायिक स्तर पर सुदृढ़ बनाएं रखने वाली भाषा हिंदी ही है, इसका कोई विकल्प नहीं•••••
#हिंदी_का_विस्तार
#अनामिका

Read More

चेतन ही नहीं जड़ की गत्यात्मक गतिविधियों का संचार ध्वनि द्वारा अपनी मौजूदगी का एहसास कराता है.. जो भाषा बनकर हमारे ह्रदय की अतल गहराइयों में उतर जाता है...
तो आओ करें हम मिलजुल कर भाषा का विस्तार..
# अनामिका
#हिंदी_का_विस्तार

Read More

आकस्मिक कुछ नहीं होता जग में..
सबका निश्चित विधान यहाँ,
परिधान अलग है, मान अलग है..
जाने कि तिथि, पहचान अलग है...
काम अलग है, नाम अलग है...
इंसान की पहचान अलग है...
#अनामिका

Read More

हम अतिवाद में जीते हैं
इसलिए सब कुछ खोते हैं..
.... #अतिवाद
#अनामिका

"तुम कहो तो मैं ठहर जाऊं रूठकर भी तुमसे कहाँ जाऊं
बात इतनी सी होती और बात थी..
जज्बातों की वो पहली मुलाकात थी... "
#अनामिका

Read More